Tuesday, May 18, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया भारत पर मुस्लिमों-ईसाइयों का हिंदुओं से ज्यादा हक: 'द वायर' की चिरकुटई को शशि...

भारत पर मुस्लिमों-ईसाइयों का हिंदुओं से ज्यादा हक: ‘द वायर’ की चिरकुटई को शशि थरूर का समर्थन

इस लेख का उद्देश्य था कि समुदाय विशेष द्वारा 'वंदे मातरम' गाए जाने से इनकार करने का बचाव करना। शशि थरूर को ये विचार रास आ गया। उन्होंने भी ट्विटर पर इस लेख को शेयर करते हुए सवाल दाग दिया कि जिन लोगों के शरीर से हमारे देश की मिट्टी उर्वर बनती है, क्या उनका हमारे देश पर ज्यादा हक नहीं है?

प्रोपेगेंडा पोर्टल ‘द वायर’ के एक लेख में राजनीतिक विश्लेषक बद्री रैना ने अजीबोगरीब दावा किया है। ये तो सभी को ज्ञात है कि मीडिया का एक बड़ा वर्ग और बुद्धिजीवियों का एक पूरा का पूरा समूह लगातार ये साबित करने में लगा हुआ है कि मुस्लिमों पर अत्याचार किया जा रहा है और वो पीड़ित हैं। लेकिन, ‘द वायर’ में बद्री रैना ने इस बार अपने समूह के सारे बुद्धिजीवियों को पीछे छोड़ते हुए अपना दिमागी दिवालियापन दिखाया है।

‘द वायर’ के इस लेख में बद्री रैना ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसे ड्राइवर से मुलाकात की, जिसका शक्ल अमेरिका के दिवंगत राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन से मिलती-जुलती थी। उन्होंने उत्तर प्रदेश के एक ट्रिप के दौरान उससे मिलने की बात कही। उस ड्राइवर के हवाले से बद्री रैना ने ‘द वायर’ में इतना अजीब दावा किया है कि ये आराम से कहा जा सकता है कि ये उनकी ही दिमाग की उपज है।

लिबरल गुट इससे पहले भी इस तरह की कलाकारियाँ करता रहा है, इसीलिए इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं होनी चाहिए। बद्री रैना को पता था कि वो खुद अगर ऐसा कहता है तो इस पर हंगामा होगा, इसीलिए उसने अपने लेख में एक नया किरदार डाल दिया और जो खुद कहना चाहता था, वो उसके मुँह से कहलवाया दिया। ‘द वायर’ के इस लेख को वास्तविकता से जोड़ने के लिए फिक्शन का सहारा लिया गया।

‘द वायर’ का अजीबोगरीब दावे वाला लेख, जिसे बद्री रैना ने लिखा है

इस पूरे लेख का सार ये है कि समुदाय विशेष के लोगों और ईसाइयों का भारत पर ज्यादा अधिकार है, क्योंकि वो अपने मृतकों को जलाते नहीं हैं, बल्कि उन्हें जमीन में दफन करते हैं। लेख की मानें तो उक्त ड्राइवर ने कहा :

“डॉक्टर साहेब? क्या आपने कभी इस वास्तविकता के बारे में सोचा है कि जब आपकी मृत्यु होगी तो आपको जलाया जाएगा। इसके बाद आपकी अस्थियों को गंगा में बहाया जाएगा। या फिर किसी अन्य पवित्र नदी वगैरह में बहा दिया जाएगा। ये अस्थियाँ कहाँ जाएँगी? पानी इन्हें बहाते हुए समुद्र में लेकर चल जाएगा। ये भारत की जमीन से बाहर चल जाएगा। लेकिन, जब मैं मरूँगा तो मुझे दफन किया जाएगा। मैं सदा के लिए अपनी मातृभूमि की गोद में दफन रहूँगा। अब मेरा सवाल ये है कि हमारी मातृभूमि पर पहला हक किसका है?”

इस अजीबोगरीब बयान में बद्री रैना को एक तरह से पूरी दुनिया मिल गई। उन्होंने आगे लिखा है कि ये बात सुनते ही उन्हें एक प्रकार की वास्तविकता का भान हुआ और अपनी ही भूमि पर वो बाहरी की तरह महसूस करने लगे। उन्हें खुद के एक किराएदार होने की बात पता चली। उन्होंने दावा किया है कि सैकड़ों सालों से जो दावे किए जा रहे थे, उन्हें ड्राइवर की इस दलील के बाद वो सब फीके नजर आने लगे।

उन्होंने कहा कि वो सोचने लगे कि उनके माँस व हड्डियों से उनकी मातृभूमि को उर्वरा नहीं मिल पाएगी। लेकिन, उस ड्राइवर अब्दुल रशीद को ये सौभाग्य मिल जाएगा। हालाँकि, ये अजीब दावा भले ही किसी के पल्ले न पड़े लेकिन बद्री रैना के दावों को मानें तो किसानों को सारे कब्रिस्तान सौंप दिया जाना चाहिए, क्योंकि कब्रिस्तानों में ही सारी उर्वरता भरी पड़ी है। वहाँ फसलें अच्छी तरह से लहलहाएगी।

शशि थरूर ने शेयर किया ‘द वायर’ का लेख

इस लेख का उद्देश्य था कि समुदाय विशेष के लोगों द्वारा ‘वंदे मातरम’ गाए जाने से इनकार करने का बचाव करना। शशि थरूर को ये विचार रास आ गया। उन्होंने भी ट्विटर पर इस लेख को शेयर करते हुए सवाल दाग दिया कि जिन लोगों के शरीर से हमारे देश की मिट्टी उर्वर बनती है, क्या उनका हमारे देश पर ज्यादा हक नहीं है? हालाँकि, थरूर का ये दावा कॉन्ग्रेस की सोच को दिखाती है, क्योंकि मनमोहन सिंह ने पीएम रहते कहा था कि समुदाय विशेष का इस देश की संपत्ति पर पहला हक है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ख़लीफ़ा मियाँ… किसाण तो वो हैं जिन्हें हमणे ट्रक की बत्ती के पीछे लगाया है

हमने सब ट्राई कर लिया। भाषण दिया, धमकी दी, ज़बरदस्ती कर ली, ट्रैक्टर रैली की, मसाज करवाया... पर ये गोरमिंट तो सुण ई नई रई।

कॉन्ग्रेस के इशारे पर भारत के खिलाफ विदेशी मीडिया की रिपोर्टिंग, ‘दोस्त पत्रकारों’ का मिला साथ: टूलकिट से खुलासा

भारत में विदेशी मीडिया संस्थानों के कॉरेस्पोंडेंट्स के माध्यम से पीएम मोदी को सभी समस्याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया गया।

‘केरल मॉडल’ वाली शैलजा को जगह नहीं, दामाद मुहम्मद रियास को बनाया मंत्री: विजयन कैबिनेट में CM को छोड़ सभी चेहरे नए

वामपंथी सरकार की कैबिनेट में सीएम विजयन ने अपने दामाद को भी जगह दी है, जो CPI(M) यूथ विंग के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।

सोनू सूद की फाउंडेशन का कमाल: तेजस्वी सूर्या से मदद माँग खुद खा गए क्रेडिट

बेंगलुरु पुलिस, बेंगलुरु फायर डिपार्टमेंट, ड्रग कंट्रोलिंग डिपार्टमेंट और बीजेपी सांसद तेजस्वी सूर्या के ऑफिस के प्रयासों से 12 मई को श्रेयस अस्पताल में संभावित ऑक्सीजन संकट टल गया। लेकिन, सोनू सूद का चैरिटी फाउंडेशन इस नेक काम का श्रेय लेने के लिए खबरों में बना रहा।

इजरायल का Iron Dome वाशिंगटन पोस्ट को खटका… तो आतंकियों के हाथों मर ‘शांति’ लाएँ यहूदी?

सोचिए, अगर ये तकनीक नहीं होती तो पिछले दो हफ़्तों से गाज़ा की तरफ से रॉकेट्स की जो बरसात की गई है उससे एक छोटे से देश में कितनी भीषण तबाही मचती!

यूनिफॉर्म सिविल कोड और जनसंख्या नियंत्रण कानून वक्त की जरूरत, क्योंकि उनका कोई विशेषाधिकार नहीं

भारत बहुत वर्षों से इस नासूर से ग्रस्त है। जहाँ वह कम संख्या में हैं, विक्टिम हैं। बहुसंख्या में आते ही वे शरिया-शरिया चिल्लाते हैं।

प्रचलित ख़बरें

जैश की साजिश, टारगेट महंत नरसिंहानंद: भगवा कपड़ा और पूजा सामग्री के साथ जहाँगीर गिरफ्तार, साधु बन मंदिर में घुसता

कश्मीर के रहने वाले जान मोहम्मद डार उर्फ़ जहाँगीर को साधु के वेश में मंदिर में घुस कर महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती की हत्या करनी थी।

अल्लाह-हू-अकबर चिल्लाती भीड़ का हमला: यहूदी खून से लथपथ, बचाव में उतरी लड़की का यौन शोषण

कनाडा में फिलिस्तीन समर्थक भीड़ ने एक व्यक्ति पर हमला कर दिया जो एक अन्य यहूदी व्यक्ति को बचाने की कोशिश कर रहा था। हिंसक भीड़ अल्लाह-हू-अकबर का नारा लगाते हुए उसे लाठियों से पीटा।

विनोद दुआ की बेटी ने ‘भक्तों’ के मरने की माँगी थी दुआ, माँ के इलाज में एक ‘भक्त’ MP ने ही की मदद

मोदी समर्थकों को 'भक्त' बताते हुए मल्लिका उनके मरने की दुआ माँग चुकी हैं। लेकिन, जब वे मुश्किल में पड़ी तो एक 'भक्त' ने ही उनकी मदद की।

भारत में दूसरी लहर नहीं आने की भविष्यवाणी करने वाले वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने सरकारी पैनल से दिया इस्तीफा

वरिष्ठ वायरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने भारत में कोविड-19 के प्रकोप की गंभीरता की भविष्यवाणी करने में विफल रहने के बाद भारतीय SARS-CoV-2 जीनोम सीक्वेंसिंग कंसोर्टिया (INSACOG) के वैज्ञानिक सलाहकार समूह के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया।

मेवात के आसिफ की हत्या में सांप्रदायिक एंगल नहीं, पुरानी राजनीतिक दुश्मनी: हरियाणा पुलिस

आसिफ की मृत्यु की रिपोर्ट आने के तुरंत बाद, कुछ मीडिया हाउसों ने दावा किया कि उसे मारे जाने से पहले 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया गया था, जिसकी वजह से घटना ने सांप्रदायिक मोड़ ले लिया।

ओडिशा के DM ने बिगाड़ा सोनू सूद का खेल: जिसके लिए बेड अरेंज करने का लूटा श्रेय, वो होम आइसोलेशन में

मदद के लिए अभिनेता सोनू सूद को किया गया ट्वीट तब से गायब है। सोनू सूद वास्तव में किसी की मदद किए बिना भी कोविड-19 रोगियों के लिए मदद की व्यवस्था करने के लिए क्रेडिट का झूठा दावा कर रहे थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,384FansLike
95,935FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe