Monday, August 15, 2022
Homeराजनीति₹20,00,00,000 मिले कैश: ED ने ममता सरकार के मंत्री पार्था चटर्जी की करीबी के...

₹20,00,00,000 मिले कैश: ED ने ममता सरकार के मंत्री पार्था चटर्जी की करीबी के घर पर मारा छापा, बंगाल शिक्षा बोर्ड घोटाले में हुई कार्रवाई

जाँच एजेंसी को ये कैश अर्पिता मुखर्जी के हाउस कैम्पस से मिली है। कैश इतना अधिक था कि कई बैंक कर्मचारियों को इसे गिनने के लिए लगाया गया। इसके साथ ही नोट गिनने की मशीन का भी सहारा लिया गया।

पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के मंत्री पार्था चटर्जी की पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (SSC)और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड घोटाले के मामले में मुश्किलें बढ़ सकती हैं। पार्था की करीबी अर्पिता मुखर्जी के कई ठिकानों पर प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शुक्रवार (22 जुलाई 2022) को ताबड़तोड़ छापेमारी की। इस दौरान एजेंसी ने मुखर्जी के ठिकाने से 20 करोड़ रुपए की भारी-भरकम रकम बरामद की।

रिपोर्ट के मुताबिक, जाँच एजेंसी को ये कैश अर्पिता मुखर्जी के हाउस कैम्पस से मिली है। कैश इतना अधिक था कि कई बैंक कर्मचारियों को इसे गिनने के लिए लगाया गया। इसके साथ ही नोट गिनने की मशीन का भी सहारा लिया गया। इतना ही नहीं मुखर्जी के घर से ईडी को 20 मोबाइल फोन भी मिले हैं। ईडी की छापेमारी में बरामद की गई नोटों की तस्वीर भी सामने आ गई है, जिसमें देखा जा सकता है कि नोटों का बड़ा सा ढेर एक कमरे में लगाया गया है, जिसमें 500 और 2000 रुपए के नोट शामिल हैं।

प्रवर्तन निदेशालय को इंटेलीजेंस इनपुट मिले थे, जिसके आधार पर ये कार्रवाई की गई। केंद्रीय जाँच एजेंसी लगातार अपनी जाँच का दायरा बढ़ाती जा रही है। ईडी की लिस्ट में मंत्री पार्था चटर्जी, शिक्षा मंत्री माणिक भट्टाचार्य, आलोक कुमार सरकार और कल्याण मॉय गांगुली समेत कई अन्य भी शामिल हैं। खबर ये भी है कि प्रवर्तन निदेशालय की एक टीम मंत्री पार्था चटर्जी के घर पर भी पिछले 11 घंटों से डेरा डाले हुए है। शिक्षा घोटाले के मामले में ईडी फुल एक्शन में है, वहीं इसके बाद से ममता सरकार अब सकते में है।

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को ईडी के अधिकारी सुबह करीब 8 बजे ही अर्पिता मुखर्जी के नकतला आवास पर रेड करने के लिए पहुँच गए थे। छापेमारी में किसी भी तरह की रुकावट से बचने के लिए एजेंसी अपने साथ बड़ी संख्या में सीआरपीएफ के जवानों की टुकड़ी को भी लेकर गई थी।

सीबीआई कर रही जाँच

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल शिक्षा घोटाले की जाँच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) कर रही है। केंद्रीय एजेंसी ने पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग की सिफारिशों पर सरकार द्वारा प्रायोजित व सहायता प्राप्त स्कूलों में समूह ‘सी’ और ‘डी’ के कर्मचारियों व शिक्षकों की भर्ती में हुई कथित अनियमितताओं की जाँच शुरू की है। ममता सरकार में मौजूदा उद्योग मंत्री पार्था चटर्जी उस समय शिक्षा मंत्री थे, जब कथित घोटाला हुआ था। सीबीआई दो बार उनसे पूछताछ कर चुकी है। पहली बार पूछताछ 25 अप्रैल, जबकि दूसरी बार 18 मई को की गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत: मृतक की जाति वाले टीचर ने नकारा भेदभाव, स्कूल में 8 में से 5 स्टाफ SC/ST

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत पर दावा कि आरोपित हेडमास्टर ने मटकी से पानी पीने पर मारा, जबकि अन्य लोगों का कहना है कि वहाँ कोई मटकी नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe