Saturday, May 8, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया ख़बर का असर: Exit Poll दिखाने वाले 3 मीडिया संस्थानों को EC से नोटिस,...

ख़बर का असर: Exit Poll दिखाने वाले 3 मीडिया संस्थानों को EC से नोटिस, माँगा स्पष्टीकरण

ऑपइंडिया ने एक लेख के माध्यम से दिशा-निर्देशों का उल्लंघन कर एग्जिट पोल दिखाने वाले सभी मीडिया हाउसेज को बेनकाब करते हुए चुनाव आयोग से उन पर कड़ी कार्रवाई की माँग की थी। खबर का असर हुआ और EC ने डंडा घुमाते हुए...

चुनाव आयोग द्वारा तीन मीडिया हाउसेज को नोटिस भेजा गया है। इन तीनों मीडिया हाउस ने एग्जिट पोल प्रकाशित किया था। स्वराज एक्सप्रेस, न्यूज़क्लिक और आईएएनएस ने लोकसभा चुनाव परिणाम का अनुमान लगाते हुए एग्जिट पोल प्रसारित किया था। चुनाव आयोग ने अपने बयान में कहा, “चुनाव आयोग को तीन मीडिया हाउसेज के ख़िलाफ़ शिकायतें मिली थीं कि उन्होंने लोकसभा चुनावों के परिणाम का अनुमान लगाते हुए एग्जिट पोल्स जारी किए थे। आयोग ने तीनों मीडिया हाउस से स्पष्टीकरण माँगा है। उनसे पूछा गया है कि क्यों न उनके ख़िलाफ़ ‘Representation Of The People Act’ के सेक्शन 126A के तहत कार्रवाई की जाए।

सेक्शन 126A में लिखा हुआ है कि लोकसभा चुनाव के प्रथम चरण का चुनाव शुरू होने से लेकर अंतिम चरण का चुनाव ख़त्म होने के आधे घंटे बाद तक, कोई भी व्यक्ति सार्वजनिक रूप से इलेक्ट्रॉनिक या प्रिंट मीडिया के माध्यम से एग्जिट पोल नहीं दिखा सकता। इन तीनों मीडिया हाउसेज ने इसका खुला उल्लंघन किया था। स्वराज एक्सप्रेस के लिए यौन शोषण आरोपित विनोद दुआ ने एग्जिट पोल दिखाए थे, जिसे उन्होंने न्यूज़क्लिक नामक प्रोपेगेंडा वेबसाइट से उठाया था। वीडियो तो हटा दिया गया लेकिन रिपोर्ट अभी भी ऑनलाइन उपलब्ध है। समाचार एजेंसी आईएएनएस ने भी एग्जिट पोल खुलेआम ट्विटर पर जारी किया था।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस (आईएएनएस) ने आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए रविवार (मई 12, 2019) को एक एग्जिट पोल प्रकाशित किया था। आईएएनएस का कहना है कि ये सर्वेक्षण विभिन्न संस्थानों और निष्पक्ष चुनाव विश्लेषकों द्वारा किया गया है। न्यूज सर्विस ने ये सर्वेक्षण ट्विटर पर शेयर किया है। ऑपइंडिया ने मंगलवार (मई 14, 2019) को एक लेख के माध्यम से दिशा-निर्देशों का उल्लंघन कर एग्जिट पोल दिखाने वाले सभी मीडिया हाउसेज को बेनकाब करते हुए चुनाव आयोग से उन पर कड़ी कार्रवाई की माँग की थी। हमने अपने लेख में पूछा था कि सारे के सारे एग्जिट पोल में पार्टी विशेष को भारी बढ़त और एक ख़ास पार्टी को भारी घाटा दिखाया जा रहा है, ऐसा क्यों?

ऑपइंडिया ने अपने लेख के माध्यम से पूछा था कि क्या ऐसे एग्जिट पोल से माहौल बिगाड़ने की कोशिश हो रही है और लाखों लोगों को यूट्यब पर एग्जिट पोल दिखा कर मतदाताओं को प्रभावित किया जा रहा है? हमने सवाल उठाए थे कि वीडियो हटाए जाने तक भी उसे पाँच लाख लोग देख चुके हैं, उसका क्या? फिलहाल सभी को आयोग की नोटिस के बाद अगले क़दम का इन्तजार है। आईएएनएस ने भी अब अपनी ट्वीट डिलीट कर दी है लेकिन उसे उससे पहले कई लोग शेयर कर चुके थे।

चुनाव आयोग ने साफ़-साफ़ कहा था कि पहले चरण का चुनाव शुरू होने से लेकर अंतिम चरण का चुनाव संपन्न होने तक किसी भी प्रकार का एग्जिट पोल प्रतिबंधित रहेगा। अर्थात, 11 अप्रैल से लेकर 19 मई को चुनाव ख़त्म होने तक किसी तरह के कोई भी एग्जिट पोल प्रिंट या डिजिटल माध्यम से प्रकाशित या प्रसारित नहीं किए जा सकेंगे। अगर कोई ऐसा करता है तो उसे चुनाव आयोग के निर्देशों का उल्लंघन माना जाएगा। इसके अलावा चुनाव आयोग द्वारा चुनाव से 48 घंटे पूर्व किसी भी प्रकार के ओपिनियन पोल पर भी प्रतिबन्ध चालू हो जाएगा, ऐसा नियम बनाया गया था। ये प्रतिबन्ध प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, सिनेमा, टीवी- इन सभी माध्यमों पर लागू करने की बात कही गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा की रिपोर्ट दो: कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता सरकार को दिया सिर्फ 2 दिन का समय

कलकत्ता हाई कोर्ट में दायर की गई याचिका में बंगाल में हो रही हिंसा पर राज्य पुलिस पर भी सवाल उठे। पुलिस ने परिस्थिति सामान्य करने और...

CM बनते ही केजरीवाल ने जिसे ‘दिल्ली का निर्माता’ कहा, उस नवनीत कालरा के यहाँ ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर का गोरखधंधा

नवनीत कालरा चीन से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर का 20-25 हजार रुपए में आयात करके उन्हें दिल्ली में 70000 में बेचकर भारी मुनाफा कमा रहा था।

WhatsApp अब नहीं करेगा अकाउंट डिलीट: 15 मई तक जबरन शर्तों को स्वीकार करने वाली समय सीमा समाप्त

व्हाट्सएप ने 15 मई तक अपनी विवादास्पद सीक्रेट पॉलिसी के अपडेट को यूजर द्वारा एक्सेप्ट करने की समय सीमा को समाप्त कर दिया है। इसके साथ ही...

‘बहुत ओछी हरकत कर दी’: आंध्र वाले जगन सहित कई CM-मंत्री हेमंत सोरेन पर बिफरे, PM मोदी को लेकर किया था ट्वीट

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन चौतरफा घिर गए हैं। कई राज्यों के मुख्यमंत्री ने उन्हें ओछी राजनीति से बचने की नसीहत दी है।

एक ही पेड़ से लटके मिले बीजेपी के 2 वर्कर, NCW की मुखिया से ममता सरकार ने बंगाल दौरा रद्द करने को कहा

बीजेपी ने बंगाल में अपने दो और कार्यकर्ताओं की हत्या का आरोप टीएमसी के गुंडों पर लगाया है। उनके शव एक ही पेड़ से लटके मिले।

‘ईद’ की शॉपिंग में उड़ रही कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियाँ, हैदराबाद के चारमीनार के पास बिन मास्क दिखी लोगों की जबर्दस्त भीड़, देखें Video

हैदराबाद के चार मीनार के आसपास ईद-उल-फितर की शॉपिंग के लिए जुट रही भारी भीड़ नहीं कर रही हैं कोविड नियमों का पालन

प्रचलित ख़बरें

‘मेरी बहू क्रिकेटर इरफान पठान के साथ चालू है’ – चचेरी बहन के साथ नाजायज संबंध पर बुजुर्ग दंपत्ति का Video वायरल

बुजुर्ग ने पूर्व क्रिकेटर पर आरोप लगाते हुए कहा, “इरफान पठान बड़े अधिकारियों से दबाव डलवाता है। हम सुसाइड करना चाहते हैं।”

बंगाल में अब BJP के किसान नेता की हत्या, मुस्लिम नेता को घर में घुस पीटा: मिथुन चक्रवर्ती के खिलाफ पुलिस से शिकायत

दिलीप घोष ने बताया है कि 26 साल के किशोर मंडी की TMC गुंडों ने हत्या कर दी। वे बिनपुर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा किसान मोर्चा के मंडल सचिव थे।

एक ही पेड़ से लटके मिले बीजेपी के 2 वर्कर, NCW की मुखिया से ममता सरकार ने बंगाल दौरा रद्द करने को कहा

बीजेपी ने बंगाल में अपने दो और कार्यकर्ताओं की हत्या का आरोप टीएमसी के गुंडों पर लगाया है। उनके शव एक ही पेड़ से लटके मिले।

बंगाल हिंसा वाली रिपोर्ट राज्यपाल तक नहीं पहुँचे: CM ममता बनर्जी का ऑफिसरों को आदेश, गवर्नर का आरोप

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर यह आरोप लगाया है कि उन्होंने चुनाव परिणाम के बाद हिंसा पर रिपोर्ट देने से...

2013 में कहा- corona आ रहा, 2016 के बाद कोई ट्वीट नहीं: सोशल मीडिया में तलाश!

एक शख्स का ट्वीट वायरल हो रहा है जिसने दिसंबर 2013 में ही भविष्यवाणी कर दी कि कोरोना वायरस आ रहा है, ट्वीट वायरल

‘बेहतर होता काम की बात करते’: झारखंड में कोरोना का हाल जानने PM मोदी ने किया कॉल, CM हेमंत सोरेन ने की राजनीति

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी प्रधानमंत्री के साथ बैठक का गुपचुप लाइव कर इसी तरह की ओछी राजनीति कर चुके हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,369FansLike
90,309FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe