Tuesday, April 16, 2024
Homeराजनीतिबंगाल में एंट्री की तैयारी कर रहे ओवैसी को लगा झटका: TMC में शामिल...

बंगाल में एंट्री की तैयारी कर रहे ओवैसी को लगा झटका: TMC में शामिल हुए AIMIM के कार्यकारी अध्यक्ष सहित कई सदस्य

असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के कई सदस्यों ने टीएमसी का दामन थाम लिया हैं, जिसमें पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष एसके अब्दुल कलाम और संयोजक शेख अनवर हुसैन पाशा भी शामिल है।

पश्चिम बंगाल में 2021 के विधानसभा चुनाव करीब आते आते राजनीतिक परिदृश्य में काफी बदलाव देखने को मिल रहा है। कौन कब किस पार्टी का दामन थाम ले इसे लेकर कुछ भी कहा नहीं जा सकता। हाल ही में जहाँ तृणमूल कॉन्ग्रेस के कई दिग्गजों ने पार्टी से नाता तोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए।

वहीं अब खबर आ रही है कि शनिवार (9 जनवरी, 2021) को असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के कई सदस्यों ने टीएमसी का दामन थाम लिया हैं, जिसमें पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष एसके अब्दुल कलाम और संयोजक शेख अनवर हुसैन पाशा भी शामिल है। AIMIM नेता और उनके समर्थक पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य की उपस्थिति में TMC में शामिल हुए।

कोलकाता टीएमसी मुख्यालय में पार्टी में शामिल होने के बाद कलाम ने कहा कि पश्चिम बंगाल में कई वर्षों से शांति और अमन का माहौल है। उन्होंने ‘जहरीली हवा’ को दूर रखने के पार्टी बदली है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए एसके अब्दुल कलाम ने कहा, “हमने देखा है कि पश्चिम बंगाल शांति का नजारा हुआ करता था। लेकिन देर से ही सही यहाँ की हवा जहरीली हो गई है और इसे ठीक करना है। इसीलिए मैंने तृणमूल कॉन्ग्रेस में शामिल होने का फैसला किया।”

एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पर हमला करते हुए एआईएमआईएम के पश्चिम बंगाल संयोजक शेख अनवर हुसैन पाशा ने कहा कि पश्चिम बंगाल में यह समय पॉलिटिकल एंट्री के लिए ठीक नहीं है। उन्होंने दावा किया किअसदुद्दीन ओवैसी की पार्टी भाजपा को सिर्फ वोटों का ध्रुवीकरण करने में मदद करेगी।

गौरतलब है कि बिहार में पाँच सीटें जीतने और कुछ सीटों पर स्पॉइलर खेलने के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि पश्चिम बंगाल में एआईएमआईएम के आगामी विधानसभा चुनावी समर में उतरने से यहाँ के समीकरण बदल सकते हैं।

वहीं मुस्लिम वोटर्स का समीकरण बिखरने की चिंता को लेकर टीएमसी प्रमुख ममता ने ओवैसी पर निशाना साधते हुए कहा था कि पश्चिम बंगाल में साम्प्रदायक सौहार्द बिगाड़ने और अल्पसंख्यकों के वोट का ध्रुवीकरण करने के लिए भाजपा एआईएमआईएम को लेकर आई है। भाजपा मुस्लिम वोट बाँटने के लिए हैदराबाद से एक पार्टी लाने के लिए करोड़ों खर्च कर रही है।

ममता बनर्जी के इस बयान का जवाब देते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था, “मुझे पैसों से खरीदने वाला आज तक कोई पैदा नहीं हुआ। ममता बनर्जी के आरोप निराधार हैं, उन्हें अपने घर के बारे में फिक्र होनी चाहिए। उनकी पार्टी के कई लोग बीजेपी में जाना शुरू कर चुके हैं। उन्होंने बिहार के मतदाताओं और हमारे लिए वोट करने वाले लोगों का अपमान किया है।”

ओवैसी ने कहा कि मुस्लिम वोटर्स ममता बनर्जी की जागीर नहीं हैं। इसके अलावा ओवैसी का कहना था कि ममता को ऐसे मुस्लिम नहीं पसंद हैं, जो खुद के लिए सोच और बोल सकते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सोई रही सरकार, संतों को पीट-पीटकर मार डाला: 4 साल बाद भी न्याय का इंतजार, उद्धव के अड़ंगे से लेकर CBI जाँच तक जानिए...

साल 2020 में पालघर में 400-500 लोगों की भीड़ ने एक अफवाह के चलते साधुओं की पीट-पीटकर निर्मम हत्या कर दी थी। इस मामले में मिशनरियों का हाथ होने का एंगल भी सामने आया था।

‘मोदी की गारंटी’ भी होगी पूरी: 2014 और 2019 में किए इन 10 बड़े वादों को मोदी सरकार ने किया पूरा, पढ़ें- क्यों जनता...

राम मंदिर के निर्माण और अनुच्छेद 370 को निरस्त करने से लेकर नागरिकता संशोधन अधिनियम को अधिसूचित करने तक, भाजपा सरकार को विपक्ष के लगातार कीचड़ उछालने के कारण पथरीली राह पर चलना पड़ा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe