Saturday, July 20, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचली गई सलमान रुश्दी की एक आँख, एक हाथ भी हो गया अपाहिज: लेखक...

चली गई सलमान रुश्दी की एक आँख, एक हाथ भी हो गया अपाहिज: लेखक के गर्दन-छाती और शरीर पर 18 गंभीर जख्म, इस्लामी कट्टरवादी ने किया था हमला

उनकी छाती और शरीर में इसके अलावा भी 15 अन्य जख्म हैं। उनके एजेंट ने बताया कि ये एक जानलेवा हमला था।

2 महीने पहले न्यूयॉर्क के एक कार्यक्रम में भाषण देने से ठीक पहले अंतरराष्ट्रीय लेखक सलमान रुश्दी पर एक इस्लामी कट्टरपंथी ने हमला किया था। अब उनके एजेंट ने जानकारी दी है कि सलमान रुश्दी की एक आँख चली गई है। इतना ही नहीं, वो अब सिर्फ अपने एक ही हाथ का इस्तेमाल कर पाएँगे। 75 वर्षीय लेखक को 80 के दशक से ही उनकी पुस्तक ‘The Satanic Verses’को लेकर ईरान से धमकियाँ मिलती रही हैं।

उन्हें उनके गले और कमर में चाकू घोंपा गया था। उन पर 12 अगस्त, 2022 को ‘Chautauqua Institution’ में हमला हुआ था, जहाँ वो ‘कला में आज़ादी’ विषय पर आख्यान देने गए थे। अब तक ये अस्पष्ट था कि उन पर जख्मों का क्या असर हुआ है और इलाज में क्या चल रहा है। उनके घाव काफी गंभीर हैं। उनके गर्दन में तीन जगह गंभीर जख्म हैं। उनका एक हाथ हमेशा के लिए अपाहिज हो गया है, क्योंकि उस हाथ में Nerves को काटने पड़े।

उनकी छाती और शरीर में इसके अलावा भी 15 अन्य जख्म हैं। उनके एजेंट ने बताया कि ये एक जानलेवा हमला था। फ़िलहाल वो अस्पताल में ही हैं, लेकिन उनके एजेंट ने इसकी पुष्टि नहीं की है। लेकिन उसका ये कहना है कि सबसे राहत वाली बात ये है कि वो ज़िंदा रहेंगे। सलमान रुश्दी ने पूर्व में अपने ऊपर इस तरह के हमले की आशंका जताई थी। कई फतवे जारी होने के बाद उन्हें डर था कि कहीं से कोई एक व्यक्ति आकर अचानक से उन पर हमला कर सकता है।

उनके एजेंट ने कहा कि ऐसी घटनाओं को आप टाल नहीं सकते, क्योंकि ये एकदम अचानक से होता है और बेतुका होता है। उसने अंग्रेजी गायब जॉन लेनन की हत्या से इसकी तुलना की, जिन्हें 1980 में 40 की उम्र में गोली मार दी गई थी। सलमान रुश्दी के एजेंट एंड्रू वैली ने कहा कि दुनिया उथल-पुथल से गुजर रही है और अमेरिकी में भी यही हाल है। हालाँकि, उन्होंने जिस जिस इस्लामी कट्टरवाद ने रुश्दी का ये हाल किया, उसकी आलोचना की बजाए राष्ट्रवाद और दक्षिणपंथ के बढ़ने पर चिंता जताई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -