Thursday, September 23, 2021
Homeरिपोर्टमीडियातालिबान को NDTV पर जगह, ऐसे कर रहा बचाव: हत्या, भारत (दोस्त या दुश्मन),...

तालिबान को NDTV पर जगह, ऐसे कर रहा बचाव: हत्या, भारत (दोस्त या दुश्मन), बच्चियों से शादी… दिखा रहा आतंकी के तर्क

दानिश सिद्दकी की निर्मम हत्या पर एनडीटीवी से तालिबानी प्रवक्ता ने कहा, "आप ऐसा नहीं कह सकते कि दानिश को हमारे लड़ाकों ने मारा। वो क्रॉस फायरिंग में मरा है।"

आतंकियों के तर्कों से पाठकों/दर्शकों को अवगत कराना अब NDTV, पत्रकारिता करने का तरीका मान चुका है। यही कारण है कि इस बार उसने तालिबान को अपने प्लेटफॉर्म पर जगह दी है। हाल में खबर आई थी कि तालिबान ने अफगान के 22 सुरक्षाकर्मियों को मारा है। ये खबर हर जगह थी, लेकिन एनडीटीवी आपके लिए इसका फैक्टचेक लेकर आया है। उसने संपर्क सीधा तालिबान के प्रवक्ता से किया और दिखाया कि जैसी खबर अफगान से आ रही हैं, वो तो सच ही नहीं है। सच वो है जो तालिबान का प्रवक्ता बताएगा, वो भी एनडीटीवी के माध्यम से।

नीचे लगाए गए स्क्रीनशॉट्स में देख सकते हैं कि एनडीटीवी ने कुछ ही देर पहले 5 ट्वीट किए है। सबमें अलग-अलग सवालों पर आतंकी तालिबान की राय है। इसमें उसने मोहम्मद सोहेल शाहीन, जो तालिबान का प्रवक्ता है, उसके बयानों को रिएलिटी चेक का नाम दिया है। इसमें शाहीन ने कहा है, “हमारे यहाँ ऐसा कोई मामला नहीं है, जब हमने सरेंडर हुए लोगों को मारा हो।”

फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दकी की निर्मम हत्या पर एनडीटीवी से तालिबानी प्रवक्ता ने कहा, “आप ऐसा नहीं कह सकते कि दानिश को हमारे लड़ाकों ने मारा। वो क्रॉस फायरिंग में मरा है।”

भारत, तालिबानियों का दोस्त है या दुश्मन? इस सवाल तक पर एनडीटीवी द्वारा सोहेल से जवाब लिया गया है और उसने बताया है कि ये तो भारत पर निर्भर होता है कि वो दोस्त हैं या दुश्मन।

15 साल की लड़कियों के तालिबानियों से निकाह पर सोहेल के बयान को रिएलिटी चेक का हिस्सा बताकर पेश किया गया। बयान में सोहेल ने कहा, “ये इस्लाम के नियम के विरुद्ध है कि किसी आदमी को उसकी बेटी देने के लिए दबाव बनाएँ। ये हो ही नहीं सकता। ये फेक न्यूज है।”

तालिबान को पाकिस्तान का साथ है या नहीं? इसके जवाब में सोहल ने एनडीटीवी को कहा है, “आप कहते हैं कि तालिबान के पीछे पाकिस्तान का हाथ है, लेकिन मुझे लगता है कि पाकिस्तान से दुश्मनी के कारण आप ऐसा कहते हैं, न कि अफगानिस्तान की हकीकत के आधार पर।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा मेनस्ट्रीम मीडिया: जिस तस्वीर पर NDTV को पड़ी गाली, वह HT ने किस ‘दहशत’ में हटाई

इस्लामी कट्टरपंथ से डरा हुआ मेन स्ट्रीम मीडिया! ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि हिंदुस्तान टाइम्स ने ऐसा एक बार फिर खुद को साबित किया। जब कोरोना से सम्बंधित तमिलनाडु की एक खबर में वही तस्वीर लगाकर हटा बैठा।

गले पर V का निशान, चलता पंखा… महंत नरेंद्र गिरि के ‘सुसाइड’ पर कई सवाल, CBI जाँच को योगी सरकार तैयार

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष रहे महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले की CBI जाँच कराने की सिफारिश की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,886FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe