Monday, July 22, 2024
Homeरिपोर्टमीडियागाय पर कार्टून… मतलब BBC को हुआ बवासीर: कभी ‘बहनोई’ आतंकवादी के लिए उमड़ा...

गाय पर कार्टून… मतलब BBC को हुआ बवासीर: कभी ‘बहनोई’ आतंकवादी के लिए उमड़ा था प्यार, अब लंदन में मिल रही गालियाँ

गाय का कार्टून शेयर करने वाले बीबीसी के लोगों को संभवतः यह जानकारी नहीं है कि गाय के मूत्र का इस्तेमाल दवा बनाने के लिए और गोबर का इस्तेमाल आज भी घर-आँगन की लिपाई-पुताई के लिए इस्तेमाल किया जाता है। प्राचीन समय से ही गोमूत्र को पंचगव्य का हिस्सा माना जाता रहा है और इसका इस्तेमाल शक्तिवर्धक औषधियों के निर्माण में किया जाता है।

भारतीय संस्कृति में गाय को माता का दर्जा प्राप्त है। गाय धार्मिक, समाजिक और सांस्कृतिक रूप से सनातन का हिस्सा रही है। इसको देखते हुए एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया (AWBI) ने 14 फरवरी को ‘काउ हग डे’ मनाने की अपील की है। बोर्ड का कहना है कि लोगों को अपने संस्कृति के प्रति जागरुक करने, भावनात्मक समृद्धि और खुशी के लिए यह फैसला लिया गया है। सरकार के इस फैसले से पेचिस की मार झेल रहे बीबीसी को अब बवासीर हो चुका है।

दरअसल, सरकार के फैसले का मजाक उड़ाते हुए बीबीसी ने गाय पर कार्टून शेयर किया। इस कार्टून के जरिए बीबीसी ने सरकार के फैसले का नहीं, बल्कि गौमाता का मजाक उड़ाया है। कार्टून में मजाकिया अंदाज में एक हफ्ते तक काउ गोबर डे, काउ मूत्र डे, काउ मिल्क डे, काउ घास डे इत्यादि मनाने की बात कही गई है। बात यहीं खत्म नहीं होती। पोस्ट पर मुस्लिम नाम वाले अकाउंटों से गाय को लेकर ऐसे कमेंट किए गए हैं, जो गाय में आस्था रखने वालों के लिए अपमानसूचक है।

गाय का कार्टून शेयर करने वाले बीबीसी के लोगों को संभवतः यह जानकारी नहीं है कि गाय के मूत्र का इस्तेमाल दवा बनाने के लिए और गोबर का इस्तेमाल आज भी घर-आँगन की लिपाई-पुताई के लिए इस्तेमाल किया जाता है। प्राचीन समय से ही गोमूत्र को पंचगव्य का हिस्सा माना जाता रहा है और इसका इस्तेमाल शक्तिवर्धक औषधियों के निर्माण में किया जाता है।

बीबीसी वालों को पता तो होगा ही कि जिस गोमूत्र का वे मजाक उड़ा रहे हैं, उसी गोमूत्र का अमेरिका तीन पेटेंट करवा चुका है। गाय का दूध नवजात बच्चों के लिए तो माँ के दूध के समान बताया गया है। बीबीसी वालों ने गाय के घास खाने का भी मजाक उड़ाया। ऐसे में बीबीसी का यह कार्टून हिंदू आस्था के प्रति घृणा को दर्शाता हुआ प्रतीत होता है।

वैसे यह पहली बार नहीं है, जब बीबीसी ने भारतीयता पर हमला किया हो। यह वही बीबीसी है जो आतंकवादियों के प्रति मोहब्बत जताता रहता है। जिन आतंकवादियों को हम दशकों से झेलते आए हैं, उसके लिए बीबीसी की हमदर्दी उसके रिपोर्ट में झलकती है। बालाकोट हमले के बाद एक रिपोर्ट में बीबीसी ने आतंकियों के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल किया, उससे उनकी मंशा जाहिर होती है।

हाल ही में बीबीसी ने गुजरात दंगों पर एक प्रोपगेंडा डॉक्यूमेंट्री बनाई थी। इसमें तथ्य कम और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि के साथ खिलवाड़ की कोशिश ज्यादा की गई है। पीएम मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार करने के लिए बनाई गई बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री का ब्रिटेन में भारी विरोध हुआ था। 29 जनवरी 2023 को प्रवासी भारतीयों ने लंदन में स्थित बीबीसी मुख्यालय और उसके क्षेत्रीय कार्यालयों के बाहर बड़ी संख्या में एकजुट होकर प्रदर्शन किया था।

बीबीसी की स्थिति अब चूँकि बवासीर तक पहुँच चुकी है, इसलिए ऐसे विरोधों और प्रदर्शनों का उस पर कोई खास प्रभाव पड़ने वाला नहीं है। ऐसा होता तो करोड़ों लोगों की आस्था के प्रतीक गौमाता का मजाक उड़ाने से पहले वह कई बार विचार करता।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राजन कुमार झा
राजन कुमार झाhttps://hindi.opindia.com/
Journalist, Writer, Poet, Proud Indian and Rustic

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाइडेन बाहर, कमला हैरिस पर संकट: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ओबामा ने चली चाल, समर्थन पर कहा – भविष्य में क्या होगा, कोई नहीं...

अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों की दौड़ से बाइडेन ने अपना नाम पीछे लिया तो बराक ओबामा ने उनकी तारीफ की और कमला हैरिस का समर्थन करने से बचते दिखे।

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -