Monday, July 15, 2024
Homeराजनीतिअयोध्या में बनेगा मंदिरों का म्यूजियम, ₹750 करोड़ होगा खर्च: टाटा संस ने ली...

अयोध्या में बनेगा मंदिरों का म्यूजियम, ₹750 करोड़ होगा खर्च: टाटा संस ने ली निर्माण की जिम्मेदारी, योगी सरकार ने लगाई मुहर

टाटा समूह द्वारा इस म्यूजियम को बनाए जाने का प्रस्ताव सबसे पहले पिछले साल सामने आया था। पीएम मोदी ने इसे काफी पसंद किया। उसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत वरिष्ठ अधिकारियों को विस्तार से परियोजना के बारे में बताया गया।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में मंदिरों का एक बड़ा संग्रहालय बनने जा रहा है। ये संग्रहालय टाटा समूह द्वारा बनाया जाएगा जिसमें करीबन 650 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। आज उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के मंत्रिमंडल ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इस महत्वपूर्ण निर्णय के संबंध में जानकारी यूपी सरकार के एक्स हैंडल पर भी दी गई है। पोस्ट में बताया गया है कि विश्वस्तरीय मंदिर संग्रहालय के निर्माण एवं संचालन हेतु भूमि के उपयोग का लाइसेंस दिए जाने के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान कर दी गई है।

संग्रहालय के फैसले को लेकर उत्तर प्रदेश के पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने बताया कि टाटा समूह को म्यूजियम ऑफ टेंपल्स के लिए 1 रुपए के टोकन अमाउंट पर 90 सालों के लिए जमीन लीज पर दी जाएगी। यह संग्रहालय अत्याधुनिक होगा और उसे अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप बनाया जाएगा। म्यूजियम में भारत के प्रसिद्ध मंदिरों के स्थापत्य व इतिहास की जानकारियाँ प्रदर्शित की जाएगी। प्रस्तावित संग्रहालय में लाइट एंड साउंड शो की भी व्यवस्था की जाएगी।

इस म्यूजियम के निर्माण को लेकर टाटा संस ने कहा है कि वह अपने कॉरपोरेट सोशल रेस्‍पॉसिबिलिटी (CSR) फंड से 650 करोड़ रुपए खर्च कर टेंपल म्‍यूजियम बनाएँगे। यह म्‍यूजियम अयोध्‍या की सदर तहसील के मांझा जामतारा गाँव में बनाया जाएगा। इसके साथ गाँव के आसपास और भी इन्फ्रा तैयार होगा। इसके लिए लगभग 100 करोड़ रुपए खर्च होंगे। यानी कुल मिलाकर 750 करोड़ का निवेश किया जाएगा।

मालूम हो कि टाटा समूह द्वारा इस म्यूजियम को बनाए जाने का प्रस्ताव सबसे पहले पिछले साल सामने आया था। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस परियोजना से अवगत कराया गया था। पीएम को ये प्रस्ताव बहुत पसंद आया। उसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत वरिष्ठ अधिकारियों को विस्तार से परियोजना के बारे में बताया गया और अब खबर है कि इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई है।

उम्मीद की जा रही है कि जिस तरह यात्री राम मंदिर प्रभु के दर्शन करने आते हैं वैसे ही वो अयोध्या में आकर म्यूजियम को भी देखेंगे और इससे ये जगह एक पर्यटन स्थल के तौर पर और भी ज्यादा विकसित होगी। वहीं मंदिर के बारे में बताएँ तो मंदिर का काम भी 2025 तक समाप्त होने वाला है। वहीं पहली मंजिल का काम जुलाई के आखिर तक पूरा होने वाला है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -