Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'बैसाखी के नाम पर अश्लीलता, बॉयकॉट कर देंगे': ऑस्ट्रेलिया में हिंदू-सिख जोड़े को खालिस्तानियों...

‘बैसाखी के नाम पर अश्लीलता, बॉयकॉट कर देंगे’: ऑस्ट्रेलिया में हिंदू-सिख जोड़े को खालिस्तानियों ने धमकाया, दंपत्ति ने कहा- इनके कारण डर से नींद नहीं आती

बैसाखी मेला आयोजित करने से नाराज कट्टरपंथियों ने आयोजकों में शामिल एक हिंदू-सिख जोड़े को परेशान भी किया। हरमीत कौर और राजेश ठाकुर का कहना है कि मेला आयोजित करने के लिए खालसा एड नाम के संगठन के लोगों ने उनके साथ मारपीट की। इतना ही नहीं खालिस्तानी समर्थकों द्वारा सोशल मीडिया पर भी उन्हें धमकी दी गई।

शनिवार (1 अप्रैल 2023) को ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तानी समर्थकों ने बैसाखी के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को बाधित कर दिया। घटना एडिलेड की है। जहाँ पंजाब ऑस्ट्रेलियाई एसोसिएशन ऑफ साउथ ऑस्ट्रेलिया इंक द्वारा बैसाखी मेला आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में भारतीय वाणिज्य दूतावास के अधिकारी मनीष गुप्ता को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया गया था।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार बैसाखी मेला आयोजित करने से नाराज कट्टरपंथियों ने आयोजकों में शामिल एक हिंदू-सिख जोड़े को परेशान भी किया। हरमीत कौर और राजेश ठाकुर ने आरोप लगाया है कि मेला आयोजित करने के लिए खालसा एड नाम के संगठन के लोगों ने उनके साथ मारपीट की। इतना ही नहीं खालिस्तानी समर्थकों द्वारा सोशल मीडिया पर भी उन्हें धमकी दी गई। धमकियों से डरे दंपति का कहना है कि वे डर के मारे रातों को सो नहीं पा रहे हैं।

जोड़े ने 31 मार्च को खालसा एड संगठन द्वारा मारपीट किए जाने और धमकी देने का आरोप लगाया। कट्टरवादी संगठन ने जोड़े को उनका कारोबार नष्ट करने की भी धमकी दी है। दंपति ने दावा किया कि उन्हें सोशल मीडिया पर सरबजीत सिंह पिपली नाम के शख्स ने बॉयकॉट की धमकी दी है। हरमीत कौर का कहना है कि खालिस्तानी समर्थकों द्वारा लगातार धमकी दी जा रही है। खालिस्तानियों का कहना है कि बैसाखी का नाम लेकर इस तरह का समारोह आयोजित करना त्योहार और सिंहों का अपमान है।

पिछले साल भी दंपति को खालिस्तानी संगठन खालसा एड के लोगों ने धमकी दी थी। उन्होंने मेले का नाम बदलने को लेकर राजेश ठाकुर को फोन किया था। रिपोर्टों के मुताबिक फोन पर खालसा एड के गुरिंदरजीत सिंह जस्सर ने धमकी देते हुए कहा था कि बैसाखी सिखों का त्योहार है। इस नाम का इस्तेमाल कर के अन्य कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जा सकते। जस्सर ने आरोप लगाया था कि इस बैसाखी के नाम पर आयोजित कार्यक्रम में अश्लीलता फैलाई जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हज पर मुस्लिम मर्द दबाते हैं बच्चियों-औरतों के स्तन, पीछे से सटाते हैं लिंग, घुसाते हैं उँगली… और कहते हैं अल्हम्दुलिल्लाह: जिन-जिन ने झेला,...

कुछ महिलाओं की मानें तो उन्हें यकीन नहीं हुआ इतनी 'पाक' जगह पर लोग ऐसी हरकत कर रहे हैं और ऐसा करके किसी को कोई पछतावा भी नहीं था।

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -