Thursday, July 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'एयरपोर्ट पर साड़ी-सिंदूर-बिंदी में स्टाफ नहीं चलेगी, अडानी ग्रुप ने लगा दिया बैन': गुवाहाटी...

‘एयरपोर्ट पर साड़ी-सिंदूर-बिंदी में स्टाफ नहीं चलेगी, अडानी ग्रुप ने लगा दिया बैन’: गुवाहाटी एयरपोर्ट ने मीडिया दावों को नकारा

प्रतिदिन टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि अडानी समूह ने 'प्रणाम' नाम की एक कंपनी को ठेका दिया है। उक्त कंपनी (प्रणाम) ने एक ड्रेस कोड जारी किया है जहाँ महिला कर्मचारियों के पारंपरिक कपड़े पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

असम के गुवाहाटी स्थित लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई अंतरराष्ट्रीय (LGBI) हवाई अड्डे ने उन मीडिया रिपोर्टों का खंडन किया है, जिनमें दावा किया गया था कि एयरपोर्ट पर महिला कर्मचारियों के पारंपरिक परिधान पहनने पर रोक लगा दी गई है। इस एयरपोर्ट का संचालन अडानी ग्रुप करता है। असम के एक बड़े मीडिया हाउस ने इस प्रतिबंध को लेकर खबर प्रकाशित की थी। लेकिन, एयरपोर्ट प्रबंधन ने अपने आधारिक ट्विटर हैंडल से इस दावे को नकार दिया है।

एयरपोर्ट की ओर से जारी बयान में कहा गया है, “एक निजी टीवी चैनल ने आरोप लगाया है कि लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ‘प्रणाम’ सेवा की महिला कर्मचारियों से पारंपरिक कपड़ों और गहने नहीं पहनने को कहा गया है। यह पूरी तरह से निराधार और झूठा है। एयरपोर्ट स्टाफ को ऐसा कोई निर्देश नहीं दिया गया है। हम असम और पूर्वोत्तर की संस्कृति और परंपराओं की प्रशंसा और उनका सम्मान करते हैं।”

जिस चैनल ने यह खबर चलाई थी वो प्रतिदिन टाइम्स है। इसका संचालन वामपंथी मीडिया हाउस सादिन-प्रतिदिन समूह करता है। यह मीडिया हाउस राज्य का सबसे बड़ा डेली ‘असोमिया प्रतिदिन‘ भी चलाता है। प्रतिदिन टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि अडानी समूह ने ‘प्रणाम’ नाम की एक कंपनी को ठेका दिया है। उक्त कंपनी (प्रणाम) ने एक ड्रेस कोड जारी किया है जहाँ महिला कर्मचारियों के पारंपरिक कपड़े पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। दावा किया गया था कि महिला कर्मचारियों को सिंदूर और बिंदी भी नहीं लगाने दिया जा रहा है।

प्रतिदिन टाइम्स द्वारा चलाई गई फेक न्यूज

रिपोर्ट में कहा गया है, “नए नियम के अनुसार महिला कर्मचारी मेखला चादर (असम की पारंपरिक पोशाक) चूड़ियाँ, मंगलसूत्र और यहाँ तक कि LGBI हवाई अड्डे पर ड्यूटी के दौरान सिंदूर तक नहीं लगा सकती हैं।” आरोप यहाँ तक लगाए जा रहे हैं कि एयरपोर्ट ने विवाहित महिलाओं के बिंदी लगाने तक पर रोक लगा दिया है। रिपोर्ट में इसे असमिया संस्कृति और परंपरा का सरासर अपमान करार दिया गया है। हालाँकि, एयरपोर्ट प्रबंधन ने इस खबर का खंडन करते हुए स्पष्ट किया है कि अडानी समूह से जुड़ी ‘प्रणाम’ ने इस तरह का कोई भी ड्रेस कोड लागू ही नहीं किया है।

वहीं अगर प्रतिदिन मीडिया हाउस की बात की जाए तो यह असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा की कड़ी आलोचना करने और उन्हें बदनाम करने के लिए कुख्यात रहा है। LGBI एयरपोर्ट के संचालन का जिम्मा जब से अडानी समूह को दिया गया है, तभी से राज्य में विपक्ष इसका विरोध कर रहा है। यह रिपोर्ट भी अडानी समूह के खिलाफ दुष्प्रचार के हिस्से के तौर पर देखा जा रहा है।

राज्य के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा भी सोशल मीडिया पर कई बार इस मीडिया ग्रुप के मालिक जयंत बरुआ की आलोचना कर चुके हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -