Tuesday, January 26, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय जब मुस्लिम भीड़ ने 30 मंदिरों को बुलडोजर से ढाह कर आग लगाया: वो...

जब मुस्लिम भीड़ ने 30 मंदिरों को बुलडोजर से ढाह कर आग लगाया: वो भी दिसंबर 1992 ही था…

हजारों की संख्या में मुस्लिम भीड़ बुलडोजर लेकर निकली थी और उनका एक ही उद्देश्य था - जहाँ भी मंदिर दिखे, उसे ध्वस्त कर दो। वीरान मंदिरों को भी नहीं छोड़ा गया था। राम मंदिर को ध्वस्त कर बाबरी की याद दिलाने वाले यह तथ्य बताएँगे क्या?

दिसंबर 6, 1992 की तारीख बार-बार याद दिलाते हुए कुछ लोग कहते हैं कि न भूलेंगे और न भूलने देंगे। वो अपने बच्चों को इस बारे में बताने की बातें करते हैं। लेकिन, दिसंबर 6, 1992 को याद करने वाले लोग इसके ठीक अगले दिन क्या हुआ था – ये क्यों नहीं अपने बच्चों को बताते? दिसंबर 7-8, 1992 को पाकिस्तान में एक साथ 30 मंदिरों पर न सिर्फ हमले हुए थे, बल्कि मुस्लिम भीड़ ने उन्हें आंशिक या पूर्ण रूप से ध्वस्त भी कर दिया था।

पूरे पाकिस्तान में इस दिन जब 30 मंदिरों पर हमले हो रहे थे, तब वहाँ की सरकार छुट्टियाँ मना रही थी। बाबरी मस्जिद विध्वंस के विरोध में पाकिस्तान में शोक दिवस मनाया जा रहा था और सारे दफ्तरों को बंद कर दिया गया था। सारे स्कूल-कॉलेज बंद पड़े हुए थे। अगर कोई बाहर था तो मुस्लिमों की भीड़, जो अलग-अलग क्षेत्रों में हिन्दू मंदिरों को निशाना बनाने के लिए निकली थी। तब पाकिस्तान में 5 लाख के करीब हिन्दू थे, कुल जनसंख्या का मात्र 2%।

लाहौर में स्थिति सबसे ज्यादा भयावह थी। वहाँ तो हजारों की संख्या में मुस्लिम भीड़ बुलडोजर लेकर निकली थी और उनका एक ही उद्देश्य था – जहाँ भी मंदिर दिखे, उसे ध्वस्त कर दो। एक हिन्दू मंदिर कई सालों से वीरान पड़ा हुआ था, अत्याचारियों ने उसे भी नहीं छोड़ा और ध्वस्त कर दिया। लाहौर में 6 अन्य मंदिरों को आगे के हवाले कर के उन्हें ख़ाक में मिला दिया गया। अफ़सोस ये कि आज इस पर बात ही नहीं होती, विरोध तो दूर की बात है।

लाहौर में स्थित ‘एयर इंडिया’ के दफ्तर पर हमला किया गया और कर्मचारियों की पिटाई की गई। पूरी भीड़ ‘भारत को कुचल दो’ और ‘हिंदुस्तान की मौत’ जैसे नारे लगा रही थी। वो घर-घर से मुस्लिमों को बाहर निकलने के लिए भड़का रहे थे, ताकि बाबरी विध्वंस का बदला लिया जाए। ये सब पाकिस्तान में पहले भी होता रहा था और अब भी हो रहा है, लेकिन एक घटना के बहाने ये सब खुलेआम पूरी ऊर्जा के साथ करने का उन्हें बहाना मिल गया था।

पाकिस्तान में उस दिन अगर कोई दफ्तर या दुकानें खुली हुई थीं, तो उन्हें भी बंद करा दिया गया। सबके मुँह पर बाबरी मस्जिद का नाम था, लेकिन किसी ने ये जानने की जहमत नहीं उठाई कि आखिर बाबरी मस्जिद को अयोध्या में किस तरीके से बनाया गया था। क्या सदियों पुराने राम मंदिर को तोड़ने से पहले कइयों का खून नहीं बहाया गया था? 16वीं शताब्दी से पहले के इतिहास से किसी को कोई मतलब नहीं।

पाकिस्तान का स्टैंड स्पष्ट था। उसने भारत के राजदूत को तुरंत समन किया और माँग की कि बाबरी मस्जिद को त्वरित रूप से वापस वहाँ पर खड़ा किया जाए। पाकिस्तान ने अयोध्या की इस घटना पर कूटनीतिक रूप से भी आक्रोश जताया। ‘मुस्लिमों के अधिकारों की रक्षा’ के लिए पाकिस्तान इतना बेचैन हो उठा कि उसने संयुक्त राष्ट्र और ‘आर्गेनाईजेशन ऑफ़ इस्लामिक कॉन्फ्रेंस (OIC)’ में भारत पर दबाव बनाने के लिए शिकायत करने का ऐलान किया।

राजधानी इस्लामाबाद में छात्र भी पीछे नहीं थे। कायदे आज यूनिवर्सिटी के छात्रों ने भारतीय दूतावास के सामने विरोध प्रदर्शन किया और तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के पुतले जलाए। मुस्लिम युवाओं की भीड़ का कहना था कि इस समस्या का एक ही समाधान है – ‘हिन्दुओं के खिलाफ जिहाद’। 97% मुस्लिमों वाले मुल्क में, जिसका आधिकारिक मजहब ही इस्लाम है, जिसका बँटवारा ही इस्लाम के नाम पर हुआ था – ये सब हो रहा था और इस पर आज भी बाबरी का रोना रोने वालों के मुँह से कुछ नहीं निकलता।

अब एक ऐसे मंदिर की बात करते हैं, जिसे उस समय आंशिक रूप से ध्वस्त किया गया था लेकिन उसके 22 वर्षों बाद 2016 में उसे मिट्टी में मिला दिया गया। लाहौर में पंजाब यूनिवर्सिटी के पास स्थित जैन मंदिर में मुस्लिम भीड़ बुलडोजर, हथौड़ा और हाथों का इस्तेमाल कर के तोड़-फोड़ मचाने पहुँची। पुलिस ने उन्हें मौन अनुमति दी और तबाही का मंजर शुरू हो गया। ‘एयर इंडिया’ के दफ्तर से फर्नीचर व सामान निकाल कर उन्हें आग के हवाले कर दिया गया।

2016 में लाहौर में उस जैन मंदिर के अवशेष को भी हटा दिया गया। कोर्ट के आदेश के बावजूद उसे पंजाब प्रान्त की सरकार ने पूर्णरूपेण ध्वस्त करने का निर्णय देकर ये बता दिया कि इस्लामिक मुल्कों में मजहब पहले आता है और न्याय-व्यवस्था बाद में। एक विवादित मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के बहाने ये सब किया गया। कोर्ट ने कहा था कि इस सदियों पुरानी ऐतिहासिक स्थल के 200 फ़ीट के इर्दगिर्द में कोई निर्माण कार्य न हो, लेकिन किसी ने नहीं माना।

पुराने लाहौर के अनारकली बाजार का ये वही मंदिर था, जिसे दिसंबर 1992 में मुस्लिम भीड़ ने ध्वस्त किया था। क्या आपको पता है कि इस मंदिर का इस्तेमाल उसके बाद किस चीज के लिए किया जाता था? यहाँ कूड़ा-कचरे का प्रबंधन करने वाली कम्पनी ने अपना दफ्तर बना लिया था। तत्कालीन शाहबाज शरीफ की सरकार ने उसे पूर्णरूपेण ध्वस्त किया, उससे पहले यहाँ दुकानें खोल ली गई थीं और इसका कमर्शियल यूज किया जाता था। 1992 में NYT ने पाकिस्तान में मंदिरों को ध्वस्त किए जाने वाली घटना पर टिप्पणी करते हुए लिखा था:

“सीमा विवाद और धर्म को लेकर झगड़े के कारण भारत के साथ पाकिस्तान के रिश्ते तभी से खराब बने हुए हैं, जब 1947 में इसका गठन हुआ था। ये ब्रिटिश की एक कॉलनी थी, जिसका विभाजन कर दिया गया था। भारत की पुलिस ने दो पाकिस्तानियों को मार डाला और एक पाकिस्तान कूटनीतिक अधिकारी की पिटाई की गई, जिसके बाद ये रिश्ते और खराब हुए हैं। आज प्रदर्शनकारियों ने कराची में 5 मंदिरों पर हमले किए, पत्थरबाजी की और दक्षिणी सिंध प्रान्त में 25 मंदिरों को आग के हवाले कर दिया गया।”

बता दें कि दक्षिणी सिंध वही क्षेत्र है, जहाँ पाकिस्तान के 90% से भी अधिक हिन्दू रहते हैं लेकिन वो वहाँ भी सुरक्षित नहीं हैं और जबरन धर्मांतरण और धार्मिक स्थलों पर हमले तो आम बातें हैं। सुक्कुर नामक शहर में हिन्दुओं की दुकानों पर हमला किया गया। पुलिस ने आँसू गैस के गोले छोड़ कर इतिश्री कर ली। पश्चिमी शहर क्वेटा में 200 की मुस्लिम भीड़ ने एक मंदिर के दरवाजे ही उखाड़ डाले थे।

ऐसा नहीं है कि ये सब सिर्फ पाकिस्तान में ही हुआ था। इसके बाद भारत में भी किस तरह से दंगे किए गए और हिन्दुओं को निशाना बनाया गया, ये किसी से छिपा नहीं है। बांग्लादेश में भी ‘एयर इंडिया’ के दफ्तर पर हमला किया गया था। ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला सैय्यद अली ख़ामेनेई (1989 से अब तक वही हैं) ने भी बाबरी विध्वंस की निंदा की थी। उन्होंने भी तेहरान रेडियो के माध्यम से नई दिल्ली को ‘मुस्लिम अधिकारों की रक्षा’ की सलाह दी।

आज जरूरत है कि जब हमें अवध रूप से राम मंदिर को ध्वस्त कर बाबरी की याद दिलाई जाती है, तो हम भी उन्हें प्राचीन काल में अवैध रूप से क्रूरता कर के ध्वस्त किए गए 30,000 मंदिरों की याद दिलाएँ। पाकिस्तान में बाबरी वाली घटना के अगले ही दिन किस तरह से 30 मंदिरों को ध्वस्त कर दिया गया, वो याद दिलाएँ। वो 30 प्राचीन मंदिर, उनकी जगह आज कहीं कूड़ा-करकट फेंका जाता है तो कहीं नामोंनिशान ही मिट गया है कि वहाँ कभी मंदिर था भी… यह भी याद दिलाएँ।

अपने बच्चों को तथाकथित अन्याय की याद दिलाने का दावा करने वाले लोग अपने पूर्वजों की करतूतों के बारे में अपनी अगली जनरेशन को बताएँगे भी या नहीं? या फिर वही वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से पढ़ाया जाता रहेगा कि अकबर महान था और अयोध्या बाबरी की वजह से ही पूरी दुनिया में विख्यात था? मुग़ल कहाँ से आए थे? बाबर का जन्म कहाँ हुआ था? तैमूर और चंगेज खान के वंशजों के बारे में अपने बच्चों को नहीं बताएँगे?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

वीडियो: जब दंगाई को किसी ने लाल किला पर तिरंगा लगाने दिया, और उसने फेंक दिया!

लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा चढ़ाने खम्बे पर चढ़ा। जब एक आदमी ने उसकी ओर तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।
- विज्ञापन -

 

बिहारी-गुजराती-तमिल-कश्मीरी किसान हो तो डूब मरो… क्योंकि किसान सिर्फ पंजाबी-खालिस्तानी होते हैं, वही अन्नदाता हैं

वास्तविकता ये है कि आप इतने दिनों से एक ऐसी भीड़ के जमावड़े को किसान का आंदोलन कहते रहे। जिसकी परिभाषा वामपंथी मीडिया गिरोह और विपक्षियों ने गढ़ी और जिसका पूरा ड्राफ्ट एक साल पहले हुए शाहीन बाग मॉडल के आधार पर तैयार हुआ।

जर्मनी, आयरलैंड, स्पेन आदि में भी हो चुकी हैं ट्रैक्टर रैलियाँ, लेकिन दिल्ली वाला दंगा कहीं नहीं हुआ

दिल्ली में जो आज हुआ, स्पेन, आयरलैंड, और जर्मनी के किसानों ने वो नहीं किया, हालाँकि वो भी अन्नदाता ही थे और वो भी सरकार के खिलाफ अपनी माँग रख रहे थे।

किसानों के आंदोलन में खालिस्तानी कड़े और नारे का क्या काम?

सवाल उठता है कि जो लोग इसे पवित्र निशान साहिब बोल रहे हैं, वो ये बताएँ कि ये नारा और कड़ा किसका है? यह भी बताएँ कि एक किसान आंदोलन में मजहबी झंडा कहाँ से आया? उसे कैसे डिफेंड किया जाए कि तिरंगा फेंक कर मजहबी झंडा लगा दिया गया?

‘RSS नक्सलियों से भी ज्यादा खतरनाक, संघ समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं’: कॉन्ग्रेसी सांसद और CM भूपेश बघेल का ज्ञान

कॉन्ग्रेस के सीएम भूपेश ने कहा कि आरएसएस के समर्थक पैर छूकर गोली मार देते हैं। महात्मा गाँधी की हत्या कैसे किया गया था? पहले पैर छुए फिर उनके सीने में गोली मारी।

कैपिटल हिल के लिए छाती पीटने वाले दिल्ली के ‘दंगाइयों’ के लिए पीट रहे ताली: ट्रम्प की आलोचना करने वाले करेंगे राहुल-प्रियंका की निंदा?

कैपिटल हिल वाले अगर दंगाई थे तो दिल्ली के उपद्रवी संत कैसे हुए? ट्रम्प की आलोचना हो रही थी तो राहुल-प्रियंका की निंदा क्यों नहीं? ये दोहरा रवैया अपनाने वाले आज भी फेक न्यूज़ फैलाने में लगे हैं।

‘लाल किले पर लहरा रहा खालिस्तान का झंडा- ऐतिहासिक पल’: ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग ने मनाया ‘ब्लैक डे’

गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर 'खालिस्तानी झंडा' फहराने को लेकर ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (APML) काफी खुश है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ द्वारा स्थापित पाकिस्तानी राजनीतिक पार्टी ने इसे 'ऐतिहासिक क्षण' बताया है।

वीडियो: जब दंगाई को किसी ने लाल किला पर तिरंगा लगाने दिया, और उसने फेंक दिया!

लाल किले पर एक आदमी सिखों का झंडा चढ़ाने खम्बे पर चढ़ा। जब एक आदमी ने उसकी ओर तिरंगा बढ़ाया तो उसने बेहद अपमानजनक तरीके से तिरंगे को दूर फेंक दिया।

देशी-विदेशी शराब से लदी मिली प्रदर्शनकारी किसानों की ट्रैक्टर: दिल्ली पुलिस ने किया सीज, देखें तस्वीरें

पुलिस ने शराब से भरे एक ट्रैक्टर को सीज किया है। सामने आए फोटो में देखा जा सकता है कि पूरा ट्रैक्टर शराब से भरा हुआ है। यानी कि शराब के नशे में ट्रैक्टरों को चलाया जा रहा है।

मुंगेर में माँ दुर्गा भक्तों पर गोलीबारी करने वाले सभी पुलिस अधिकारी बहाल, जानिए क्या कहती है CISF रिपोर्ट

बिहार पुलिस द्वारा दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस पर बर्बरता बरतने के महीनों बाद सभी निलंबित अधिकारियों को वापस सेवा में बहाल कर दिया गया है।

‘असली’ हार्वर्ड प्रोफेसर श्रीकांत दातार को मोदी सरकार ने दिया पद्मश्री, अभी हैं बिजनेस स्कूल के डीन

दातार से पहले हार्वर्ड यूनिवर्सिटी का नाम एनडीटीवी की पूर्व कर्मचारी निधि राजदान के कारण चर्चा में आया था। उन्होंने दावा किया था कि उन्हें यूनिवर्सिटी ने पत्रकारिता पढ़ाने के लिए नियुक्त कर लिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe