Tuesday, October 19, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'सोनिया गाँधी को असली नाम से बुलाया, इसीलिए पप्पू सेना अर्णब को दे रही...

‘सोनिया गाँधी को असली नाम से बुलाया, इसीलिए पप्पू सेना अर्णब को दे रही यातनाएँ’: कंगना ने ठाकरे सरकार को बताया ‘फासिस्ट’

कंगना रनौत ने महाराष्ट्र की सरकार को 'फासिस्ट' करार देते हुए कहा कि 'पप्पू सेना' ने ये बेवकूफी कर के अर्णब गोस्वामी को आज तक का सबसे लोकप्रिय पत्रकार बना दिया है और उन्हें शायद पता नहीं है कि वो उन्हें जितनी यातनाएँ देंगे, टॉर्चर करेंगे, उनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जाएगी।

अभिनेत्री कंगना रनौत ने ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी की गिरफ़्तारी और उनके प्रताड़ना के आरोपों पर बोलते हुए कहा है कि ड्रग माफिया की पोल खोलने, ‘BullyDawood’ में बच्चों की तस्करी के व्यापार की पोल खोलने और सोनिया गाँधी को उनके ‘असली नाम’ से बुलाने के लिए उनके साथ ऐसा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अधिकतर लोगों को ये भी नहीं पता कि वरिष्ठ पत्रकार को जेल में क्यों डाला गया है?

लोगों को समझाते हुए कंगना रनौत ने बताया कि 2018 में एक शख्स ने आत्महत्या की थी और उन्होंने अपने सुसाइड नोट में कुछ लोगों के नाम लिखे थे, जिनमें अर्णब गोस्वामी का नाम भी था। कंगना रनौत ने बताया कि जहाँ उक्त शख्स ने सुसाइड नोट में दावा किया था कि अर्णब गोस्वामी ने उनके रुपए नहीं दिए, वहीं ‘रिपब्लिक’ की टीम का कहना है कि उन्होंने रुपए लौटा दिए थे। उन्होंने कहा कि ये तो भगवान निर्णय ले सकते हैं कि किसी के पैसे न देने पर कोई आत्महत्या कर सकता है या नहीं।

कंगना रनौत ने ट्विटर पर जारी किए गए वीडियो में आगे कहा कि अगर ऐसा हो सकता है तो ये ‘आत्महत्या के लिए उकसाने’ का मामला है या नहीं। उन्होंने कहा कि ये मामला ऐसा है या नहीं कि इसमें इतना बड़ा ट्रायल हो, ये भी सोचने वाली बात है। कंगना ने कहा कि ये सबको पता है कि अर्णब को क्यों जेल ले जाया गया है। उन्होंने कहा कि ‘पप्पू सेना’ द्वारा उन्हें यातनाएँ दी जा रही हैं क्योंकि उन्होंने सोनिया गाँधी का ‘असली नाम’ लिया।

कंगना रनौत ने महाराष्ट्र की सरकार को ‘फासिस्ट’ करार देते हुए कहा कि ‘पप्पू सेना’ ने ये बेवकूफी कर के अर्णब गोस्वामी को आज तक का सबसे लोकप्रिय पत्रकार बना दिया है और उन्हें शायद पता नहीं है कि वो उन्हें जितनी यातनाएँ देंगे, टॉर्चर करेंगे, उनकी लोकप्रियता बढ़ती ही जाएगी। कंगना रनौत ने कहा कि इतिहास ‘पप्पू सेना’ को इसी रूप में याद रखेगा कि उन्होंने संविधान के चौथे स्तम्भ के साथ ऐसी ज्यादती की थी।

साथ ही उन्होंने कहा कि इतिहास अर्णब गोस्वामी को एक हीरो के रूप में याद रखेगा। उन्होंने कहा कि ये लड़ाई सिर्फ उनकी या अर्णब की नहीं है, बल्कि पूरी सभ्यता और भारतवर्ष की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि इस मामले में हाईकोर्ट खुद कह रहा है कि ये गलत है लेकिन बाहर कोई कुछ नहीं बोल रहा। उन्होंने उदाहरण दिया कि अमेरिका में ट्रम्प में लाख बुराइयाँ हों लेकिन वो आतंकवाद को ‘इस्लामी आतंकवाद’ कहते हैं और कोरोना को ‘चाइनीज वायरस’ कहते हैं।

इधर अर्णब गोस्वामी ने खुलासा किया है कि पुलिस उनसे कह रही है कि वो उन्हें उनके वकीलों से संपर्क ही नहीं करने देगी। उन्होंने कहा, “मेरी ज़िंदगी खतरे में है। मैं भारत की जनता को, पूरे देश की जनता को बताना चाहता हूँ कि मेरी जान खतरे में है।”

अर्णब गोस्वामी इससे पहले अलीबाग क्वारंटाइन सेंटर में ज्यूडिसियल कस्टडी में थे। अब सभी की नजरें सोमवार को आने वाले बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर टिकी हुई हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe