Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'कश्मीर में किसी को कोई डर नहीं, तिरंगा लेकर मजे से घूम रहे लोग':...

‘कश्मीर में किसी को कोई डर नहीं, तिरंगा लेकर मजे से घूम रहे लोग’: राहुल गाँधी की यात्रा में योगेंद्र यादव ने मोदी सरकार की कर दी तारीफ

"आप आज देखिए, ये लगभग उत्सव बन गया है। तमाम लोग तिरंगा लेकर घूम रहे हैं, अपने-अपने तरीके से।"

कॉन्ग्रेस पार्टी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में अहम भूमिका निभा रहे ‘स्वराज इंडिया’ के संस्थापक योगेंद्र यादव ने खुद एक तरह से मोदी सरकार के अच्छे कार्यों का बखान कर दिया है। राहुल गाँधी ने यात्रा के समापन के दौरान जम्मू कश्मीर के लाल चौक पर राष्ट्रध्वज तिरंगा झंडा फहराया। अब ‘इच्छाधारी आंदोलनजीवी’ कहे जाने वाले योगेंद्र यादव ने एक वीडियो में बताया है कि कैसे जम्मू कश्मीर में अमन का राज है और आतंकियों का अब कोई भय नहीं रहा।

योगेंद्र यादव ने कहा, “यही वो लाल चौक है। वैसे इस पूरे इलाके को लाल चौक कहा जाता है और इसे घंटाघर कहा जाता है, लेकिन भारत के बाक़ी लोगों के लिए यही लाल चौक है। ऐसा माना जाता है कि ये काफी खतरनाक जगह है और यहाँ पर आकर कोई तिरंगा नहीं लहरा सकता – ऐसी बातें की जाती हैं। और आप आज देखिए, ये लगभग उत्सव बन गया है। तमाम लोग तिरंगा लेकर घूम रहे हैं, अपने-अपने तरीके से।”

उन्होंने ‘ सार्वजनिक उत्सव’ बताते हुए इसकी पुष्टि की कि वहां सुरक्षा बल मौजूद हैं और किसी को किसी प्रकार का डर नहीं है। योगेंद्र यादव ने कहा कि किसी को ये डर नहीं है कि तिरंगा झंडा को देख कर कोई आएगा और उन्हें गोली मार देगा। उन्होंने ये भी बताया कि बिना सुरक्षा के सुबह से घूमने के बावजूद उन्हें कोई डर महसूस नहीं हुआ। योया ने ये भी कहा कि कुछ नहीं है, लोग मजे से घूम रहे हैं और माहौल शांत है।

‘भारत जोड़ो यात्रा’ समापन के दौरान इसीलिए भी विवादों में है, क्योंकि राहुल गाँधी का कटआउट वहाँ तिरंगे झंडे से ज्यादा ऊँचा देखा गया। लोग पूछ रहे हैं कि या भारत के फ्लैग कोड का उल्लंघन है या नहीं। लाल चौक पर भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी कई वर्ष पहले तिरंगा फहरा चुके हैं, जब उनके साथ तब भाजपा संगठन की जिम्मेदारी देख रहे नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे। तब मोदी ने आतंकियों को ललकारते हुए कहा था कि लाल चौक पर झंडा फहराने से कोई नहीं रोक सकता।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -