Sunday, April 18, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया बिक गया TheQuint, लेकिन राघव बहल ही रहेंगे मालिक! शेयर और प्रोमोटेड कंपनी का...

बिक गया TheQuint, लेकिन राघव बहल ही रहेंगे मालिक! शेयर और प्रोमोटेड कंपनी का 2 साल से चल रहा था झोल

राघव बहल के झोलझाल को समझना हो तो ऐसे समझिए। कुछ समय पहले उन्होंने 5.50 रुपए प्रति शेयर की दर से एक कंपनी के शेयर खरीदे। वो कंपनी 2 सालों तक किसी भी व्यापारिक गतिविधि में शामिल नहीं रही। लेकिन राघव बहल ने जब अपने शेयर बेचे तो उसकी कीमत 848 रुपए प्रति शेयर थी।

कुछ घंटे पहले इंटरनेट पर दावा किया गया कि राघव बहल ने हल्दीराम को अपनी वेबसाइट बेच दी है। कुछ ऐसी खबरें आईं थीं कि कंपनी फिलहाल मुश्किल समय से गुजर रही है, क्योंकि कंपनी ने अपने 200 से अधिक कर्मचारियों में से 45 कर्मचारियों को बिना वेतन के अनश्चितकाल के लिए छुट्टी पर भेज दिया था।

दरअसल इसके पीछे कोरोना वायरस के चलते पैदा हुआ अतिरिक्त दवाब और वित्तीय घाटा एक प्रमुख कारण था। बहरहाल यह वह है, जो वास्तव में हुआ था।

2018 के अंत में TheQuint के संस्थापक राघव बहल और उनकी पत्नी रितु कपूर ने 5.64 करोड़ रुपये में गौरव मर्केंटाइल्स नामक एक फर्म में 66.42% की हिस्सेदारी ली थी। इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने खुले ऑफर के लिए 2 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च किए थे। अधिग्रहण की कीमत 42.5 रुपए प्रति शेयर थी।

राघव बहल के द्वारा शिप-ब्रेकिंग कंपनी के अधिग्रहण ने उत्सुकता बढ़ा दी थी। फिर जुलाई 2019 में यह खुलासा हुआ कि शिप-ब्रेकिंग कंपनी अपने स्वयं के प्रमोटर समूह की फर्म का अधिग्रहण करके मीडिया व्यवसाय में प्रवेश करेगी तो इस कारण से इसके शेयरों की कीमत में बढ़ोतरी हुई।

इसके बाद जुलाई 2019 में गौरव मर्केंटाइल्स के शेयर की कीमतें 151 रुपए प्रति शेयर पर आ गए, जो कि 52 सप्ताह के उच्च स्तर पर थीं। वहीं 6 मई 2020 को गौरव मर्केंटाइल्स का शेयर मूल्य 250 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुआ।

गौरव मर्केंटाइल्स पहले शिप ब्रेकिंग, व्यापार और निवेश में लगे हुए थे, लेकिन अब वह वर्षों से शिप ब्रेकिंग पर ही लगे हुए हैं। ईटी की रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि 17 जुलाई 2019 को गौरव मर्केंटाइल्स के नए बोर्ड के सदस्य यह तय करेंगे कि फर्म क्विंटिलियन मीडिया में हिस्सेदारी खरीदेगी, जो ऑनलाइन पोर्टल द क्विंट चलाती है।

गौरव मर्केंटाइल्स के नए बोर्ड के सदस्य जो द क्विंट के भाग्य का फैसला करने वाले थे, वो द क्विंट के असली प्रमोटर राघव बहल और रितु कपूर थे। इसलिए वास्तव में राघव बहल और उनकी पत्नी ने एक कंपनी खरीदी थी, जो अब एक और कंपनी खरीदने का फैसला करेगी और उस कंपनी के मालिक पहले से ही राघव बहल और उनकी पत्नी थीं।

क्या हल्दीराम ने द क्विंट को खरीद लिया?

वास्तव में नहीं। वीसी सर्कल की रिपोर्ट के अनुसार यूके स्थित निवेश बैंक एलारा कैपिटल पीएलसी और दिल्ली स्थित हल्दीराम का अग्रवाल परिवार गौरव मर्केंटाइल्स में कंवर्टिवल्स वॉरंट (convertible warrants) रखता है। राघव बहल, प्रत्यक्ष निवेश के जरिए या संबंधित संस्थाओं के माध्यम से कंवर्टिवल्स वॉरंट को इक्विटी में बदलने के बाद गौरव मर्केंटाइल्स में बहुमत से हिस्सेदारी बनाए रखेंगे।

हल्दीराम के मालिक क्विंटिलियन मीडिया में 17-18% तक की हिस्सेदारी बना सकते हैं। साथ ही एलारा कैपिटल पीएलसी 10% तक की हिस्सेदारी प्राप्त कर सकती है। दरअसल क्विंटिलियन मीडिया को खरीदने जा रहे गौरव मर्केंटाइल्स के लिए इस डील की कीमत 12 करोड़ रुपए बताई जा रही है, जबकि क्विंटिलियन मीडिया की पेड-अप कैपिटल 85 करोड़ रुपए की है।

राघव बहल और निवेश का जाल

मई 2019 में कथित तौर पर अपनी बेनामी विदेशी संपत्ति को लेकर राघव बहल ईडी द्वारा जाँच के दायरे में थे। यह संपत्ति 31 मिलियन पाउंड में लंदन में खरीदी गई थी। ईसीआईआर के साथ ही पुलिस ने बहल और अन्य के खिलाफ आयकर विभाग की शिकायत पर संज्ञान लेते हुए जून महीने में एफआईआर दर्ज कराई थी।

आईटी विभाग ने मेरठ की एक अदालत में काला धन विरोधी कानून और 2015 के कर अधिनियम के प्रावधानों के तहत बहल के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था। आईटी अधिकारियों ने 11 अक्टूबर, 2018 को द क्विंट के मालिक की संपत्तियों की छानबीन भी की थी।

मामले से जुड़े दस्तावेजों और केस से जुड़े कुछ सबूतों की तलाश के लिए विभाग के अधिकारियों ने नोएडा स्थित उनके आवास पर छापा मारा था। टैक्स अधिकारियों द्वारा दिए गए शपथ पत्र में राज कुमार मोदी ने बहल पर आरोप लगाते हुए कहा था कि बहल ने अपनी कंपनी का प्रयोग धन लूटने और कर से बचने के लिए किया था।

दरअसल मोदी उस पीएमसी फिनकॉर्प के प्रबंध निदेशक हैं, जिसमें बहल ने कथित रूप से पैसा लगाया था। मोदी ने कथित तौर पर आईटी अधिकारियों को एक बयान दिया, जिसमें उन्होंने दावा किया कि बहल के चार्टर्ड अकाउंटेंट ने उन्हें 100 करोड़ रुपए का कैश ‘सफेद धन’ में बदलने के लिए दिए थे।

खबरों के मुताबिक राघव बहल और उनकी पत्नी ने पीएमसी फिनकॉर्प लिमिटेड कंपनी में 3.03 करोड़ का निवेश किया है। कंपनी के किसी भी व्यापारिक गतिविधि में शामिल न होने के बावजूद दो वर्षों के अंदर कंपनी शेयरों की कीमत 848 रुपए प्रति शेयर पहुँच गई, जबकि इसकी शुरुआती कीमत 5.50 रुपए प्रति शेयर थी, जब बहल ने उन्हें खरीदा था।

इसके बाद बहल ने अपने शेयर बेच दिए, जिसके बाद शेयर की कीमतें एक साथ नीचे गिर गईं। हालाँकि एक प्रेस विज्ञप्ति में बहल ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों से इनकार किया था। उन्होंने कहा था कि कोई भी लेनदेन छिपाया नहीं गया और यह कर के दायरे में था।

राघव बहल और नेटवर्क18

वास्तव में इससे पहले भी मीडिया उद्यमी बहल ने जितनी भी कंपनी में निवेश किया, सब में झोलझाल है। दरअसल 1993 में, राघव बहल ने नेटवर्क18 की स्थापना की। यह जल्द ही भारत के सबसे बड़े मीडिया हाउसों में से एक बन गया। 2014 की एक रिपोर्ट में कहा गया कि रिलाइंस इडस्ट्री लिमिटेड ने नेटवर्क18 पर अपने पूर्ण नियंत्रण के लिए 4,000 करोड़ रुपए दिए थे।

2012 में मुकेश अंबानी की RIL ने नेटवर्क 18 में पूंजी निवेश किया था, जो 10 साल के भीतर किसी भी समय हिस्सेदारी में बदल सकता था। रिलायंस ने उस समय तक कंपनी में ऋण निवेश के बदले कैश दिया। इसके अगले दो वर्षों तक बहल ने कर्मचारियों की छंटनी करने और नुकसान उठाने वाले उपक्रमों को बंद करने में समय लगाया। ऋण निवेश के ढाई साल बाद RIL ने पूर्ण नियंत्रण लेने के लिए इसे हिस्सेदारी में बदल दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिंदू धर्म-अध्यात्म की खोज में स्विट्जरलैंड से भारत पैदल: 18 देश, 6000 km… नंगे पाँव, जहाँ थके वहीं सोए

बेन बाबा का कोई ठिकाना नहीं। जहाँ भी थक जाते हैं, वहीं अपना डेरा जमा लेते हैं। जंगल, फुटपाथ और निर्जन स्थानों पर भी रात बिता चुके।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

फिर केंद्र की शरण में केजरीवाल, PM मोदी से माँगी मदद: 7000 बेड और ऑक्सीजन की लगाई गुहार

केजरीवाल ने पीएम मोदी से केंद्र सरकार के अस्पतालों में 10,000 में से कम से कम 7,000 बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने और तुरंत ऑक्सीजन मुहैया कराने की अपील की है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

राहुल गाँधी अब नहीं करेंगे चुनावी रैली: 4 राज्य में जम कर की जनसभा, बंगाल में हार देख कोरोना का बहाना?

पश्चिम बंगाल में कॉन्ग्रेस, लेफ्ट पार्टियों के साथ गठबंधन में है लेकिन उनके सरकार बनाने की संभावनाएँ न के बराबर हैं। शायद यही कारण है कि...

रामनवमी के अवसर पर अयोध्या न आएँ, घरों में पूजा-अर्चना करें: रामनगरी के साधु-संतों का फैसला, नहीं लगेगा मेला

CM योगी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से अयोध्या के संतों से विकास भवन में वार्ता की। वार्ता के बाद संत समाज ने राम भक्तों से अपील की है कि...

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

’47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार सिर्फ मेरे क्षेत्र में’- पूर्व कॉन्ग्रेसी नेता और वर्तमान MLA ने कबूली केरल की दुर्दशा

केरल के पुंजर से विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि अकेले उनके निर्वाचन क्षेत्र में 47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार हुईं हैं।

ऑडियो- ‘लाशों पर राजनीति, CRPF को धमकी, डिटेंशन कैंप का डर’: ममता बनर्जी का एक और ‘खौफनाक’ चेहरा

कथित ऑडियो क्लिप में ममता बनर्जी को यह कहते सुना जा सकता है कि वो (भाजपा) एनपीआर लागू करने और डिटेन्शन कैंप बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

रोजा-सहरी के नाम पर ‘पुलिसवाली’ ने ही आतंकियों को नहीं खोजने दिया, सुरक्षाबलों को धमकाया: लगा UAPA, गई नौकरी

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले की एक विशेष पुलिस अधिकारी को ‘आतंकवाद का महिमामंडन करने’ और सरकारी अधिकारियों को...

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe