Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिबंगाल: 2 सीटों पर राहुल गाँधी की रैली, दोनों जगह कॉन्ग्रेस उम्मीदवार की जमानत...

बंगाल: 2 सीटों पर राहुल गाँधी की रैली, दोनों जगह कॉन्ग्रेस उम्मीदवार की जमानत जब्त; साथी भी लाज नहीं बचा पाए

मतिगारा-नक्सलबाड़ी सीट पर कॉन्ग्रेस का बीते एक दशक से कब्जा था। लेकिन इस बार उसके उम्मीदवार 9% वोट पाकर तीसरे स्थान पर रहे। गोलपोखर में भी कॉन्ग्रेस उम्मीदवार तीसरे स्थान पर रहे और उन्हें महज 12% वोट मिले।

292 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा की तस्वीर स्पष्ट हो चुकी है। 213 सीटों के साथ तृणमूल कॉन्ग्रेस लगातार तीसरी बार सरकार बनाने जा रही है। 2016 में 3 सीटें पाने वाली बीजेपी ने 77 सीटें हासिल कर राज्य के मुख्य विपक्षी दल का तमगा हासिल कर लिया है। इस बार चुनाव में सबसे बुरी गत कॉन्ग्रेस और उसकी चुनावी साथी वाम दलों की हुई है।

दिलचस्प यह है कि कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने जिन दो सीटों पर रैली की, वहाँ कॉन्ग्रेस उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई। ये सीटें हैं मतिगारा-नक्सलबाड़ी और गोलपोखर। यहाँ 14 अप्रैल को राहुल की रैलियाँ हुई थी। मतिगारा-नक्सलबाड़ी सीट पर कॉन्ग्रेस का बीते एक दशक से कब्जा था। लेकिन इस बार उसके उम्मीदवार रहे निवर्तमान विधायक शंकर मालाकार 9% वोट पाकर तीसरे स्थान पर रहे। गोलपोखर में भी कॉन्ग्रेस उम्मीदवार तीसरे स्थान पर रहे और उन्हें महज 12% वोट मिले। 2006 और 2016 में इस सीट पर भी कॉन्ग्रेस को सफलता मिली थी।

मतिगारा-नक्सलबाड़ी में बीजेपी को मिली है जीत (साभार: चुनाव आयोग)

दो मई को आए नतीजों पर गौर करें तो पता चलता है कि कॉन्ग्रेस-वाम दलों के गठबंधन ने जिसमें इंडियन सेक्युलर फ्रंट (ISF) भी थी, के उम्मीदवार केवल 42 सीटों पर जमानत बचा पाए हैं। किसी भी उम्मीदवार की जमानत तब जब्त होती है जब वह कुल पड़े मतों का 16.5 फीसदी हासिल करने में असफल रहता है। चुनाव आयोग के आँकड़ों पर गौर करने पर पता चलता है कि इस गठबंधन के 85 फीसदी उम्मीदवारों की जमानत इस चुनाव में नहीं बची है।

गोलपोखर में भी कॉन्ग्रेस उम्मीदवार की नहीं बची जमानत (साभार: चुनाव आयोग)

कॉन्ग्रेस के 11, वाम दल के 21 और ISF के 10 उम्मीदवार ही जमानत बचा पाए। इन चुनावों में कॉन्ग्रेस और लेफ्ट दोनों का खाता नहीं खुल पाया। कॉन्ग्रेस को 2.94% तो वाम दलों को लगभग 5% वोट मिले हैं। वहीं ISF एक सीट जीतने में कामयाब रही है।

बंगाल में किसको कितनी सीटें (साभार: चुनाव आयोग)

आईएसएफ चार सीटों पर दूसरे नंबर पर भी रही। इससे बंगाल में फुरफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी के प्रभाव का भी पता चलता है। वाम दल और कॉन्ग्रेस भी चार-चार सीटों पर दूसरे नंबर पर रही। लेकिन, गौर करने वाली बात यह है कि कॉन्ग्रेस 90 और वाम दल 170 सीटों पर लड़े थे, जबकि आईएसएफ ने 30 सीटों पर ही अपने प्रत्याशी उतारे थे।

गौरतलब है कि कॉन्ग्रेस ने बंगाल में न केवल उन वाम दलों से गठबंधन किया था, जिनसे वह केरल में मुकाबिल थी, बल्कि बंगाल चुनाव से उसके शीर्ष परिवार ने दूरी भी बना रखी थी। लेकिन, असम और केरल में भी राहुल और प्रियंका के जोर लगाने के बावजूद कॉन्ग्रेस अपनी किस्मत बदलने में कामयाब नहीं हो पाई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,739FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe