Thursday, May 23, 2024
Homeराजनीतिबंगाल: मतदान देने आई महिला से 'कुल्हाड़ी वाली' मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा-...

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

“मैं अपने बच्चे को कहाँ खोजूँ?” वह कहती है, “मैं किसी सरकार को नहीं चाहती। यहाँ तमाम मुस्लिम महिलाएँ दाओ (कुल्हाड़ी) के साथ लोगों को काटने आईं। उन्होंने मुझे डराया कि अगर मैंने बच्चा नहीं दिया तो वह मेरे बच्चे को मार देंगें।”

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के चुनाव के बीच हिंसा की खबरें लगातार आ रही हैं। टीवी 9 बांग्ला के अनुसार आज शीतलकुची विधानसभा क्षेत्र के जोरापटकी इलाके में मतदान केंद्र पर वोट डालने गई एक महिला ने इसी हिंसा के बीच अपना बच्चा खो दिया।

रिपोर्ट्स के अनुसार, महिला अपना वोट डालने जैसे ही मतदान केंद्र में घुसी, तभी हिंसक भीड़ वहाँ बमबारी और गोलीबारी करने लगी। उसने बताया, “जब मैं बटन दबाने चली, वहाँ लड़ाई शुरू हो गई। हर जगह खून खराबा मच गया। मैं अपने बच्चे के साथ मतदान केंद्र से बाहर ही नहीं जा पाई।” 

महिला बताती है कि कैसे उपद्रवियों ने उसके बाल खीचें और उसके बच्चे को छीन कर अपने साथ ले गए। अब वह सबसे बस रोते हुए यही पूछ रही है, “मैं अपने बच्चे को कहाँ खोजूँ?” वह कहती है, “मैं किसी सरकार को नहीं चाहती। यहाँ तमाम मुस्लिम महिलाएँ दाओ (कुल्हाड़ी) के साथ लोगों को काटने आईं। उन्होंने मुझे डराया कि अगर मैंने बच्चा नहीं दिया तो वह मेरे बच्चे को मार देंगें।”

जानकारी के अनुसार, महिला के अलावा उसके रिश्तेदार का बच्चा भी गायब है। उसने प्रशासन से अपील की है कि उसका और उसके रिश्तेदार का बच्चा वापस दिलवाया जाए।

टीवी9 द्वारा अपलोड की गई वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

टीएमसी पार्टी ने इस घटना में पीड़िता को झूठा करार दिया है और उसके विलाप को नाटक कहा है। नेता का कहना है कि बच्चा महिला के ही पास है जबकि पुलिस लगातार इन कोशिशों में लगी है कि वह महिला को आश्वस्त कर पाएँ कि उनका बच्चा जल्दी घर लौट आएगा।

बता दें कि बंगाल में चौथे चरण का मतदान आज चार जिलों में हो रहे हैं। इस बीच हिंसा की कई खबरें लगातार आ रही हैं। टीएमसी के गुंडे भाजपा समर्थकों को रोकने के लिए लगातार उन्हें निशाना बना रहे हैं।

चौथे चरण में मतदाताओं और सुरक्षाबल पर TMC ने किया हमला

उत्तरी बंगाल के कूच बिहार में फायरिंग में 4 लोग मारे गए हैं। कूच बिहार के सीतलकुची में वोटिंग करने के लिए मतदान केंद्र पर लाइन में खड़े एक 18 साल के युवक की हत्या कर दी गई है। मृतक की पहचान आनंद बर्मन के तौर पर हुई है।

बीजेपी की ओर से आरोप लगाया गया है कि आनंद जब वोट देने के लिए कतार में खड़ा था, उसी समय टीएमसी के गुंडों ने उस पर बंदूक और बम से हमला किया। चुनाव आयोग ने इस मामले पर संज्ञान लिया है और प्रशासन से एक्शन रिपोर्ट माँगी है।

वहीं ममता बनर्जी द्वारा सुरक्षाबल का घेराव करने की बात कहने के बाद एक भीड़ ने CISF पर भी हमला किया। ये घटना कूच बिहार जिले के सीतलकुची विधान सभा में माथाभांगा ब्लॉक के जोरापाटकी इलाके की है।

कूच बिहार एसपी ने अराजक तत्वों के खिलाफ सीआईएसएफ की कार्रवाई को सही ठहराते हुए कहा कि कार्रवाई ‘आत्मरक्षा’ में की गई। उन्होंने कहा कि 300-350 लोगों की भीड़ ने CISF की टीम पर हमला किया था और उनके हथियार छीनने की कोशिश की। जिसके बाद टीम उपद्रवियों पर गोली चलाने के लिए मजबूर हो गई। अधिकारी ने बताया, “दोनों पक्षों के बीच झड़प हुई और स्थानीय लोगों ने सीआईएसएफ का घेराव कर राइफल छीनने की कोशिश की, जिसके बाद सेंट्रल फोर्स ने ओपन फायरिंग की।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SRH और KKR के मैच को दहलाने की थी साजिश… आतंकियों ने 38 बार की थी भारत की यात्रा, श्रीलंका में खाई फिदायीन हमले...

चेन्नई से ये चारों आतंकी इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट से आए थे। इन चारों के टिकट एक ही PNR पर थे। यात्रियों की लिस्ट चेक की गई तो...

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -