Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयiPhone बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी चायनीज फैक्ट्री में बवाल: लात-घूँसों से मजदूरों...

iPhone बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी चायनीज फैक्ट्री में बवाल: लात-घूँसों से मजदूरों का विद्रोह, हजारों छोड़ कर भागे

आईफोन बनाने वाले फॉक्सकॉन के ही कर्मचारियों ने चीन से लाइव वीडियो शेयर किए। इन वीडियो में देखा जा सकता है कि हजारों की संख्या में मजदूर विरोध कर रहे, हाथापाई भी होते देखा जा सकता है। डर के मारे कुछ मजदूर पलायन भी कर गए।

एपल को सबसे ज्यादा आईफोन बना कर देने वाली फैक्ट्री चीन में है और यहाँ बवाल मचा हुआ है। जेंगझाउ (Zhengzhou) शहर में स्थित फॉक्सकॉन (Foxconn) की फैक्ट्री में हजारों मजदूरों ने विरोध शुरू कर दिया है, लात-घूँसे भी चले हैं।

चायनीज वीडियो शेयरिंग ऐप काइशॉ (Kuaishou) पर फॉक्सकॉन के ही कर्मचारियों ने वहाँ के लाइव वीडियो शेयर किए। वहाँ के कुछ वीडियो ट्विटर पर भी हैं। इन वीडियो में देखा जा सकता है कि हजारों की संख्या में आईफोन (iPhone) बनाने वाले मजदूर विरोध कर रहे हैं, हाथापाई भी होते देखा जा सकता है।

कुछ वीडियो में मजदूरों को मिलने वाले खाने को लेकर शिकायत वाली बात भी है। कुछ वीडियो में यह दिखाया गया है कंपनी के वादे के अनुसार उन लोगों को न तो प्रति घंटे ज्यादा सैलरी दी जा रही है, न ही बोनस का भुगतान नहीं किया गया।

इन सब की शुरुआत हुई पिछले सप्ताह 1 लाख नए मजदूरों की बहाली से। चायनीज मीडिया (जो सब सरकारी ही होते हैं) ने तब इस खबर को खूब चलाया, पूरी दुनिया को दिखाया। जो छिपा लिया, वो खौफनाक है – यह कोविड से जुड़ा है, मजदूरों के जीवन-मौत से खिलवाड़ है।

चीन के जेंगझाउ (Zhengzhou) शहर में फॉक्सकॉन (Foxconn) की आईफोन बनाने वाली फैक्ट्री की क्षमता 2 लाख मजदूरों की है। इनके बहुत सारे मजदूरों को कोविड हो गया। उनको ठीक से क्वॉरंटाइन नहीं किया गया। बाकियों को भी कोविड फैल न जाए, इसके डर से हजारों मजदूर फैक्ट्री छोड़ कर भाग गए।

फैक्ट्री से हजारों की संख्या में भागते कर्मचारियों के वीडियो भी चायनीज सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुआ। कम मजदूर और कम उत्पादन के चक्कर में ही 1 लाख नए मजदूरों की बहाली की गई, वो भी ज्यादा सैलरी और बोनस वगैरह का लालच देकर।

नए मजदूरों को कंपनी की ओर से आश्वासन दिया गया था कि उन्हें पुराने मजदूरों से अलग रखा जाएगा, अलग काम कराया जाएगा। लेकिन ऐसा किया नहीं गया। इस कारण से नए मजदूरों को भी कोविड की चपेट में आ जाने का भय हुआ। और तो और, बोनस और नौकरी के नियम-कानून भी जो बोला गया था, उससे अलग था।

चीन में कोविड-कंट्रोल की नीति और फैक्ट्री में काम करने वाले मजदूरों के दमनकारी नियम-कानूनों के कारण यह हालात पैदा हुए। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि कोविड-कंट्रोल के नाम पर फॉक्सकॉन (Foxconn) की आईफोन बनाने वाली फैक्ट्री से कर्मचारी घर नहीं जा सकते। इन मजदूरों का रहना और काम करना सब कुछ इसी फैक्ट्री की चारदीवारी के भीतर होता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -