Tuesday, July 27, 2021
Homeबड़ी ख़बर10% जनरल कोटा: 3 लाख सीटें बढ़ेंगी IIT-IIM सहित केंद्र-पोषित विश्वविद्यालयों में

10% जनरल कोटा: 3 लाख सीटें बढ़ेंगी IIT-IIM सहित केंद्र-पोषित विश्वविद्यालयों में

अगर राज्य सरकारें भी इस दिशा में पहल करती हैं, तो पूरे देश के शिक्षण संस्थानों में 25 प्रतिशत नई सीटों के और सृजन होने की उम्मीद है।

सामान्‍य वर्ग के आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों के लिए 10 प्रतिशत रिजर्वेशन के बाद केंद्र सरकार अब इसे धरातल पर उतारने की भी तैयारी में है। इसी दिशा में केंद्र द्वारा पोषित शिक्षण संस्थानों में सीटों को बढ़ाने के संबंध में मोदी सरकार ने अहम फैसला लिया है। IIT और IIM सहित सभी उच्च शिक्षण संस्थानों में तीन लाख तक सीटें बढ़ाई जाएंगी। सरकार ने इसे दो चरणों (2019-20 और 2020-21) में पूरा करने का निर्णय लिया है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी खबर के अनुसार मोदी सरकार के इस निर्णय से प्रीमियम शिक्षा संस्थानों और बड़े विश्वविद्यालयों में वर्ष 2021 तक लगभग इतनी सीटें बढ़ जाएंगी:

  • IIT – 5100 नई सीटें
  • IIM – 817 नई सीटें
  • NITs – 4500 नई सीटें
  • दिल्ली विश्वविद्यालय – 16375 नई सीटें
  • JNU – 346 नई सीटें
  • जामिया – 2275 नई सीटें
  • विश्व भारती – 822 नई सीटें

केंद्र सरकार ने देश की सभी राज्य सरकारों को भी उनके द्वारा पोषित शिक्षण संस्थानों में सामान्‍य वर्ग कोटे को समाहित करने के लिए नई सीटों के सृजन को लेकर पत्र लिखा है। अगर राज्य सरकारें इस दिशा में पहल करती हैं तो पूरे देश के शिक्षण संस्थानों में 25 प्रतिशत नई सीटों के और सृजन होने की उम्मीद है।

9.3 लाख छात्र: केंद्र वित्तपोषित संस्थाओं की वर्तमान स्थिति

IIT, IIM, NIT, IISC सहित सभी केंद्रीय विश्वविद्यालय, केंद्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, सरकारी कॉलेज, डीम्ड यूनिवर्सिटी और अनुदान प्राप्त कॉलेजों में फ़िलहाल 9.3 लाख विद्यार्थियों के शिक्षा की व्यवस्था है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

विवाद की जड़ में अंग्रेज, हिंसा के पीछे बांग्लादेशी घुसपैठिए? असम-मिजोरम के बीच झड़प के बारे में जानें सब कुछ

असल में असम से ही कभी मिजोरम अलग हुआ था। तभी से दोनों राज्यों के बीच सीमा-विवाद चल रहा है। इस विवाद की जड़ें अंग्रेजों के काल में हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe