Sunday, November 29, 2020
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय 'उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की...

‘उस टीचर का गला काट कर कोई अपराध नहीं किया, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत’ – इस्लामी स्कॉलर अल यूसुफ

"उसने यह सब पैगंबर मोहम्मद के अपमान के कारण गुस्से में किया... और यदि वह मुसलमान था, जिसने शरीया के बचाव में यह कदम उठाया, तो हमें उसका फैसला अल्लाह को करने देना चाहिए।"

पेरिस में इतिहास के शिक्षक सैम्यूल पैटी की हत्या के बाद हर जगह इस कृत्य की निंदा की जा रही है। फ्रांस के राष्ट्रपति ने तो घटना को आतंकी हमला करार दे दिया है। ऐसे में एक इस्लामी बुद्धिजीवी का वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में वह कहते सुने जा रहे हैं कि मुस्लिम युवक ने शिक्षक का गला काटकर कोई बड़ा अपराध नहीं किया।

तुर्की चैनल को दिए इंटरव्यू में इंटरनेशनल यूनियन ऑफ मुस्लिम स्कॉलर्स के शेख अल यूसुफ ने कहा कि इस्लामी कानून के मद्देनजर युवक ने कोई गंभीर अपराध नहीं किया। इस्लामी बुद्धिजीवी मानते हैं कि युवक ने ऐसा कुछ नहीं किया जो आपत्तिजनक हो।

अल युसूफ के अनुसार, पैगंबर के अपमान की सजा केवल मौत होती है। मुस्लिम युवक की गलती बस ये थी कि उसने खुद दंड देने का फैसला किया। शरीया के अनुसार, ये दंड आईएस (इस्लामिक स्टेट) देता है। वह आगे कहते हैं:

जैसा कि मैंने आपको बताया कि अगर यह साबित होता है कि यह करने वाला चेचन मुस्लिम (Chechen Muslim) था और उसने यह सब पैगंबर मोहम्मद के अपमान के कारण गुस्से में किया , और यदि वह मुसलमान था जिसने शरीया के बचाव में यह कदम उठाया, तो हमें उसका फैसला अल्लाह को करने देना चाहिए। हो सकता है उसने इस्लामी कानून के तहत सजा दी हो।

इस्लामी कट्टरपंथी ने तुर्की चैनल पर बात करते हुए कहा कि लोगों को इस बात पर गौर करना चाहिए कि आखिर किस कारण युवक ऐसा करने के लिए मजबूर हुआ। मुस्लिम युवक के पूरे अपराध का सामान्यीकरण करते हुए युसूफ ने कहा कि फ्रांस में इस्लामोफोबिया बढ़ रहा था, जो ऐसी प्रतिक्रियाओं के लिए उकसा रहा था, जैसा कि फ्रेंच शिक्षक के केस में हुआ।

इस्लामोफोबिया के सिर पूरे कृत्य का ठीकरा फोड़ते हुए इस्लामी बुद्धिजीवी ने कहा कि फ्रांस में मुस्लिमों और इस्लाम के ख़िलाफ़ हमले हो रहे हैं। पिछले दिनों में भी देखने को मिला कि यहाँ इस्लाम, मुस्लिम व पैगंबर मोहम्मद के ख़िलाफ़ मीडिया में, राजनीति में, सांस्कृतिक और वैचारिक तौर पर अभियान चल रहा है। इसके साथ ही मुस्लिम प्रतीकों, जैसे हिजाब पर हमले हो रहे हैं।

मुस्लिम बुद्धिजीवी ने कहा इस्लाम फ्रांस में दूसरा सबसे बड़ा धर्म था और पहले नंबर पर यूरोप था। पश्चिम के लोग असहज हैं और सोचते हैं कि इन (इस्लाम) पर हमला किया जाना चाहिए। ऐसे लोग नहीं चाहते कि इस्लाम आगे बढ़े। वह आगे कहते हैं:

मैं इन सभी कार्यों के प्रकाश में कहना चाहूँगा कि हमें उन लोगों पर भी नजर डालनी चाहिए जो भड़काने और विकृत करने का कार्य करते हैं व जो पैगंबर मोहम्मद पर हमला करते हैं, वो भी उस देश में जो धर्मनिरपेक्ष व लोकतांत्रिक होने का दावा करता है, मानवाधिकारों, धर्म, मत और विचार के सम्मान का दावा करता है। मुझे नहीं मालूम कि इस्लामी प्रतीकों का दमन, उनका अपमान और उन पर हमला, किस प्रकार का सम्मान है। यही दिक्कत है। शरीया के मुताबिक इस कृत्य पर और उसक जजमेंट पर बात करने से पहले हमारा मत है कि हमें उन सभी शत्रुतापूर्ण और घृणित कार्यों पर ध्यान देना चाहिए जो कई वर्षों से मुसलमानों के खिलाफ हो रहे हैं और उन्हें सरकार का व चरमपंथियों का समर्थन है ताकि पश्चिम में इस्लाम की छवि खराब की जा सके।

गौरतलब है कि कट्टरपंथियों का ऐसा चेहरा हैरान करने वाला नहीं है। जब शार्ली एब्दो पर हमला हुआ, तब भी विश्वभर के इस्लामियों ने ऐसी ही प्रतिक्रिया दी थी। पाकिस्तान में तो सैंकड़ों प्रदर्शनकारियों ने इसके खिलाफ प्रदर्शन किया था और फ्रांस के उत्पादों का बहिष्कार की बात की थी।

ऐसे ही भारत में भी पैगंबर मोहम्मद पर अपना बयान देने के कारण कमलेश तिवारी को इस्लामी कट्टरपंथ का शिकार होना पड़ा था। कई लोगों ने उनके ख़िलाफ़ मार्च निकाला था और उस समय की यूपी सरकार ने तब उन्हें एनएसए के तहत जेल में भी डाला था। हालाँकि, कानूनी सजा मिलने के बाद उनके ऊपर से खतरा खत्म नहीं हुआ और साल 2019 में उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। पड़ताल में मालूम चला था कि उनकी हत्या की साजिश कई समय से चल रही थी और इसके पीछे दुबई तक के तार जुड़े थे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, कहा- पहले हाईवे खाली कर तय मैदान में जाएँ

“मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूँ कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने उन्हें 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है। सरकार किसानों की हर समस्या और माँग पर विचार करने के लिए तैयार है।”

ओवैसी के गढ़ में रोड शो कर CM योगी आदित्‍यनाथ ने दी चुनौती, गूँजा- आया आया शेर आया… देखें वीडियो

सीएम योगी के रोड शो के में- ‘आया आया शेर आया.... राम लक्ष्मण जानकी, जय बोलो हनुमान की’, योगी-योगी, जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम के भी गगनभेदी नारे लगाए गए।

प्रदर्शन करने वाले किसानों को $1 मिलियन का ऑफर, खालिस्तान के समर्थन में खुलेआम नारेबाजी: क्या है SFJ का मास्टरप्लान

किसान आंदोलन पर खालिस्तान समर्थक ताकतों ने कब्ज़ा कर लिया है। SFJ पहले ही इस बात का ऐलान कर चुका है कि वह खालिस्तान का समर्थन करने वाले पंजाब और हरियाणा के किसानों को 10 लाख रूपए की आर्थिक मदद करेगा।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, कहा- पहले हाईवे खाली कर तय मैदान में जाएँ

“मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूँ कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने उन्हें 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है। सरकार किसानों की हर समस्या और माँग पर विचार करने के लिए तैयार है।”

खालिस्तानियों के बाद कट्टरपंथी PFI भी उतरा ‘किसान विरोध’ के समर्थन में, अलापा संविधान बचाने का पुराना राग

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ओएमए सलाम ने भी घोषणा किया कि उनका इस्लामी संगठन ‘दिल्ली चलो’ मार्च का समर्थन करेगा। वह किसानों की माँगों के साथ खड़े हैं।

ओवैसी के गढ़ में रोड शो कर CM योगी आदित्‍यनाथ ने दी चुनौती, गूँजा- आया आया शेर आया… देखें वीडियो

सीएम योगी के रोड शो के में- ‘आया आया शेर आया.... राम लक्ष्मण जानकी, जय बोलो हनुमान की’, योगी-योगी, जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम के भी गगनभेदी नारे लगाए गए।

भोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल ही में हुआ था पुलिस पर पथराव

साल 2017 के एक आदेश में अदालत ने इस ज़मीन को सरकारी बताया था लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद ईरानी यहाँ से कब्ज़ा नहीं हटा रहे थे।

मुंबई मेयर के ‘दो टके के लोग’ वाले बयान पर कंगना रनौत ने किया पलटवार, महाराष्ट्र सरकार पर कसा तंज

“जितने लीगल केस, गालियाँ और बेइज्जती मुझे महाराष्ट्र सरकार से मिली है, उसे देखते हुए तो अब मुझे ये बॉलीवुड माफिया और ऋतिक-आदित्य जैसे एक्टर भी भले लोग लगने लगे हैं।”

प्रदर्शन करने वाले किसानों को $1 मिलियन का ऑफर, खालिस्तान के समर्थन में खुलेआम नारेबाजी: क्या है SFJ का मास्टरप्लान

किसान आंदोलन पर खालिस्तान समर्थक ताकतों ने कब्ज़ा कर लिया है। SFJ पहले ही इस बात का ऐलान कर चुका है कि वह खालिस्तान का समर्थन करने वाले पंजाब और हरियाणा के किसानों को 10 लाख रूपए की आर्थिक मदद करेगा।

SEBI ने NDTV के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और विक्रम चंद्रा समेत 2 अन्य को किया ट्रेडिंग से प्रतिबंधित, जानिए क्या है मामला

भारत के पूँजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने विवादास्पद मीडिया नेटवर्क NDTV के प्रवर्तकों प्रणय रॉय और राधिका रॉय को इनसाइडर ट्रेडिंग से अनुचित लाभ उठाने का दोषी पाया है।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,444FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe