Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयतालिबान ने गुरुद्वारे पर किया हमला, सीसीटीवी कैमरे तोड़े; 3 मुस्लिम गार्ड्स समेत कई...

तालिबान ने गुरुद्वारे पर किया हमला, सीसीटीवी कैमरे तोड़े; 3 मुस्लिम गार्ड्स समेत कई लोगों को बनाया बंदी

काबुल का करता परवन गुरुद्वारा वही स्थान है, जहाँ सिखों के गुरु नानक देव जी आए थे। यह गुरुद्वारा तालिबानी शासन आने के बाद सिखों और हिंदुओं के लिए पनाहगाह बना था। उस दौरान तालिबान ने इन लोगों को भरोसा दिलाया था कि यहाँ के लोगों की सुरक्षा की जाएगी।

अफगानिस्तान के काबुल में स्थित ‘करता परवन गुरुद्वारे’ पर तालिबान ने मंगलवार (5 अक्टूबर 2021) दोपहर को हमला बोल दिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, हथियार बंद तालिबानियों ने यहाँ गार्ड्स समेत कई लोगों को बंदी बना लिया। उन्होंने परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे को भी तोड़ डाला। इसके बाद वे वहाँ से चले गए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, आज दोपहर को 15-16 हथियारबंद अज्ञात लोग गुरुद्वारे के अंदर दाखिल हुए। इन लोगों ने तीन मुस्लिम गार्ड्स के हाथ-पैर बाँध उन्हें बंदी बना लिया। साथ ही गुरुद्वारे से बाहर जाते हुए सीसीटीवी भी तोड़ दिए। स्थानीय प्रशासन को इसके बारे में सूचित कर दिया गया है। मामले की जाँच की जा रही है। इससे पहले इंडिया वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने बताया कि हथियारबंद तालिबानी अधिकारी गुरुद्वारे में दाखिल हुए थे।

उनका कहना है कि तालिबानियों ने हमारे पवित्र स्थान का अपमान किया है और उसे नुकसान भी पहुँचाया है। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्रालय से इस मामले में दखल देने की अपील की है। उन्होंने माँग की है कि देश में हिंदू और सिखों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।

काबुल का करता परवन गुरुद्वारा वही स्थान है, जहाँ सिखों के गुरु नानक देव जी आए थे। यह गुरुद्वारा तालिबानी शासन आने के बाद सिखों और हिंदुओं के लिए पनाहगाह बना था। उस दौरान तालिबान ने इन लोगों को भरोसा दिलाया था कि यहाँ के लोगों की सुरक्षा की जाएगी।

गौरतलब है कि तालिबान के अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज होने के बाद से वहाँ के स्थानीय निवासी डर के साये में जीने को मजबूर हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 220 से अधिक अफगान महिला जज तालिबानियों की सजा के भय से अभी भी खुफिया जगहों पर छिपी हुई हैं। उनका कसूर केवल इतना है कि वह महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़ी। ये उन लोगों की रक्षक रही हैं, जो देश में हाशिए पर थे और न्याय चाहते थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -