Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजिन्ना की बहन का पार्क बेच देगी इमरान सरकार, कंगाली से बचने के लिए...

जिन्ना की बहन का पार्क बेच देगी इमरान सरकार, कंगाली से बचने के लिए Pak को चाहिए 500 अरब रुपए

यह पाकिस्तान का सबसे हरा-भरा पार्क है। इस पार्क का नाम मुल्क की ‘मदर-ए-मिल्लत’ फातिमा जिन्ना के नाम पर है। यह 759 एकड़ में फैला हुआ है और देश के...

कर्ज के तले दबे पाकिस्तान की हालत अब दिन पर दिन खस्ता होती जा रही है। बावजूद ऐसी स्थिति के वह कर्ज उतारने की जगह अधिक लोन लेने के विकल्पों पर गौर फरमा रहा है। मीडिया की खबरों के अनुसार, अब पाकिस्तान की इमरान सरकार राजधानी इस्लामाबाद के सबसे बड़े पार्क को गिरवी रख कर 500 बिलियन रुपए का लोन लेने के जुगाड़ में है। 

यह पार्क इस्‍लामाबाद के F-9 सेक्‍टर में है, जिसे गिरवी रखने का प्रस्ताव मंगलवार (जनवरी 26, 2021) को कैबिनेट की बैठक में रखा जाएगा। इस पार्क का नाम मुल्क की ‘मदर-ए-मिल्लत’ फातिमा जिन्ना के नाम पर है।  फातिमा पाकिस्तान के ‘सबसे बड़े नेता’ मोहम्मद अली जिन्ना की बहन थीं। वर्तमान में यह पार्क 759 एकड़ में फैला हुआ है और देश के सबसे हरे-भरे इलाकों में स्थित है।

पाक मीडिया समाचार पत्र डॉन के मुताबिक, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाली बैठक को मंगलवार को इमरान खान के कार्यालय की ओर से आयोजित किया जाएगा। रिपोर्ट बताती है कि वित्‍तीय कंगाली की वजह से इमरान खान सरकार संघीय सरकार की संपत्ति एफ-9 पार्क को गिरवी रखेगी। इससे उसे 500 अरब रुपए लोन मिल जाएगा। कहा जा रहा है कि इस काम को करने के लिए इस्‍लामाबाद की कैपिटल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने पहले ही अनापत्ति प्रमाणपत्र हासिल कर लिया है। 

ज्ञात हो कि इससे पहले भी पाकिस्‍तान की कई सरकारें विभ‍िन्‍न संस्‍थानों और इमारतों को गिरवी रख चुकी हैं लेकिन इस बार इमरान सरकार दो कदम आगे चल कर मोहम्‍मद अली जिन्‍ना की बहन के नाम पर रखे पार्क को गिरवी रखने जा रही है।

बता दें कि इमरान सरकार का यह फैसला ऐसे समय में सामने आया है, जब सऊदी अरब, पाकिस्तान से अपने 3 बिलियन डॉलर जल्द से जल्द वापसी करने की माँग कर चुका है और आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा से मिलने के बाद भी वह अपने फैसले से नहीं हिला। अरब ने तो पाकिस्तान पर कार्रवाई करते हुए वहाँ के श्रमिकों को काम का वीजा जारी करने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है और सबसे हैरानी की बात यह है कि पाक के विदेश मंत्री द्वारा बातचीत के बावजूद उन्होंने इस प्रतिबंध को नहीं हटाया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पोस्टमॉर्टम से भी नहीं सुलझी दिल्ली में 9 साल की बच्ची की मौत का रहस्य: राहुल गाँधी पर पहचान सार्वजनिक करने का आरोप

दिल्ली के ओल्ड नांगल में 9 साल की बच्ची की संदेहास्पद हालत में मौत हो गई। आरोप है कि श्मशान घाट के भीतर रेप करने के बाद बच्ची को जला दिया गया।

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe