Saturday, July 2, 2022
Homeरिपोर्टमीडिया'हिन्दुओं में भेद पैदा करने के लिए षड्यंत्र': The Lallantop को महंत ने लताड़ा,...

‘हिन्दुओं में भेद पैदा करने के लिए षड्यंत्र’: The Lallantop को महंत ने लताड़ा, चलाया था शिवलिंग को फव्वारा बताने वाला बयान

उन्होंने ऐसा करने वालों को विधर्मी करार देते हुए कहा कि ऐसे लोगों को पहचानने की जरूरत है, जो एक लॉबी षड्यंत्र के रूप में काम कर रही है।

हाल ही में ‘The Lallantop (दी लल्लनटॉप)’ नामक मीडिया वेबसाइट ने खबर चलाई कि ‘काशी करवट’ के महंत गणेश शंकर उपाध्याय ने कहा है कि ज्ञानवापी विवादित ढाँचे में जो मिला, वो शिवलिंग नहीं बल्कि फव्वारा है। मुस्लिम पक्ष के झूठे एजेंडे को चलाने वाले ‘लल्लनटॉप’ को अब महंत ने जम कर खरी-खोटी सुनाई है और उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश करने पर लताड़ा है। आइए, बताते हैं कि माजरा क्या है।

‘खबर इंडिया’ के केशव मालान से बात करते हुए महंत गणेश शंकर उपाध्याय ने स्पष्ट कहा कि क्या लोग अंधे हैं कि उन्हें दिखाई नहीं दे रहा है? उन्होंने कहा कि पूरे ज्ञानवापी में हिंदू मंदिर होने के प्रमाण मौजूद हैं, कैसे उसे मस्जिद मान लें? उन्होंने कहा कि ज्ञानवापी के ऊपर-नीचे, अलग-बगल, चारों तरफ प्रमाण पड़े हुए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि ‘लल्लनटॉप’ ने उन्हें बरगला कर के कुछ कहवा लिया और घूमा-फिरा कर सिद्ध करने में लगे हुए हैं कि वो फव्वारा है।

‘The Lallantop’ पर महंत गणेश शंकर उपाध्याय का बयान तोड़-मरोड़ कर चलाने का आरोप

महंत ने कहा, “किस सदी की बात कर रहे हैं? हम सनातनियों से सदियों की बात कीजिए, जिनका लाखों वर्षों का इतिहास है। पुराण है। ग्रन्थ है हमारे। कौन उससे इनकार करता है। दुष्प्रचारित करने वाले कलंक हैं हिन्दू समाज के नाम पर। 5 बार आप रिकॉर्डिंग करते हैं और दिखाएँगे 5 मिनट का। कहाँ का किसका आपने किसमें जोड़ दिया और कहा से क्या ले लिया… पूरे षड्यंत्र के तहत मेरे बयान को इस तरह से पेश किया गया, ताकि हिन्दुओं में विभेद हो, वो एकजुट न रहें।”

उन्होंने ऐसा करने वालों को विधर्मी करार देते हुए कहा कि ऐसे लोगों को पहचानने की जरूरत है, जो एक लॉबी षड्यंत्र के रूप में काम कर रही है। उन्होंने कहा कि ये मीडिया से लेकर राजनीति तक में सक्रिय हैं। मुस्लिम पक्ष के ‘बाबरी देने’ वाले बयान पर महंत ने कहा कि हमने लड़ कर के बाबरी लिया है, हजारों लोगों ने जान न्योछावर किया है – उन्होंने भीख दिया क्या? उन्होंने औरंगजेब की क्रूरता और उसके भाई की हत्या का जिक्र करते हुए कहा कि उससे ज्यादा वीभत्स इतिहास किसी मुग़ल शासक का नहीं रहा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe