Friday, July 19, 2024
Homeराजनीति'अति महत्वाकांक्षी हैं सिद्धू': पंजाब कॉन्ग्रेस में थम नहीं रही कलह, गृह मंत्री रंधावा...

‘अति महत्वाकांक्षी हैं सिद्धू’: पंजाब कॉन्ग्रेस में थम नहीं रही कलह, गृह मंत्री रंधावा ने की पद छोड़ने की पेशकश

रंधावा का कहना है कि जब से उन्हें गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है, तभी से नवजोत सिद्धू उनसे नाराज हैं।

पंजाब में विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू के कारण एक बार फिर से राज्य कॉन्ग्रेस में सियासी घमासान शुरू हो गया है। इसी क्रम में सिद्धू के दबाव से परेशान पंजाब के गृहमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने गृह मंत्रालय छोड़ने की पेशकश कर दी है। उन्होंने रविवार को सिद्धू को अति महत्वाकांक्षी बताया।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, रंधावा का कहना है कि जब से उन्हें गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है, तभी से नवजोत सिद्धू उनसे नाराज हैं। दरअसल, ड्रग्स केस के मामले में अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया को गिरफ्तार करने की माँग सिद्धू लंबे वक्त से कर रहे हैं। लेकिन अभी तक उन्हें गिरफ्तार नहीं किए जाने को लेकर वो आए दिन अपनी ही सरकार पर सवाल उठाते रहे हैं।

इस मामले में रंधावा कहते हैं कि मजीठिया पर केस कानून के आधार पर किया गया है, लेकिन सिद्धू जिस तरह का बर्ताव करते हैं, उससे बदलाखोरी का संदेश जा रहा है। उन्होंने ये भी कहा इस मामले में कानून के अनुसार की कार्रवाई होगी।

सिद्धू का विवाद

ऐसा नहीं है कि ये कोई पहली बार है कि सिद्धू के कारण पंजाब कॉन्ग्रेस में कलह पैदा हुई हो। सिद्धू खुद को पंजाब का सीएम चेहरा घोषित करवाना चाहते हैं। कॉन्ग्रेस द्वारा सामूहिक तौर पर चुनाव लड़े जाने के फैसले के बाद सिद्धू ने बागी अंदाज 29 दिसंबर 2021 को आलाकमान से सीएम फेस घोषित करने की माँग की थी। उन्होंने कहा था बिना दूल्हे के बाराती कैसा? लेकिन सिद्धू की अति महत्वाकांक्षा पर एक वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता ने सिद्धू के अंदर टीम भावना की कमी बताई थी।

इसी तरह से सिद्धू मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी को लेकर भी कह चुके हैं कि जिस तरह से पूर्व पीएम मनमोहन सिंह सोनिया गाँधी के इशारे पर नाचते थे। वो चाहते हैं कि चन्नी भी वैसा ही करें।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -