Saturday, July 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबगदाद में US दूतावास पर फिर बरसे रॉकेट, तनाव के बीच भारत ने की...

बगदाद में US दूतावास पर फिर बरसे रॉकेट, तनाव के बीच भारत ने की अमेरिका और ईरान से बात

"डॉ एस जयशंकर और मैंने अभी-अभी बात की है, हमने ईरान द्वारा लगातार दी जा रही धमकियों और उसके उकसावे वाली कार्रवाई पर चर्चा की है। ट्रम्प प्रशासन अमेरिकी लोगों, हमारे दोस्तों और सहयोगियों की रक्षा के लिए ज़रा भी नहीं हिचकेगा।"

ईरान और अमेरिका के बीच तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है, इस तनातनी के बीच इराक की राजधानी बगदाद में रविवार को अमेरिकी दूतावास के बाहर हमले की ख़बर सामने आई है। इस हमले में किसी के हताहत होने की ख़बर नहीं है। बता दें कि यह हमला बगदाद में एयरपोर्ट पर अमेरिकी रॉकेट हमले में ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद हुआ है। बगदाद स्थित ग्रीन ज़ोन में लगातार यह दूसरा हुआ हमला है। इससे पहले, शनिवार (4 जनवरी) की रात को भी रॉकेट से अमेरिकी दूतावास और एयरबेस पर रॉकेट से हमला किया गया था। हालाँकि, हमले में किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं मिली थी।

ख़बर के अनुसार, ईरान और अमेरिका के बीच तनाव को ख़त्म करने के लिए यूरोपियन यूनियन और भारत समेत कई अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने दोनों देशों से संयम बरतने की अपील की है। ग़ौर करने वाली बात यह है कि दोनों ही देश भारत के अहम रणनीतिक और व्यापारिक साझेदार हैं। लेकिन, दोनो देशों के बीच तनावपूर्ण स्थिति बरक़रार है। वहीं, अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के शब्द बेहद तल्ख़ अंदाज़ लिए हुए हैं।

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ अपनी मुलाक़ात के बाद पोम्पियो ने ट्वीट किया। इसमें उन्होंने लिखा, “डॉ एस जयशंकर और मैंने अभी-अभी बात की है, हमने ईरान द्वारा लगातार दी जा रही धमकियों और उसके उकसावे वाली कार्रवाई पर चर्चा की है। ट्रम्प प्रशासन अमेरिकी लोगों, हमारे दोस्तों और सहयोगियों की रक्षा के लिए ज़रा भी नहीं हिचकेगा।”  

प्रतिक्रिया स्वरूप, विदेश मंत्री एस जयशंकर का कहना है कि भारत ने अमेरिका के सामने अपने हितों और गंभीर विषयों को रखा है। इस सन्दर्भ में उन्होंने ट्वीट किया, “अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से खाड़ी क्षेत्र में पैदा हुए हालात के बारे में चर्चा की। हमनें भारत की चिंताओं और भारत के हित के बारे में उन्हें बताया।”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ईरान के विदेश मंत्री जावेद जाफरी से वर्तमान स्थिति को लेकर फोन पर चर्चा की। दोनों देशों (अमेरिकी और ईरान) से भारत ने एक-दूसरे के हालात के बारे मेें बात की। भारत ने अपना रुख़ स्पष्ट करते हुए ईरान को बताया कि भारत तनाव के स्तर को लेकर बेहद चिंतित है। इसके बाद, दोनों देश लगातार एक-दूसरे के सम्पर्क में बने रहने को लेकर भी सहमत हुए।

ग़ौरतलब है कि शुक्रवार (3 जनवरी) को बगदाद में एक एयर स्ट्राइक में ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी को मार गिराया था। इसके बाद शनिवार की रात बगदाद में अमेरिकी दूतावास के बाहर रॉकेट से हमला किया गया। माना जा रहा है कि ये हमला ईरान की ओर से किया गया। ये हमला अमेरिकी दूतावास के नज़दीक और अमेरिकी एयरबेस पर हुआ। दो रॉकेट दूतावास के नज़दीक गिरे थे।

इस हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने फिर ईरान को अत्याधुनिक और ब्रैंड न्यू हथियारों से हमला करने के लिए चेताया था। ट्रम्प ने ईरान को सलाह देते हुए ट्वीट किया, “उन्होंने हमला किया और हमने उसका जवाब दिया। अगर वो फिर से हमला करेंगे, जो कि मैं उन्हें सलाह देता हूँ कि वो ना करें तो हम उन पर और ज़ोरदार हमला करेंगे जैसा अब तक कभी नहीं हुआ।”

इसके अलावा, राष्ट्रपति ट्रम्प ने अपने एक अन्य ट्वीट के ज़रिए ईरान को चेतावनी दी थी कि यदि वो अमेरिकी जवानों या सम्पत्ति पर हमला करेगा, तो अमेरिका 52 ईरानी स्थलों को निशाना बनाएगा और उन पर बहुत तेज़ी से और ज़ोरदार हमला करेगा। उन्होंने कहा था कि ईरान के 52 ठिकाने हमारे निशाने पर हैं, जो ईरान और ईरानी संस्कृति के लिए काफ़ी अहमियत रखते हैं। हम किसी भी तरह के हमले का मुँहतोड़ जवाब देने को तैयार हैं।

दिल्ली की सुनहरी मस्जिद पर लहरा रहा था लाल झंडा और मचा था कत्लेआम, अब उसी से ललकार रहा ईरान

ईरानी कमांडर मरा तो उबल पड़े ‘शांतिदूत’, ट्रंप ने बताया- दिल्ली में भी हमले की रची थी साजिश

पाकिस्तान ने F-16 का किया था दुरुपयोग, अमेरिका के विदेश विभाग ने पत्र लिखकर लगाई फ़टकार


Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे ‘चाणक्य’ बताया, उसके समर्थन के बावजूद हारा मौजूदा MLC: महाराष्ट्र में ऐसे बिखरा MVA गठबंधन, कॉन्ग्रेस विधायकों ने अपनी ही पार्टी को दिया...

जिस जयंत पाटील के पक्ष में महाराष्ट्र की राजनीति के कथित चाणक्य और गठबंधन के अगुवा शरद पवार खुद खड़े थे, उन्हें ही हार का सामना करना पड़ा।

18 बैंक खाते, 95 करोड़ रुपए, अब तक 11 शिकंजे में… जनजातीय समाज का पैसा डकारने के मामले में कॉन्ग्रेस के पूर्व मंत्री गिरफ्तार,...

सीधे शब्दों में समझें तो पूरा मामला ये है कि ST निगम के कुछ अधिकारियों ने फर्जी हस्ताक्षरों का इस्तेमाल कर के अवैध रूप से 94,73,08,500 रुपए विभिन्न बैंक खातों में भेज दिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -