Thursday, May 6, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय 'उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

"उसने यह सब पैगंबर मोहम्मद के अपमान के कारण गुस्से में किया... और यदि वह मजहब था, जिसने शरीया के बचाव में यह कदम उठाया, तो हमें उसका फैसला अल्लाह को करने देना चाहिए।"

पेरिस में इतिहास के शिक्षक सैम्यूल पैटी की हत्या के बाद हर जगह इस कृत्य की निंदा की जा रही है। फ्रांस के राष्ट्रपति ने तो घटना को आतंकी हमला करार दे दिया है। ऐसे में एक इस्लामी बुद्धिजीवी का वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में वह कहते सुने जा रहे हैं कि युवक ने शिक्षक का गला काटकर कोई बड़ा अपराध नहीं किया।

तुर्की चैनल को दिए इंटरव्यू में इंटरनेशनल यूनियन ऑफ मुस्लिम स्कॉलर्स के शेख अल यूसुफ ने कहा कि इस्लामी कानून के मद्देनजर युवक ने कोई गंभीर अपराध नहीं किया। इस्लामी बुद्धिजीवी मानते हैं कि युवक ने ऐसा कुछ नहीं किया जो आपत्तिजनक हो।

अल युसूफ के अनुसार, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत होती है। युवक की गलती बस ये थी कि उसने खुद दंड देने का फैसला किया। शरीया के अनुसार, ये दंड आईएस (इस्लामिक स्टेट) देता है। वह आगे कहते हैं:

जैसा कि मैंने आपको बताया कि अगर यह साबित होता है कि यह करने वाला चेचन मुस्लिम (Chechen Muslim) था और उसने यह सब पैगंबर मोहम्मद के अपमान के कारण गुस्से में किया , और यदि वह मजहबी था, जिसने शरीया के बचाव में यह कदम उठाया, तो हमें उसका फैसला अल्लाह को करने देना चाहिए। हो सकता है उसने इस्लामी कानून के तहत सजा दी हो।

इस्लामी कट्टरपंथी ने तुर्की चैनल पर बात करते हुए कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ। युवक के पूरे अपराध का सामान्यीकरण करते हुए युसूफ ने कहा कि फ्रांस में इस्लामोफोबिया बढ़ रहा था, जो ऐसी प्रतिक्रियाओं के लिए उकसा रहा था, जैसा कि फ्रेंच शिक्षक के केस में हुआ।

इस्लामोफोबिया के सिर पूरे कृत्य का ठीकरा फोड़ते हुए इस्लामी बुद्धिजीवी ने कहा कि फ्रांस में इस्लाम के ख़िलाफ़ हमले हो रहे हैं। पिछले दिनों में भी देखने को मिला कि यहाँ इस्लाम, व पैगंबर मोहम्मद के ख़िलाफ़ मीडिया में, राजनीति में, सांस्कृतिक और वैचारिक तौर पर अभियान चल रहा है। इसके साथ ही मजहबी प्रतीकों, जैसे हिजाब पर हमले हो रहे हैं।

मजहबी बुद्धिजीवी ने कहा इस्लाम फ्रांस में दूसरा सबसे बड़ा धर्म था और पहले नंबर पर यूरोप था। पश्चिम के लोग असहज हैं और सोचते हैं कि इन (इस्लाम) पर हमला किया जाना चाहिए। ऐसे लोग नहीं चाहते कि इस्लाम आगे बढ़े। वह आगे कहते हैं:

मैं इन सभी कार्यों के प्रकाश में कहना चाहूँगा कि हमें उन लोगों पर भी नजर डालनी चाहिए जो भड़काने और विकृत करने का कार्य करते हैं व जो पैगंबर मोहम्मद पर हमला करते हैं, वो भी उस देश में जो धर्मनिरपेक्ष व लोकतांत्रिक होने का दावा करता है, मानवाधिकारों, धर्म, मत और विचार के सम्मान का दावा करता है। मुझे नहीं मालूम कि इस्लामी प्रतीकों का दमन, उनका अपमान और उन पर हमला, किस प्रकार का सम्मान है। यही दिक्कत है। शरीया के मुताबिक इस कृत्य पर और उसक जजमेंट पर बात करने से पहले हमारा मत है कि हमें उन सभी शत्रुतापूर्ण और घृणित कार्यों पर ध्यान देना चाहिए जो कई वर्षों से मजहब के खिलाफ हो रहे हैं और उन्हें सरकार का व चरमपंथियों का समर्थन है ताकि पश्चिम में इस्लाम की छवि खराब की जा सके।

गौरतलब है कि कट्टरपंथियों का ऐसा चेहरा हैरान करने वाला नहीं है। जब शार्ली एब्दो पर हमला हुआ, तब भी विश्वभर के इस्लामियों ने ऐसी ही प्रतिक्रिया दी थी। पाकिस्तान में तो सैंकड़ों प्रदर्शनकारियों ने इसके खिलाफ प्रदर्शन किया था और फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार की बात की थी।

ऐसे ही भारत में भी पैगंबर मोहम्मद पर अपना बयान देने के कारण कमलेश तिवारी को इस्लामी कट्टरपंथ का शिकार होना पड़ा था। कई लोगों ने उनके ख़िलाफ़ मार्च निकाला था और उस समय की यूपी सरकार ने तब उन्हें एनएसए के तहत जेल में भी डाला था। हालाँकि, कानूनी सजा मिलने के बाद उनके ऊपर से खतरा खत्म नहीं हुआ और साल 2019 में उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। पड़ताल में मालूम चला था कि उनकी हत्या की साजिश कई समय से चल रही थी और इसके पीछे दुबई तक के तार जुड़े थे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हिंदुओं तौबा कर लो… कलमा पढ़ मुसलमान बन जाओ’: यति नरसिंहानंद, कोरोना पर मौलवी का जहरीला Video

'कोरोना से लोग मारे जा रहे और श्मशान घाट में चिता जलाने की जगह नहीं है... उसकी सबसे बड़ी वजह इस्लाम की मुखालफत है।"

असम में भाजपा के 8 मुस्लिम उम्मीदवारों में सभी की हार: पार्टी ने अल्पसंख्यक मोर्चे की तीनों इकाइयों को किया भंग

भाजपा से सेक्युलर दलों की वर्षों पुरानी शिकायत रही है कि पार्टी मुस्लिम सदस्यों को टिकट नहीं देती पर जब उसके पंजीकृत अल्पसंख्यक सदस्य ही उसे वोट न करें तो पार्टी क्या करेगी?

शोभा मंडल के परिजनों से मिले नड्डा, कहा- ‘ममता को नहीं करने देंगे बंगाल को रक्तरंजित, गुंडागर्दी को करेंगे खत्म’

नड्डा ने कहा, ''शोभा मंडल के बेटों, बहू, बेटी और बच्चों को (टीएमसी के गुंडों ने) मारा और इस तरह की घटनाएँ निंदनीय है। उन्होंने कहा कि बीजेपी और उसके करोड़ों कार्यकर्ता शोभा जी के परिवार के साथ खड़े हैं।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

TMC के हिंसा से पीड़ित असम पहुँचे सैकड़ों BJP कार्यकर्ताओं को हेमंत बिस्वा सरमा ने दो शिविरों में रखा, दी सभी आवश्यक सुविधाएँ

हेमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट करके जानकारी दी कि पश्चिम बंगाल में हिंसा के भय के कारण जारी पलायन के बीच असम पहुँचे सभी लोगों को धुबरी में दो राहत शिविरों में रखा गया है और उन्हें आवश्यक सुविधाएँ मुहैया कराई जा रही हैं।

5 राज्य, 111 मुस्लिम MLA: बंगाल में TMC के 42 मुस्लिम उम्मीदवारों में से 41 जीते, केरल-असम में भी बोलबाला

तृणमूल कॉन्ग्रेस ने 42 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था, जिसमें से मात्र एक की ही हार हुई है। साथ ही ISF को भी 1 सीट मिली।

प्रचलित ख़बरें

बंगाल में हिंसा के जिम्मेदारों पर कंगना रनौत ने माँगा एक्शन तो ट्विटर ने अकाउंट किया सस्पेंड

“मैं गलत थी, वह रावण नहीं है... वह तो खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने उसके लिए वोट किया खून से उनके हाथ भी सने हैं।”

बेशुमार दौलत, रहस्यमयी सेक्सुअल लाइफ, तानाशाही और हिंसा: मार्क्स और उसके चेलों के स्थापित किए आदर्श

कार्ल मार्क्स ने अपनी नौकरानी को कभी एक फूटी कौड़ी भी नहीं दी। उससे हुए बेटे को भी नकार दिया। चेले कास्त्रो और माओ इसी राह पर चले।

‘द वायर’ हो या ‘स्क्रॉल’, बंगाल में TMC की हिंसा पर ममता की निंदा की जगह इसे जायज ठहराने में व्यस्त है लिबरल मीडिया

'द वायर' ने बंगाल में हो रही हिंसा की न तो निंदा की है और न ही उसे गलत बताया है। इसका सारा जोर भाजपा द्वारा इसे सांप्रदायिक बताए जाने के आरोपों पर है।

सुप्रीम कोर्ट से बंगाल सरकार को झटका, कानून रद्द कर कहा- समानांतर शासन स्थापित करने का प्रयास स्वीकार्य नहीं

ममता बनर्जी ने बुधवार को लगातार तीसरी पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। उससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने बंगाल सरकार को बड़ा झटका दिया।

बंगाल हिंसा के कारण सैकड़ों BJP वर्कर घर छोड़ भागे असम, हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा- हम कर रहे इंतजाम

बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद उपजी राजनीतिक हिंसा के बाद सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं ने बंगाल छोड़ दिया है। असम के मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने खुद इसकी जानकारी दी है।

भारत में मिला कोरोना का नया AP स्ट्रेन, 15 गुना ज्यादा ‘घातक’: 3-4 दिन में सीरियस हो रहे मरीज

दक्षिण भारत में वैज्ञानिकों को कोरोना का नया एपी स्ट्रेन मिला है, जो पहले के वैरिएंट्स से 15 गुना अधिक संक्रामक हो सकता है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,364FansLike
89,363FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe