Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयलाहौर में महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा फिर तोड़ी, रिजवान ने 'या अली' के...

लाहौर में महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा फिर तोड़ी, रिजवान ने ‘या अली’ के नारे लगाते दिया अंजाम: देखें Video

पाकिस्तान में ऐसा तीसरी बार है जब महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को उपद्रवियों ने तोड़ा है। इससे पहले अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के विरोध में लाहौर स्थित महाराजा रणजीत सिंह की 9 फीट ऊँची प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था।

19वीं सदी के महानायक ‘शेर-ए-पंजाब’ महाराजा रणजीत सिंह की पाकिस्तान के लाहौर में स्थित प्रतिमा को मंगलवार (17 अगस्त 2021) को तीसरी बार एक कट्टरपंथी ने तोड़ दिया। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। वहीं आरोपित रिजवान को गिरफ्तार कर लिया गया है।

पत्रकार शिराज हसन द्वारा अपलोड वीडियो में स्पष्ट देखा जा सकता है कि एक व्यक्ति (रिजवान) आता है औऱ मूर्तियों को तोड़ने लगता है। उसने घोड़े पर बैठे महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा के हाथ को पकड़कर नोच लिया। इसके बाद आरोपित ने पूरी की पूरी प्रतिमा को ही घोड़े से नीचे फेंक दिया, जिससे वो क्षतिग्रस्त हो गई। इस दौरान आरोपित ‘या अली-या अली’ के नारे भी लगा रहा था।

हालाँकि, आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है, लेकिन इससे पहले जब तक उसे रोका जाता वो प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर चुका था। इस दौरान उसने पंजाब के पूर्व शासक के खिलाफ नारेबाजी भी की। ठंडे कांसे से बनी इस प्रतिमा का अनावरण वर्ष 2019 में किया गया था। यह करीब 9 फीट ऊँची है। इसमें सिख सम्राट एक घोड़े पर बैठे हैं और उनके हाथ में तलवार थी।

इससे पहले भी तोड़ी गई है प्रतिमा

पाकिस्तान में ऐसा तीसरी बार है जब महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को उपद्रवियों ने तोड़ा है। इससे पहले अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के विरोध में लाहौर स्थित महाराजा रणजीत सिंह की 9 फीट ऊँची प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। इस मामले में एक मौलाना को गिरफ्तार भी किया गया था। इसके बाद 11 दिसंबर 2020 में लाहौर में ही महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था।

इस मामले में भी एक आरोपित को गिरफ्तार किया गया था और पूछताछ के दौरान उसने बताया था कि नफरत और कट्टरपंथ के कारण उसने ऐसा किया था। इस दौरान आरोपित युवक ने बताया था कि मौलाना खैम हुसैन रिज़वी ने अपने भाषणों में महाराजा रणजीत सिंह पर मुसलमानों की हत्या का आरोप लगाया था। इसी कारण वो उनसे घृणा करता था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe