Tuesday, July 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयजो रिजवान नूपुर शर्मा को मारने पाकिस्तान से आया, उसने ही लाहौर में तोड़ी...

जो रिजवान नूपुर शर्मा को मारने पाकिस्तान से आया, उसने ही लाहौर में तोड़ी थी महाराजा रणजीत सिंह की मूर्ति

रिजवान के पास से धार्मिक किताबों के अतिरिक्त कुछ भी नहीं मिला। जाँच एजेंसियों का मानना है कि रिजवान काफी शातिर है वो कनेक्शन को लेकर कोई खुलासा नहीं कर रहा है।

पैगंबर मुहम्मद पर न्यूज़ डिबेट में टिप्पणी के बाद से इस्लामिक कट्टरपंथी बीजेपी की निलंबित नेता नूपुर शर्मा को लगातार हत्या की धमकियाँ दे रहे हैं। इसी क्रम में पाकिस्तान से घुसपैठ कर भारत में घुसे रिजवान (24) नाम के पाकिस्तानी ने भी पकड़े जाने के बाद खुलासा किया है कि वो यहाँ नूपुर शर्मा की हत्या करने के लिए आया था। वो पाकिस्तान के कट्टरपंथी इस्लामिक राजनीतिक संगठन तहरीक-ए-लब्बैक से जुड़ा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, रिजवान को श्रीगंगानगर में बीएसएफ, मिलिट्री इंटेलीजेंस और पुलिस ने मिलकर पकड़ा है। एडीजी (सिक्योरिटी) एस सेंगाथिर ने बताया कि 16 जुलाई की रात श्रीगंगानगर से सटे हिंदूमलकोट सीमा के पास से गिरफ्तार किया गया है। अधिकारी ने दावा किया कि किसी लोकल सपोर्ट के बिना वो ऐसा नहीं कर सकता है। ऐसे में अब उसके लोकल कनेक्शन को ट्रेस किया जा रहा है।

रिजवान के पास से धार्मिक किताबों के अतिरिक्त कुछ भी नहीं मिला। उसने जाँच एजेंसियों को बताया कि वो 8वीं पास है उसका एक भाई इटली तो दूसरा दुबई में रहता है। जाँच एजेंसियों का मानना है कि रिजवान काफी शातिर है वो कनेक्शन को लेकर कोई खुलासा नहीं कर रहा है। इसके साथ ही एडीजी ने ये स्पष्ट किया है कि तहरीक-ए-लब्बैक घुसपैठिए को इस इलाके में प्लांट किया गया है या वो खुद ही आया था, इसको लेकर कुछ नहीं कहा जा सकता। उल्लेखनीय है कि तहरीक ए लब्बैक की स्थापना 2015 में की गई थी। इसका संस्थापक खामिद हुसैन है। भारत भेजने से पहले इसी संगठन के मुख्यालय मंडी बहाउद्दीन में उसकी ट्रेनिंग और ब्रेनवॉश किया गया था।

कौन है रिजवान

रिजवान मुख्यरूप से पाकिस्तान के मंडी बहाउद्दीन का रहने वाला है। वो इससे पहले पिछले साल अगस्त 2021 में उस वक्त चर्चा में आया था, जब लाहौर में ‘या अली या अली’ की नारेबाजी करते हुए शेर ए पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ दिया था। इस मामले में उसे गिरफ्तार भी किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -