Sunday, July 14, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयरूस की ओर से लड़ रहे भारतीयों की होगी वापसी: मीडिया रिपोर्टों में सहमति...

रूस की ओर से लड़ रहे भारतीयों की होगी वापसी: मीडिया रिपोर्टों में सहमति बनने का दावा, राष्ट्रपति पुतिन ने PM मोदी को कराई अपने घर की सैर; कहा- आप बेहद ऊर्जावान

राष्ट्रपति पुतिन और पीएम मोदी की यह मुलाक़ात मॉस्को के निकट नोवो ओगरयोवो स्थित आवास पर हुई। यहाँ बातचीत के बाद राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम मोदी को अपने पालतू घोड़े दिखाए। राष्ट्रपति पुतिन ने इसके बाद खुद एक इलेक्ट्रिक गाड़ी की ड्राइविंग सीट पर बैठ पीएम मोदी घुमाया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दो दिवसीय रूस दौरे पर हैं। प्रधानमंत्री मोदी सोमवार (8 जुलाई, 2024) को रूस की राजधानी पहुँचे और राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की। दोनों नेता 2 वर्षों के बाद मिले। राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम मोदी को अपने आवास पर बुलाया था। यहाँ दोनों ने अनौपचारिक वार्ता की। राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम मोदी को 2024 लोकसभा चुनाव में जीत की बधाई दी। दोनों नेताओं की बाक्ट्हेत से

राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम मोदी को देख कर ख़ुशी जताई। पीएम मोदी से अनौपचारिक बातचीत में राष्ट्रपति पुतिन ने कहा, “मैं आपको प्रधानमंत्री बनने पर बधाई देना चाहता हूँ। मुझे लगता है कि यह संयोगवश नहीं हुआ है, बल्कि यह भारत सरकार के प्रमुख के रूप में आपके कई वर्षों के कामों का परिणाम है। आपके अपने विचार हैं। आप बहुत ऊर्जावान व्यक्ति हैं, आप जानते हैं कि भारत और भारतीय लोगों के हितों में अच्छे परिणाम कैसे प्राप्त किए जाएँ।”

पीएम मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन को धन्यवाद दिया कि उन्होंने उन्हें अपने आवास पर बुलाया। पीएम मोदी ने कहा, “किसी मित्र के घर जाना, बहुत खुशी की बात है। आपने मुझे अपने घर आमंत्रित किया। मैं आपको इतना दिलचस्प कार्यक्रम बनाने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूँ। बहुत-बहुत धन्यवाद।”

पीएम मोदी ने भारत के लोकसभा चुनावों पर कहा, ”भारत में चुनाव बहुत महत्वपूर्ण और काफी बड़े पैमाने पर हुए हैं। भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, इसे ‘लोकतंत्र की जननी’ माना जाता है, और इस चुनाव में लगभग 65 करोड़ लोगों ने मतदान किया। 60 वर्षों में पहली बार, कोई सरकार तीसरे वर्ष अपना कार्यकाल जीत कर आई है।”

राष्ट्रपति पुतिन और पीएम मोदी की यह मुलाक़ात मॉस्को के निकट नोवो ओगरयोवो स्थित आवास पर हुई। यहाँ बातचीत के बाद राष्ट्रपति पुतिन ने पीएम मोदी को अपने पालतू घोड़े दिखाए। दोनों नेताओं ने घोड़ों को गाजरें खिलाई। राष्ट्रपति पुतिन ने इसके बाद खुद एक इलेक्ट्रिक गाड़ी की ड्राइविंग सीट पर बैठ पीएम मोदी को घुमाया।

बताया जा रहा है कि इस अनौपचारिक बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन के साथ भारतीयों के रूस की सेना में काम करने का मुद्दा उठाया। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि अब रूसी पक्ष सेना में काम कर रहे सभी भारतीयों को मुक्त करने और उनकी स्वदेश वापसी के प्रबंध करने को लेकर राजी हो गया है। गौरतलब है कि कई भारतीय रूसी सेना में यूक्रेन से लड़ने को भर्ती किए गए थे। कई युवकों को झूठ के आधार पर यहाँ भर्ती करवाया गया था।

पीएम मोदी मंगलवार (9 जुलाई, 2024) को राष्ट्रपति पुतिन के साथ आधिकारिक बातचीत में शामिल होंगे। यह बातचीत रूस-भारत शिखर सम्मेलन के तहत आयोजित की जाएगी। यह इसका 22वां संस्करण है। इस बातचीत के दौरान यूक्रेन-रूस संघर्ष, भारत-रूस व्यापार और आपसी रणनीतिक साझेदारी समेत कई मुद्दों पर बातचीत के कयास हैं। अमेरिका समेत विश्व के कई देश इस बातचीत और इसके परिणामों पर नजर गड़ाए हुए हैं।

पीएम मोदी इस बातचीत के बाद यूरोपियन देश ऑस्ट्रिया जाएँगे। यह 4 दशकों के बाद किसी भारतीय प्रधानमंत्री की ऑस्ट्रिया यात्रा होगी। यहाँ वह ऑस्ट्रिया के राष्ट्रपति एलेग्जेंडर वान डेर बेल्लें और ऑस्ट्रिया के चांसलर कार्ल नेहमार से भी मिलेंगे। यहाँ वह ऑस्ट्रिया में रहने वाले भारतीयों से भी मुलाकात करेंगे। ऑस्ट्रिया की इस यात्रा में दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने पर बातचीत होगी। इसी के साथ ऑस्ट्रिया से व्यापार और तकनीकी सहयोग को बढ़ाने पर भी जोर दिया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -