Saturday, November 28, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया AltNews की नई करतूत: अलीगढ़ मामले में SSP के नाम से छापे झूठे...

AltNews की नई करतूत: अलीगढ़ मामले में SSP के नाम से छापे झूठे बयान

AltNews ने शायद अपने प्रोपेगेंडा और अपनी धूर्तता से विवश होकर सोशल मीडिया फैक्ट चेक के नाम पर इस पूरे मामले की गंभीरता को कम करके दिखाने की कोशिश की, क्योंकि यहाँ आरोपित दूसरे मजहब से थे और यह घटना रमजान के पाक महीने में हुई थी।

स्वघोषित फैक्ट चेकिंग पोर्टल AltNews ने अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम बच्ची के जघन्य मर्डर केस में न सिर्फ मुख्य आरोपित ज़ाहिद, असलम के पापों को धुलने की कोशिश की, बल्कि अपने इस मुहीम को आगे बढ़ाने के लिए अलीगढ़ के एसएसपी आकाश कुल्हारी के स्टेटमेंट को भी गलत तरीके से ट्विस्ट देकर प्रस्तुत किया।

स्वघोषित फैक्ट-चेकर AltNews ने, जो कि खालीपन में चुटकुलों और मीम्स का भी फैक्ट चेक कर डालता है, ज़ाहिद और असलम के अपराधों को धोने-सुखाने के कुछ ज़्यादा तेजी से प्रयास किए और क्लेम कर दिया कि कोई रेप नहीं हुआ है। इसे साबित करने का आधार इन्होनें यह निकाला कि ऐसा उत्तर-प्रदेश पुलिस के कुछ अधिकारियों का वैसा कहना है।

6 जून को प्रकाशित अपने रिपोर्ट में AltNews ने SSP आकाश कुल्हारी को कोट करते हुए लिखा-

“एसएसपी अलीगढ़ के मुताबिक पीड़िता का रेप नहीं हुआ है, पोस्ट मार्टम रिपोर्ट के अनुसार गला घोंटने से उसकी हत्या हुई है। सोशल मीडिया पर जो दावा किया जा रहा है कि उसकी आँखें बाहर आ गई थी और उसकी बाँह उखड़ी हुई थी, भी गलत है। उसके शरीर पर एसिड डाला गया था यह भी गलत है, ऐसा कुछ नहीं हुआ था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट पीड़िता के परिवार से भी साझा किया गया है।”

ऑपइंडिया ने घटना के बाद से ही एसएसपी से बात करने की कोशिश की और आज जब उनसे संपर्क हुआ तो AltNews के झूठ की कई और परतें खुल गई। हालाँकि, ऑपइंडिया ने पहले भी कई बार AltNews को बेनकाब किया है और AltNews के अलीगढ़ वाली रिपोर्ट और फैक्ट चेक का भी हमने फैक्ट चेक कर उनके अजेंडे का खुलासा किया था। इसी घटना के सम्बन्ध में जब ऑपइंडिया ने एसएसपी आकाश कुल्हारी से बात की तो उन्होंने साफ कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रेप हुआ या नहीं ऐसा कोई दावा नहीं किया गया। उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस ने अभी दो हॉस्पिटल को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भेजी है, इस रिपोर्ट पर अपनी विस्तृत रिपोर्ट देने के लिए।

ऑपइंडिया ने एसएसपी आकाश कुल्हारी से यह भी पूछा कि क्या उन्होंने AltNews को कोई ऐसा स्टेटमेंट दिया था जिसमें यह दावा हो कि पीड़िता बच्ची की आँख बाहर नहीं निकली थी या उसकी बाँह उखड़ी हुई नहीं थी? एसएसपी कुल्हारी ने ऐसे किसी भी बयान से इनकार किया जो उनके नाम से AltNews ने ऊपर कोट किया है।

(नीचे दिए गए यूट्यूब लिंक पर आप एसएसपी आकाश कुल्हारी से हमारी बातचीत सुन सकते हैं)

ऑपइंडिया: सर, There is a website called AltNews where they have quoted you… कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लिखा है कि रेप नहीं हुआ है ?

SSP कुल्हारी : नहीं, ऐसा मैंने कुछ नहीं कहा

ऑपइंडिया: विक्टिम की जो आँखे gouged की थी, amputation of right arm क्या ऐसा नहीं है कुछ पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ?

SSP कुल्हारी: रिपोर्ट में ऐसा लिखा हुआ है

ऑपइंडिया : तो क्या उन्होंने आपको गलत कोट किया ?

SSP कुल्हारी : Yes, obviously. I think so.

एसएसपी कुल्हारी ने इस घटना के सम्बन्ध में यह भी कहा कि अगले 3-4 दिन में नए अपडेट्स आएँगे।

यहाँ यह साफ देखा जा सकता है कि कैसे AltNews ने ज़ाहिद और असलम के अपराध को कम करके दिखाने के लिए, स्वघोषित फैक्ट चेकर होते हुए भी तथ्यों से छेड़छाड़ की। झूठ का पर्दाफाश करने का झूठा दावा करने वाली AltNews जैसी वेबसाइट खुद ही एसएसपी के नाम से भी झूठ परोसती नज़र आ रही है।

AltNews ने यहाँ तक दावा कर दिया था कि Opindia की इस घटना पर पहली रिपोर्ट जिसमें बच्ची के शरीर के क्षत होने और बर्बरता की बात कही गई थी ‘फेक’ है। यहाँ उनका पूरा दावा इस आधार पर था कि आँख बाहर नहीं आई थी। जिसके बारे में हमनें डॉक्टर से बात की जिन्हे हमने पोस्टमार्टम रिपोर्ट दिखाया था। उन्होंने साफ कहा और यहाँ तक कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी यही कह रही है कि आँखे भी क्षतिग्रस्त थी।


अलीगढ़ मामले में AltNews की रिपोर्ट से


AltNews के रिपोर्ट जिसका टाइटल था, “Murder of a child in Aligarh: Fact-checking social media claims”, जिसमें AltNews ने दावा किया था कि OpIndia ने ‘झूठा दावा’ किया है कि पीड़िता की आँख बाहर आ गई थी। जिसके लिए झूठ इम्प्लान्ट करने का ठेका लेने वाले फैक्ट चेकर ने एसएसपी आकाश कुल्हारी के नाम से कुछ दावे भी किए जबकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में साफ मेंशन है कि ‘eye tissue absent, orbital socket intact’.


अलीगढ़ मामले की पोस्ट मार्टम रिपोर्ट (image courtesy: journalist @anjanaomkashyap on Twitter)

ऑपइंडिया ने इस पोस्टमार्टम रिपोर्ट को कई डॉक्टरों को दिखाया। उन्होंने बताया कि बच्ची की मौत उसे लगने वाली कई गंभीर चोटों की वजह से हुई है। एक डॉक्टर ने यह भी स्पष्ट किया, “जख्म इतने गहरे और घातक हैं कि उससे शॉक और मौत निश्चित है। शॉक की पुष्टि वेसल्स के कोलैप्स होने से हो जाती है (ऐंटेमार्टम साइन) मृत्यु से पहले बहुत ज़्यादा ब्लड लॉस भी हुआ था।”

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर डॉक्टर्स का कहना है, “सबसे महत्पूर्ण बात यहाँ यह है कि उस बच्ची के गर्भाशय और जेनिटल सहित एब्डॉमिनल ऑर्गन भी गायब हैं। जो इस बात का सबूत है कि उसे वीभत्स तरीके से टार्चर किया गया था जिससे उसकी शरीर से अत्यधिक रक्तस्राव हुआ हो और जो उसके ब्लड वेसेल्स के कोलैप्स होने की वजह भी हो। बाकी दूसरे घातक जख्म, जैसे पाँव का घुटने के नीचे से फैक्चर होना और हाथ की एक हड्डी ह्यूमरस का उखड़ जाना, का वर्णन ही बर्बरता की पूरी कहानी कह रहा है। रेप की पुष्टि के लिए हालाँकि वेजाइनल स्वैब जाँच के लिए भेजा गया है लेकिन बॉडी डिकम्पोज होने की वजह से शायद ही इस जाँच के लिए उपयोगी हो। वैसे यहाँ यह जानना ज़रूरी है कि स्वैब का परिणाम नेगेटिव आना सेक्सुअल एक्ट के न होने का सबूत होता है।”

डॉक्टर ने आगे कहा, “उसकी दाहिने भुजा की हड्डी का उखड़ना और बाएँ पाँव का फ्रैक्चर निश्चित रूप से उसके मौत के पहले की घटना है। उसके एब्डॉमिनल अंगों का गायब होना भी उसके साथ हुई बर्बरता का सबूत है।”

यहाँ गौरतलब है कि ऐसे स्वघोषित एक्टिविस्ट के लिए पुलिस का स्टेटमेंट ही अंतिम सत्य की तरह है क्योंकि यह इनके एजेंडे और नैरेटिव को आगे बढ़ा रहा है। यदि इनके एजेंडे को शूट नहीं कर रहा है तो यह गिरोह कोर्ट के निर्णय को भी मानने से इनकार कर देगा। AltNews के इसी तर्क से सवाल यहाँ यह भी है कि क्या AltNews के संस्थापक इशरत जहाँ के मामले में यह स्वीकार सकते हैं कि वह एक आतंकी थी क्योंकि कई पुलिस वालों ने ऐसा कहा है। हम सब को उनका जवाब पता है।

दूसरे आरोपित असलम को भी AltNews ने बचाने की कोशिश की थी, जिस पर पहले से अपनी बेटी और एक और बच्ची के साथ रेप का आरोप है। उसे पहले भी पॉक्सो के तहत गिरफ्तार किया जा चुका है।

हालाँकि, AltNews ने सोशल मीडिया पर लम्बी फजीयत के बाद और पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट से उसके हर झूठ की कलई खुलने के बाद, AltNews ने अपनी ऑरिजिनल रिपोर्ट को अपडेट किया, यह कहते हुए कि हमने एक बार फिर एसएसपी आकाश कुल्हारी से संपर्क किया, जिन्होंने कन्फर्म किया कि हाँ, बच्ची की बाँह उखड़ी हुई थी। सिर्फ इतना जिक्र कर भी AltNews ने उस क्रूरता से इनकार ही किया जिसका जिक्र पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में है।

अब यहाँ आश्चर्य की बात यह है कि जब एसएसपी खुद ही इनकार कर रहे हैं तो फैक्ट चेकर ने जब जज बनकर पूरी घटना की गंभीरता को कम करना चाहा और सारे निष्कर्ष बिना किसी परिणाम के थोप दिए तो आखिर वह अपने उस निर्णय तक पहुँचे कैसे? ना सही स्टेटमेंट और न ही पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट? क्या महज अजेंडा सेटिंग ही नहीं था वह फैक्ट चेक क्योंकि यहाँ आरोपित दूसरे मजहब है और पीड़िता एक हिन्दू?

इस पूरे प्रकरण से कई और सवाल उभर कर सामने आते हैं–

  1. AltNews ने सोशल मीडिया पर अफवाहों के फैक्टचेक के लिए पुलिस के बयान पर ज़्यादा यकीन किया बनिस्बत पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के।
  2. AltNews अपने एक पॉइंट को सिद्ध करने के लिए पुलिस अधिकारी का ट्विस्टेड बयान का प्रयोग किया न कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का।
  3. AltNews ने यहाँ मात्र अपने अजेंडा सेटिंग के लिए तथ्यों की जगह अपनी कल्पनाओं और झूठ का प्रयोग कर आरोपितों के अपराध को कम कर दिखाना चाहा।
  4. AltNews को यह भी नहीं पता कि प्राइमरी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट क्या होती है। जिसमे इस बात का जिक्र नहीं होता कि रेप हुआ है या नहीं। वास्तव में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट या ऑटोप्सी केवल यह पता करने के लिए होता है कि मौत का कारण क्या था और जख्मों की विस्तृत जाँच पड़ताल की जाती है जो मृत्यु की वजह बने। ऑपइंडिया ने जब इस सम्बन्ध में डॉक्टर से बात की तो उन्होंने बताया कि रेप की पुष्टि वजाइनल स्वैब की रिपोर्ट आने के बाद ही होती है। अलीगढ़ मामले में भी अभी तक रिपोर्ट का इंतज़ार है जिसमें आमतौर पर 1 सप्ताह से 1 महीने तक का भी समय लग सकता है। प्राइमरी रिपोर्ट वास्तव में अंतिम निष्कर्ष नहीं होती।
  5. AltNews ने शायद अपने प्रोपेगेंडा और अपनी धूर्तता से विवश होकर सोशल मीडिया फैक्ट चेक के नाम पर इस पूरे मामले की गंभीरता को कम करके दिखाने की कोशिश की, क्योंकि यहाँ आरोपित दूसरे विशेष मजहब से थे और यह घटना रमजान के पाक महीने में हुई थी।

इतनी सारी विसंगतियों को देखते हुए अब तो AltNews को कायदे से मेमे चेक करने के व्यवसाय में आ जाना चाहिए क्योंकि गंभीर और अतिसंवेदनशील मसले में फैक्ट चेक के नाम पर टाँग घुसा कर पाठकों को गुमराह करना भी गुनाह है। लेकिन, क्या करें AltNews! अजेंडा और प्रोपेगेंडा भी तो कोई चीज होती है और उसके बल जब फैक्ट चेक एक धंधा बन जाए तो सत्य के प्रति जिम्मेदारी हमारी-आपकी और बढ़ जाती है। ऑपइंडिया अपनी सत्य के प्रति प्रतिबद्धता हर बार ऐसे छद्म स्वघोषित फैक्ट चेकरों को बेनकाब कर करेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।
00:14:07

कानपुर लव जिहाद SIT रिपोर्ट की क्रूर सच्चाइयाँ जो वामपंथी छुपा रहे हैं: अजीत भारती का वीडियो | Kanpur SIT report analysis

‘लव जिहाद’ को बार-बार समझना आवश्यक है क्योंकि कुछ लम्पट वामपंथी पोर्टल और बकैत एंकर इसे ‘अंतरधार्मिक विवाह‘ का मसला और ‘प्रेम पर सरकार का पहरा’ मान कर स्थापित करने में सत्तू-पानी बाँध कर बैठ गए हैं।

‘खट्टर का हो गया, अब मोदी की बारी है’: JNU हिंसा और दिल्ली दंगों से जुड़ रहे ‘किसान आंदोलन’ के तार, उपद्रव के 2...

'किसान आंदोलन' के तार जनवरी 2020 में JNU में हुई हिंसा और फरवरी के अंतिम हफ्ते में हुए दिल्ली के CAA विरोधी दंगों से जुड़ रहे हैं।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

प्रचलित ख़बरें

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

ये कौन से किसान हैं जो कह रहे ‘इंदिरा को ठोका, मोदी को भी ठोक देंगे’, मिले खालिस्तानी समर्थन के प्रमाण

मीटिंग 3 दिसंबर को तय की गई है और हम तब तक यहीं पर रहने वाले हैं। अगर उस मीटिंग में कुछ हल नहीं निकला तो बैरिकेड तो क्या हम तो इनको (शासन प्रशासन) ऐसे ही मिटा देंगे।

दिल्ली के बेगमपुर में शिवशक्ति मंदिर में दर्जनों मूर्तियों का सिर कलम, लोगों ने कहते सुना- ‘सिर काट दिया, सिर काट दिया’

"शिव शक्ति मंदिर में लगभग दर्जन भर देवी-देवताओं का सर कलम करने वाले विधर्मी दुष्ट का दूसरे दिन भी कोई अता-पता नहीं। हिंदुओं की सहिष्णुता की कृपया और परीक्षा ना लें।”

’26/11 RSS की साजिश’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के चहेते पत्रकार ने PAK को क्लिन चिट देकर हमले का आरोप मढ़ा था भारतीय सेना पर

साल 2007 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अजीज़ को उसके उर्दू भाषा अखबार रोजनामा राष्ट्रीय सहारा के लिए उत्कृष्ट अवार्ड दिया था। कॉन्ग्रेस में अजीज़ को सेकुलरिज्म का चमचमाता प्रतीक माना जाता था।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

4 राज्य, 45 जगहें: कोयला घोटाला में सीबीआई का छापा, TMC नेताओं के करीबी ‘लाला’ पर भी कसा शिकंजा

कोयला घोटाले में सीबीआई ने शनिवार को ताबड़तोड़ छापेमारी की। पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार की कुल 45 जगहों पर छापा मारा गया।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।
00:14:07

कानपुर लव जिहाद SIT रिपोर्ट की क्रूर सच्चाइयाँ जो वामपंथी छुपा रहे हैं: अजीत भारती का वीडियो | Kanpur SIT report analysis

‘लव जिहाद’ को बार-बार समझना आवश्यक है क्योंकि कुछ लम्पट वामपंथी पोर्टल और बकैत एंकर इसे ‘अंतरधार्मिक विवाह‘ का मसला और ‘प्रेम पर सरकार का पहरा’ मान कर स्थापित करने में सत्तू-पानी बाँध कर बैठ गए हैं।

‘खट्टर का हो गया, अब मोदी की बारी है’: JNU हिंसा और दिल्ली दंगों से जुड़ रहे ‘किसान आंदोलन’ के तार, उपद्रव के 2...

'किसान आंदोलन' के तार जनवरी 2020 में JNU में हुई हिंसा और फरवरी के अंतिम हफ्ते में हुए दिल्ली के CAA विरोधी दंगों से जुड़ रहे हैं।

क्या पुलिस ने बुजुर्ग किसान पर लाठी चलाई? राहुल गाँधी के झूठे दावों की खुली पोल

राहुल गाँधी की द्वारा साझा की गई इस तस्वीर को प्रोपेगेंडा बताते हुए भाजपा आईटी सेल के मुखिया अमित मालवीय ने लिखा कि पुलिसकर्मी ने उस किसान को छुआ तक नहीं।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

‘ब्राह्मण @रामी, संस्कृत घृणा से भरी’: मणिपुर के छात्र संगठन ने स्कूल-कॉलेज में संस्कृत की कक्षा का किया विरोध

मणिपुर के छात्र संगठन MSAD ने संस्कृत को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाए जाने पर एतराज जताया है। इसके लिए ब्राह्मणों को जिम्मेदार बताया है।

लव जिहाद पर यूपी में अब बेल नहीं, 10 साल की सजा संभव: योगी सरकार के अध्यादेश पर राज्यपाल की मुहर

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 'ग्रूमिंग जिहाद (लव जिहाद)' के खिलाफ बने विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 पर हस्ताक्षर कर दिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,435FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe