Tuesday, July 16, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए': रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो...

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

आलम नाम के यूजर ने रुबिका के इस पोस्ट पर लिखा, "तुझे तो जल्द से जल्द आत्महत्या कर लेनी चाहिए रुबिका। क्योंकि अभी मोदी जिंदा है, तेरी मूर्ति को नागपुर के मुख्यालय मे स्थापित करा देगा, बाद मे मुश्किल होगी।"

एबीपी की एंकर रुबिका लियाकत अक्सर अपनी बेबाक राय के कारण इस्लामी कट्टरपंथियों के निशाने पर रहती हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है। रुबिका ने ईद के मौके पर अपनी एक फोटो शेयर की। इस फोटो में वह पीले परिधान में नजर आती हैं।

इस तस्वीर को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा- ईद मुबारक और येलो ट्विटर भी। इसके बाद कई यूजर्स ने उन्हें ईद की मुबारकबाद दी। लेकन कट्टरपंथी इस तस्वीर को देखकर बिदक गए।

आलम नाम के यूजर ने रुबिका के इस पोस्ट पर लिखा, “तुझे तो जल्द से जल्द आत्महत्या कर लेनी चाहिए रुबिका। क्योंकि अभी मोदी जिंदा है, तेरी मूर्ति को नागपुर के मुख्यालय मे स्थापित करा देगा, बाद मे मुश्किल होगी।”

इसके बाद सोनू कुरैशी ने लिखा, “अल्लाह माफ करे शक्ल पर दलाली करने के आसार नजर आ रहे हैं, दलाली करना छोड़ दो वरना शीशा देखने में भी शर्म लगेगी।”

वहीं, डार वसीम रुबिका के लिए लिखता है, “भगवा झंडा आप पे अच्छा लगता है, इससे आपके आका खुश होंगे”

जाकिर खान लिखता है, “आप भी मनाती हो ईद? क्योंकि आपको तो खून देखके मजा आता है।”

इसी प्रकार औरंगजेब आलम रुबिका को पूरी डायन बताता है और अली सैम उन्हें दलाल एंकर बताकर कहता है कि रुबिका तुम्हारा कोई धर्म नहीं है। वहीं, कुछ कट्टरपंथी ऐसे भी कमेंट करते दिखते हैं कि रुबिका तुमने पीला रंग क्यों पहना है, तुम पर तो भगवा अच्छा लगता है।

यहाँ बता दें कि ये पहली बार नहीं है, जब रुबिका लियाकत को किसी विशेष अवसर पर मजहबी कट्टरपंथियों ने निशाना बनाया हो। इससे पहले उनके जन्मदिन पर भी कई ऐसे ट्वीट सामने आए थे, जिनमें कुछ ऐसे ही मजहबी ठेकेदारों ने रुबिका के चरित्र पर सवाल उठा दिया था और उनकी पत्रकारिता को एकतरफा बताया था।

साथ ही एक यूजर ने उनके आभार संदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्हें मुजरे वाली दलाल कहा था। आरफा नाम की यूजर ने लिखा था, “रुबिका लियाकत देश के लिए एक आतंकवादी से खतरनाक वायरस है। अगर देश में शांति चाहते हो तो ऐसे वायरसों के साथ मत दो इनका बायो काट करो। मुजरे वाली दलाल।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -