Tuesday, May 17, 2022
Homeराजनीतिबंगाल की 44 सीटों पर डाले जा रहे वोट, कूच बिहार में बीजेपी वर्करों...

बंगाल की 44 सीटों पर डाले जा रहे वोट, कूच बिहार में बीजेपी वर्करों पर हमला; EC से टीएमसी ने की शिकायत

“ममता दीदी और टीएमसी को पश्चिम बंगाल से हटाना सबसे बड़ी चुनौती है। अरूप बिस्वास (निर्वाचन क्षेत्र से टीएमसी उम्मीदवार) उनके सभी कार्यों में उनका दाहिना हाथ रहे हैं। इसलिए यहाँ आतंक का माहौल बदलना एक चुनौती है।”

पश्चिम बंगाल में आज (अप्रैल 10, 2021) चौथे चरण के तहत 44 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं। इसके तहत दक्षिण बंगाल के हावड़ा (भाग दो), दक्षिण 24 परगना (भाग तीन), हुगली (भाग दो) और उत्तर बंगाल के अलीपुरद्वार तथा कूचबिहार में 1,15,81,022 मतदाता 373 उम्मीदवारों के भविष्य का फैसला करेंगे।

आज होने वाले मतदान में हावड़ा की नौ, दक्षिण 24 परगना की 11, अलीपुरद्वार की पाँच, कूच बिहार की नौ और हुगली की 10 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं। जिन प्रमुख उम्मीदवारों की किस्मत इस चरण में दाँव पर लगी है उनमें बंगाल रणजी के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी (शिबपुर सीट, तृणमूल कॉन्ग्रेस) और राज्य के शिक्षा मंत्री और बेहला पश्चिम सीट से वर्तमान विधायक पार्थ चटर्जी, टॉलीगंज सीट पर भाजपा के केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो, बेहला पूर्व सीट पर भाजपा की उम्मीदवार पायल सरकार, दोमजुर सीट पर हाल ही में भाजपा का दामन थामने वाले पूर्व वन मंत्री राजीव बनर्जी शामिल हैं। इसके अलावा हुगली के चिन्सुराह सीट पर भाजपा सांसद और अभिनेत्री लॉकेट चटर्जी की किस्मत भी इस चरण में ईवीएम में लॉक होगी।

इस बीच कोलकाता के टॉलीगंज से भाजपा उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो ने कहा, “ममता दीदी और टीएमसी को पश्चिम बंगाल से हटाना सबसे बड़ी चुनौती है। अरूप बिस्वास (निर्वाचन क्षेत्र से टीएमसी उम्मीदवार) उनके सभी कार्यों में उनका दाहिना हाथ रहे हैं। इसलिए यहाँ आतंक का माहौल बदलना एक चुनौती है।” 

बता दें कि टॉलीगंज दक्षिण कोलकाता का विधानसभा क्षेत्र है। यह सीट टीएमसी का अभेद्य दुर्ग मानी जाती है। टीएमसी यह सीट 2001 से लगातार जीतती आई है। तीन बार से तो अरूप बिस्वास ही जीतते रहे हैं। वे पीडब्ल्यूडी मंत्री भी हैं। भाजपा ने उनके सामने बाबुल सुप्रियो को उतारा है।

चौथे चरण का मतदान शुरू होते ही राज्य से हिंसा की भी खबरें आने लगी है। कूच बिहार जिले के सीतलकुची निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा कार्यकर्ताओं पर कथित रूप से हमला किया गया। भाजपा के एक कार्यकर्ता को चोटें आईं हैं। बीजेपी ने इसके लिए टीएमसी को जिम्मेदार ठहराया है।

वहीं टीएमसी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि सीतलकुची, नटबरी, तुफानगंज और दिनहाटा में कई बूथों पर उसके एजेंटों को बूथ में प्रवेश करने से रोका जा रहा है। टीएमसी ने चुनाव आयोग से आवश्यक कार्रवाई की माँग की है। 

प्रदेश की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी ने ‘मतदाताओं को प्रभावित’ करने के लिए केंद्रीय बलों का ‘जबरदस्त दुरूपयोग’ किए जाने का आरोप तक लगा दिया। जिसके बाद चुनाव आयोग ने उनको दूसरी बार नोटिस भेजा। इससे पहले चुनाव आयोग ममता बनर्जी को सभी मुसलमान एकजुट होने वाले बयान पर भी नोटिस जारी किया था। चुनाव आयोग ने कहा कि बीएसएफ देश की बेहतरीन फोर्स में से एक है इस पर टीएमसी की ओर से आरोप लगाना दुर्भाग्यपूर्ण है। 

बता दें कि बंगाल में इससे पहले तीन चरणों में मतदान हो चुका है। 8 चरणों में वोटिंग होनी है। पश्चिम बंगाल में तीसरे चरण में 6 अप्रैल को 31 विधानसभा सीटों पर 84.61 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। राज्य में पहले और दूसरे चरण में क्रमश: 84.13 और 86.11 फीसदी मतदान हुआ था। राज्य में विधानसभा की 294 सीटों में से 91 पर चुनाव संपन्न हो गया है और आज 44 सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं। नतीजे दो मई को पाँच राज्यों के परिणाम के साथ ही घोषित होंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभिनेत्री के घर पहुँची महाराष्ट्र पुलिस, लैपटॉप-फोन सहित कई उपकरण जब्त किए: पवार पर फेसबुक पोस्ट, एपिलेप्सी से रही हैं पीड़ित

अभिनेत्री ने फेसबुक पर 'ब्राह्मणों से नफरत' का आरोप लगाते हुए 'नर्क तुम्हारा इंतजार कर रहा है' - ऐसा लिखा था। हो चुकी हैं गिरफ्तार। अब घर की पुलिस ने ली तलाशी।

जिसे पढ़ाया महिला सशक्तिकरण की मिसाल, उस रजिया सुल्ताना ने काशी में विश्वेश्वर मंदिर तोड़ बना दी मस्जिद: लोदी, तुगलक, खिलजी – सबने मचाई...

तुगलक ने आसपास के छोटे-बड़े मंदिरों को भी ध्वस्त कर दिया और रजिया मस्जिद का और विस्तार किया। काशी में सिकंदर लोदी और खिलजी ने भी तबाही मचाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,297FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe