Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमिस्र में पुलिस ने इजरायल के 2 पर्यटकों को मार डाला, उनके गाइड की...

मिस्र में पुलिस ने इजरायल के 2 पर्यटकों को मार डाला, उनके गाइड की भी हत्या… कैबिनेट ने युद्ध की घोषणा, हमास आतंकियों के हमले में अब तक 600 मौतें

इजराइली विदेश मंत्रालय ने कहा है कि मिस्र के शहर अलेक्जेंड्रिया में इजराइल के दो पर्यटकों और उनके स्थानीय गाइड की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

इजरायली सीमावर्ती समुदायों पर हमास के हमले से मरने वालों की अनुमानित संख्या बढ़कर लगभग 600 हो गई है। इजरायली सेना के अनुसार, रविवार (8 अक्टूबर 2023) तक इजरायल में 600 से अधिक लोग मारे गए हैं, जिनमें से 44 सैनिक भी शामिल हैं। यह संघर्ष शुक्रवार को शुरू हुआ, जब हमास ने इजरायल पर 5000 से अधिक रॉकेट दागे। इजरायल ने जवाबी कार्रवाई में गजा में हमास के ठिकानों पर हवाई हमले किए।

वहीं, इजरायली कैबिनेट ने आधिकारिक तौर पर युद्ध की घोषणा कर दी है और इस विषय से जुड़े कानून को पास कर दिया है।

सीमाई इलाकों में ज्यादा नुकसान

आतंकवादी हमलों के बाद घायलों और मृतकों को संभालने वाले स्वयंसेवी समूह जका (ZAKA) के एक प्रवक्ता ने हिब्रू मीडिया को बताया कि 600 से अधिक इजरायली मारे गए हैं। कई शव तब मिले हैं जब इजरायली सेना हमास के बंदूकधारियों के साथ लड़ाई जारी रखे हुए है, और उन्हें सीमा पर रिहायशी इलाकों से बाहर निकाल रही है। इस संघर्ष ने दोनों पक्षों के लिए एक विनाशकारी स्थिति पैदा कर दी है। इजरायल में, कई इमारतें और बुनियादी ढाँचा क्षतिग्रस्त हो गया है। गाजा और आसपास के इलाकों में हजारों लोग बेघर हो गए हैं।

स्टेट ऑफ वॉर की घोषणा

इस बीच, अब इजरायली कैबिनेट ने आधिकारिक तौर पर युद्ध की घोषणा की कर दी है। साल 1973 के बाद पहली बार इजरायल आधिकारिक तौर पर किसी युद्ध को लड़ रहा है। इजरायल की सुरक्षा कैबिनेट ने हमास के एक बड़े हमले के बाद आधिकारिक तौर पर युद्ध में जाने के लिए मतदान किया है, जो 1973 के बाद से नहीं देखा गया है।

मिस्र में दो इजरायली पर्यटकों को मारी गोली

इजराइली विदेश मंत्रालय ने कहा है कि रविवार को मिस्र के शहर अलेक्जेंड्रिया में इजराइल के दो पर्यटकों और उनके स्थानीय गाइड की गोली मारकर हत्या कर दी गई। रविवार सुबह हुए हमले में एक अन्य इजरायली घायल हो गया, जिसे इजराइली विदेश मंत्रालय ने स्थानीय’ बताया है। दशकों बाद इजरायली नागरिकों पर मिस्र की तरफ से ये पहला हमला है। दोनों में सिनाई प्रायद्वीप को लेकर हुए समझौते के बाद से युद्ध विराम लागू है।

हमास के आतंकवादियों ने किस तरह से नृशंस हत्याओं को अंजाम दिया है और हत्या करके लोगों की भावनाओं को रौंदा है, उसका एक वीडियो हमास की तरफ से ही जारी किया गया है, जिसमें आतंकियों ने एक परिवार की 18 साल की लड़की की निर्मम हत्या कर दी, फिर उस पूरे परिवार को उनके ही घर में बंधक बना लिया। गोलीबारी के समय उनकी खराब मानसिक स्थिति के बावजूद वीडियो शूट किया और फिर वायरल कर दिया। हमास की कोशिश है कि वो इजरायली लोगों के हौसलों पर चोट करे।

इजरायल के पलटवार में 400 से ज्यादा आतंकी ढेर

इजरायल रक्षा बलों के प्रवक्ता, रियर एडमिरल डैनियल हगारी का कहना है कि सेना ने कल से शुरू हुई लड़ाई के दौरान दक्षिणी इजरायल और गजा पट्टी में 400 से अधिक फिलिस्तीनी आतंकवादियों को मार डाला और दर्जनों को पकड़ लिया। उन्होंने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “इस समय तक, (किबुत्ज) कफर अजा में सेनाएं लड़ रही हैं, बड़ी संख्या में कस्बों में तलाशी चल रही है। सभी शहरों में आईडीएफ बल हैं, ऐसा कोई शहर नहीं है जिसमें आईडीएफ बल नहीं है।”

हगारी का कहना है कि आईडीएफ का मिशन गाजा सीमा पर कस्बों से सभी निवासियों को निकालना, इजरायली क्षेत्र में लड़ाई को समाप्त करना, सुरक्षा अवरोध में उल्लंघनों को नियंत्रित करना और पट्टी में आतंकवादी स्थलों के खिलाफ हमले जारी रखना है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -