Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान की अमेरिका को धमकी- '31 अगस्त तक खाली करो अफगानिस्तान, वरना भुगतना पड़ेगा...

तालिबान की अमेरिका को धमकी- ’31 अगस्त तक खाली करो अफगानिस्तान, वरना भुगतना पड़ेगा अंजाम’

सुहैल शाहीन लोगों द्वारा डरकर अफगानिस्तान छोड़ने की खबरों को खारिज कर दिया और कहा कि अफगानिस्तान बहुत गरीब देश है। यहाँ की 70 फीसदी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन कर रही है। इसी कारण वो विदेशों में बसना चाहते हैं। इसे डर नहीं कहा जा सकता है। अफगानिस्तान के लोगों का हमें पूरा समर्थन मिल रहा है।

अफगानिस्तान में कब्जा करने के बाद पहली बार तालिबान ने सीधे-सीधे अमेरिका को चुनौती दी है। तालिबान ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि अगर अमेरिका 31 अगस्त 2021 तक अफगानिस्तान से अपनी सेनाओं को वापस नहीं बुलाता है तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

तालिबान ने अमेरिका से 31 अगस्त तक अफगानिस्तान छोड़ने के अपने वादे को पूरा करने को कहा है। इसके साथ ही तालिबान ने यह भी कहा है कि अमेरिका के पूरी तरह से अफगानिस्तान छोड़ने के बाद ही तालिबान सरकार बनाएगा। संगठन के प्रवक्ता सुहैल शाहीन का कहना है कि जो बाइडेन के अपनी बात से पीछे हटने का कोई अर्थ नहीं है। 31 अगस्त से अधिक दिनों तक अमेरिकी सेना को यहाँ नहीं रहने दिया जा सकता है।

सुहैल शाहीन लोगों द्वारा डरकर अफगानिस्तान छोड़ने की खबरों को खारिज कर दिया और कहा कि अफगानिस्तान बहुत गरीब देश है। यहाँ की 70 फीसदी आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन कर रही है। इसी कारण वो विदेशों में बसना चाहते हैं। इसे डर नहीं कहा जा सकता है। अफगानिस्तान के लोगों का हमें पूरा समर्थन मिल रहा है।

दरअसल, तालिबान का यह बयान अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर जरूरत पड़ी तो अफगानिस्तान में 31 अगस्त के बाद भी अमेरिकी सेना रुकेगी। जब तक अफगानिस्तान से अमेरिका का हर नागरिक वापस नहीं लौट आता है तब तक अमेरिकी सेना अफगानिस्तान नहीं छोड़ेगी।

उन्होंने यह भी कहा था कि अफगानिस्तान में 6,000 जवान तैनात हैं और काबुल एयरपोर्ट अमेरिका के कंट्रोल में है। बाइडेन के मुताबिक, अमेरिका दुनिया का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहा है, जिसके तहत अब तक 18,000 लोगों को बचाया गया है। इसके साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने अफगान नागरिकों, खासकर महिलाओं की मदद करने की भी बात कही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,642FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe