Tuesday, October 19, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयगुनाह, औरतों की बेशर्मी... अल्लाह का इम्तिहान: आमिर खान के करीबी मौलाना का सुर...

गुनाह, औरतों की बेशर्मी… अल्लाह का इम्तिहान: आमिर खान के करीबी मौलाना का सुर कोरोना संक्रमण से बदला

एक वीडियो संदेश में तारिक जमील ने कहा है कि अल्लाह की रहमत से 10 दिन अस्पताल में रहने के बाद वे ठीक हो गए हैं। उनके मुताबिक़ अल्लाह ने लोगों का इम्तिहान लेने के लिए यह महामारी भेजी है। लेकिन लोगों को मास्क पहनना चाहिए और सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) का पालन करना चाहिए।

तबलीगी जमात के चर्चित पाकिस्तानी मौलाना तारिक जमील कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे। इससे उबरने के बाद कोविड 19 पर उनकी राय बदल गई है। पहले उन्होंने इस महामारी के लिए औरतों को जिम्मेदार ठ​ठहराया था। लेकिन अब उनका मानना है कि अल्लाह इम्तिहान ले रहा है। इतना ही नहीं अब वह इससे बचाव के उपाय भी बता रहे हैं।

एक वीडियो संदेश तारिक जमील ने कहा है कि उन्हें नहीं पता था कि कोरोना वायरस क्या है। फिर वे इससे संक्रमित हो गए। अल्लाह की रहमत से 10 दिन अस्पताल में रहने के बाद वे ठीक हो गए हैं। उनके मुताबिक़ अल्लाह ने लोगों का इम्तिहान लेने के लिए यह महामारी भेजी है। लेकिन लोगों को मास्क पहनना चाहिए और सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) का पालन करना चाहिए। बुजुर्गों को इस बीमारी से सबसे ज़्यादा ख़तरा है।

जून 2020 में तारिक जमील ने कहा था कि कोरोना महामारी लोगों के गुनाहों का नतीजा है और इसे विज्ञान के आधार पर (साइंसी मोड) देखा और समझा जाना निन्दनीय है। इसके पहले अप्रैल 2020 में तारिक जमील ने एक कार्यक्रम में बोलते हुए महिलओं को कोरोना महामारी के लिए ज़िम्मेदार ठहराया था। इस कार्यक्रम में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान भी मौजूद थे। 

अपनी दुआ के दौरान तारिक लड़कों की तरह रोते हुए अल्लाह से गुज़ारिश कर रहा था कि वो दुनिया को कोरोना वायरस से बचा ले। उसका कहना था कि मुस्लिम महिलाओं और युवाओं के बेशर्म बर्ताव की वजह से अल्लाह ने लोगों को इतना कष्ट और पीड़ा दी है।  

कौन हैं मौलाना तारिक जमील?

मौलाना तारिक जमील इस्लामी उपदेशक, मज़हबी लेखक और तबलीगी जमात का सदस्य है। वह देवबंद से भी संबंधित हैं।

तारिक जमील का जन्म 1 जनवरी 1953 को पाकिस्तान के पंजाब राज्य स्थित मियाँ चन्नू में हुआ था। उनकी पढ़ाई लाहौर के गवर्नमेंट कॉलेज यूनिवर्सिटी से हुई है। इस्लामी शिक्षा जामिया, अरबिया रैविंद (raiwind) से पूरी की जहाँ उन्होंने कुरान, हदीस, सूफ़ी, तर्क और इस्लाम से जुड़े क़ानून का अध्ययन किया। 

मौलाना तारिक जमील का शहरी मुस्लिमों पर अच्छा-खासा प्रभाव है। मुस्लिम 500 के अनुसार, “पाकिस्तान के फैसलाबाद में मदरसा चलाने के साथ-साथ मौलाना तारिक ने दुनिया भर में हज़ारों भाषण दिए हैं। व्यवसायी से लेकर मंत्री, अभिनेता और खिलाड़ी तक, मौलाना तारिक हर वर्ग को प्रभावित करने में सफल रहे हैं।” तबलीगी उपदेशक के बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान से भी काफी करीबी रिश्ते हैं। उनका दावा है कि हज के दौरान लंबी मुलाक़ात के बाद बॉलीवुड अभिनेता उन्हें अक्सर संदेश भेजते रहते हैं।    

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान हारे भी न और टीम इंडिया गँवा दे 2 अंक: खुद को ‘देशभक्त’ साबित करने में लगे नेता, भूले यह विश्व कप है-द्विपक्षीय...

सृजिकल स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले और मंच से 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' का नारा लगवाने वाले भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच रद्द कराने की माँग कर 'देशभक्त' बन जाएँगे?

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,026FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe