Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमोदीमय अमेरिकी संसद: 79 बार ताली, 15 बार खड़े होकर अभिनंदन, सेल्फी-ऑटोग्राफ के लिए...

मोदीमय अमेरिकी संसद: 79 बार ताली, 15 बार खड़े होकर अभिनंदन, सेल्फी-ऑटोग्राफ के लिए लाइन; लगे भारत माता के जयकारे

प्रधानमंत्री के संबोधन के दौरान करीब 79 मौके ऐसे आए जब तालियाँ बजी। इस दौरान 15 बार अमेरिकी सांसदों ने खड़े होकर उनका अभिनंदन किया। अमेरिकी सांसदों में पीएम मोदी से मिलने, उनके साथ सेल्फी लेने और उनका ऑटोग्राफ लेने की होड़ देखी गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय समयानुसार गुरुवार (22 जून 2023) की रात अमेरिकी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। वे एकमात्र भारतीय नेता हैं जिसने दो बार अमेरिकी संसद को संबोधित किया है। गुरुवार की रात उनका संबोधन वैश्विक मंचों पर भारत के बढ़ते कद और पीएम मोदी की लोकप्रियता का प्रतीक बन गया। अमेरिकी संसद में ‘भारत माता की जय’ के जयकारे लगे। ‘वंदे मातरम’ और ‘मोदी-मोदी’ की गूँज सुनाई पड़ी।

प्रधानमंत्री के संबोधन के दौरान करीब 79 मौके ऐसे आए जब तालियाँ बजी। इस दौरान 15 बार अमेरिकी सांसदों ने खड़े होकर उनका अभिनंदन किया। अमेरिकी सांसदों में पीएम मोदी से मिलने, उनके साथ सेल्फी लेने और उनका ऑटोग्राफ लेने की होड़ देखी गई। पीएम मोदी ने भी उन्हें निराश नहीं किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका की राजकीय यात्रा पर हैं। इस यात्रा को लेकर प्रवासी भारतीयों समेत अमेरिकी नागरिकों में भी काफी उत्साह है। जब वे अमेरिकी संसद पहुँचे तो सांसदों ने ‘मोदी-मोदी’ के नारों के साथ उनका स्वागत किया। PM मोदी के संबोधन के पहले अमेरिकी संसद करीब डेढ़ मिनट तक ‘मोदी-मोदी’ के नारों और तालियों से गूँजती रही।

प्रधानमंत्री ने करीब करीब एक घंटे तक संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। कहा कि अमेरिका का लोकतंत्र सबसे पुराना है और भारत सबसे बड़ा लोकतंत्र है। लिहाजा दोनों देशों की साझेदारी लोकतंत्र के भविष्य के लिए अच्छी है। बेहतर दुनिया और उसके बेहतर भविष्य के लिए यह अच्छी है। इस दौरान पीएम ने AI की नई परिभाषा भी गढ़ी। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय में AI यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में काफी उन्नति हुई। साथ ही साथ एक अन्य AI (भारत+अमेरिका) के रिश्तों में भी महत्वपूर्ण प्रगति हुई है।

प्रधानमंत्री के पूरे संबोधन के दौरान तालियों की गड़गड़ाहट आती रही। भारत माता के जयकारे सुनाई पड़ते रहे। अभिनंदन में अमेरिकी सांसदों के 15 बार खड़े होने या 79 बार तालियाँ बजाना भले कोई रिकाॅर्ड न हो लेकिन यह दिखाता है कि पीएम मोदी पूरी दुनिया में लोकप्रिय हैं। लोग उन्हें सुनना चाहते हैं। उनसे मिलना चाहते हैं। यही कारण है कि सेल्फी और ऑटोग्राफ लेने के लिए भी अमेरिकी सांसदों में होड़ दिखी।

गौरतलब है कि मई 2023 में जापान में आयोजित क्वाड देशों की बैठक के दौरान भी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बायडेन ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा था कि वह अमेरिका में भी काफी लोकप्रिय हैं। साथ ही बायडेन ने PM मोदी से ऑटोग्राफ की भी माँग की थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Searched termsपीएम मोदी अमेरिकी संसद, अमेरिकी संसद संयुक्त सत्र मोदी, अमेरिकी कांग्रेस, अमेरिका संसद मोदी, अमेरिका संसद मोदी मोदी, अमेरिका संसद भारत माता की जय, अमेरिका संसद मोदी भाषण, US congress, america parliament, america sansad modi, america parliament modi, america congress modi, america parliament bharat mata ki jai, मोदी राष्ट्रगान, मोदी एंड्रयूज एयरपोर्ट, मोदी गार्ड आफ आनर, मोदी वाशिंगटन एयरपोर्ट, मोदी बारिश राष्ट्रगान, मोदी अमेरिका दौरा वाशिंगटन, मोदी एयरपोर्ट जन गन मन, भारत का राष्ट्रगान, मोदी बारिश राष्ट्रगान वीडियो, Modi national anthem, modi rain nationa anthem, modi washington airport, जो बायडेन, जिल बायडेन, व्हाइट हाउस, व्हाइट हाउस डिनर मोदी, मोदी बायडेन गिफ्ट, गणेश मूर्ति, उपनिषद, ग्रीन डायमंड, मोदी ने क्या गिफ्ट दिए, मोदी अमेरिका 10 दान, गोदान, भूदान, तिलदान, स्वर्णदान, Joe biden, jill biden, white house, modi white house dinner, modi biden gift, ganesh idol, upnishad, modi us president gift, नरेंद्र मोदी, अमेरिका, पीएम मोदी, मोदी अमेरिका दौरा, pm modi meeting, pm modi, modi us visit
ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -