Thursday, April 25, 2024
Homeराजनीतिउत्तराखंड: रुझानों में BJP बहुमत के पार, CM धामी और कॉन्ग्रेस के हरीश रावत...

उत्तराखंड: रुझानों में BJP बहुमत के पार, CM धामी और कॉन्ग्रेस के हरीश रावत चल रहे हैं पीछे

उत्तराखंड में 70 विधानसभा सीट है। बहुमत के लिए 36 सीटें चाहिए। इस बार 65.10 प्रतिशत मतदान हुआ, जो 2017 के विधानसभा चुनावों (65.56) से थोड़ा ही कम है।

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए वोटों की गिनती जारी है। रुझानों में बीजेपी ने बहुमत हासिल कर लिया है। हालाँकि, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी खटीमा सीट से पीछे चल रहे हैं। वे इस सीट से 2 बार के विधायक हैं। वहीं, कॉन्ग्रेस के सीएम चेहरा हरीश रावत भी लाल कुआँ सीट से पीछे चल रहे हैं। राज्य में 60 सीटों पर रुझान आ गए हैं। बीजेपी 37 और कॉन्ग्रेस 18 पर आगे चल रही है, जबकि 5 सीटों पर बसपा समेत अन्य पार्टी के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।

फोटो साभार: ECI

इन सीटों पर है भाजपा की भाजपा की बढ़त

मंगलौर में बसपा प्रत्याशी सरवत करीम अंसारी दो राउंड की गिनती में करीब 1130 वोटों से आगे चल रहे हैं। यहाँ कॉन्ग्रेस से काजी निजामुद्दीन चुनाव लड़ रहे हैं। कैंट विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी सविता कपूर दो हजार मतों से आगे चल रही हैं। सल्ट विधानसभा सीट पर भाजपा 175 से, जागेश्वर में 700 से भाजपा आगे, अल्मोड़ा में 170 से भाजपा आगे, द्वाराहाट में 550 से और रानीखेत में 400 वोट से भजपा आगे है।

उत्तराखंड में 70 विधानसभा सीट है। बहुमत के लिए 36 सीटें चाहिए। इस बार 65.10 प्रतिशत मतदान हुआ, जो 2017 के विधानसभा चुनावों (65.56) से थोड़ा ही कम है। निर्वाचन आयोग ने 8 जनवरी को चुनावों का ऐलान किया था। 14 फरवरी को मतदान हुआ, जिसमें हरिद्वार में सबसे ज्यादा 67.58 प्रतिशत मतदान हुआ। वहीं नामांकन की बात करें तो पूरे प्रदेश में 750 प्रत्याशियों ने नामांकन किया, जिसमें देहरादून में सबसे ज्यादा प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया। देहरादून जिले की 10 सीटों में कुल 144 लोगों ने नामांकन दाखिल किया। इसी तरह हरिद्वार जिले की 11 सीटों पर 131, उधमसिंह नगर की 9 सीटों पर कुल 89 प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया। वहीं सबसे कम नामांकन चंपावत जिले में देखने को मिला यहाँ 3 विधानसभा सीटों को मिलाकर कुल 16 ही प्रत्याशी मैदान में खड़े हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक में सारे मुस्लिमों को आरक्षण मिलने से संतुष्ट नहीं पिछड़ा आयोग, कॉन्ग्रेस की सरकार को भेजा जाएगा समन: लोग भी उठा रहे सवाल

कर्नाटक राज्य में सारे मुस्लिमों को आरक्षण देने का मामला शांत नहीं है। NCBC अध्यक्ष ने कहा है कि वो इस पर जल्द ही मुख्य सचिव को समन भेजेंगे।

मार्क्सवादी सोच पर नहीं करेंगे काम: संपत्ति के बँटवारे पर बोला सुप्रीम कोर्ट, कहा- निजी प्रॉपर्टी नहीं ले सकते

संपत्ति के बँटवारे केस सुनवाई करते हुए सीजेआई ने कहा है कि वो मार्क्सवादी विचार का पालन नहीं करेंगे, जो कहता है कि सब संपत्ति राज्य की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe