Tuesday, August 3, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाराजदीप पर कार्रवाई से अत्यंत कष्ट में लिब्रांडू समुदाय, कहा- अपने सभी एंकरों पर...

राजदीप पर कार्रवाई से अत्यंत कष्ट में लिब्रांडू समुदाय, कहा- अपने सभी एंकरों पर एक्शन लोगे तो बहुत पैसा बचेगा

निखिल वागले लिखते हैं, “अब इंडिया टुडे देखने का एक माह तक कोई मतलब नहीं है जब सबसे विश्वसनीय एंकर ही ऑफ एयर किया जा चुका हो। दर्शकों को भी ब्रेक लेना चाहिए।।”

राजदीप सरदेसाई के ख़िलाफ़ इंडिया टुडे की कार्रवाई से लिबरल गिरोह बिलबिला उठा है। एक ओर जहाँ राजदीप ने स्वयं इस एक्शन से आहत होकर अपना इस्तीफा समूह को सौंप दिया है। वहीं उनकी पत्नी सागरिका घोष समेत कई कॉमरेड भी उनके समर्थन में उतरे हैं।

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर पलटने से एक किसान प्रदर्शनकारी की मौत हुई और राजदीप ने बिन प्रमाणिकता जाँचे ये फैला दिया कि उस किसान की मौत पुलिस की गोली लगने से हुई है। सागरिका ने अब अपने पति राजदीप का इसी एंगल पर बचाव करते हुए समझाया है कि कैसे डेवलवपिंग स्टोरी में सच्चाई हर घंटे बदलती है। 

उन्होंने लिखा, “तेजी से सामने आ रही डेवलपिंग स्टोरी में हर घंटे सच्चाई बदलती है। जानकारी आते ही कहानी बदल दी गई और उसे सही किया गया। दुखद यह है कि पत्रकार के पीछे पड़ने में हम वास्तविक मुद्दों और 24 साल के मृत किसान से ध्यान हटा लेते हैं। वाहक को मत गोली मारिए।”

सागरिका का यह ट्वीट दिलीप शेरीन के ट्वीट के जवाब में आया, जिसमें उन्होंने लिखा था, “राजदीप सरदेसाई को ऑफ एयर करना कुछ ज्यादा है… कल्पना करिए अगर इसे नियम बना दिया गया तो नग्र चैनल कैसे होंगे। एक गलती के बाद भी राजदीप एक ब्रेक डिजर्व करते हैं।”

इसी तरह निखिल वागले लिखते हैं, “अब इंडिया टुडे देखने का एक माह तक कोई मतलब नहीं है जब सबसे विश्वसनीय एंकर ही ऑफ एयर किया जा चुका हो। दर्शकों को भी ब्रेक लेना चाहिए।।”

ऑल्ट न्यूज संस्थापक प्रतीक सिन्हा लिखते हैं, “इंडिया टुडे समूह अपने वेतन बिल पर बहुत बचत कर सकता है अगर वे गलत सूचना के लिए समाचार एंकरों / पत्रकारों को दंडित करने की अपनी नीति को लागू करने में बराबर रहें।”

मोहम्मद थारिक लिखते हैं, “हम आपको मिस करेंगे राजदीप सरदेसाई। चुनावी नतीजों के लिए और विश्लेषण के लिए। आप और प्रणय रॉय मेरी पहली प्राथमिकता हो। नए प्लेटफॉर्म पर जल्दी आओ।”

प्रशांत भूषण ने लिखा, “इंडिया टुडे पूरी तरह बहानेबाजी करते हुए गोदी मीडिया में शामिल हो गया है। राजदीप सरदेसाई को ऑफ एयर, सैलरी में कटौती, वो भी एक वापस लिए जा चुके ट्वीट के लिए। अगर ये पॉलिसी लगातार अपनाए तो ज्यादातर एंकर पर कार्रवाई करनी पड़ेगी।”

पूर्व सांसद शाहिद सिद्दकी लिखते हैं, “इंडिया टुडे/आजतक फ्री में अपना चैनल चला सकते हैं अगर गलत समाचार और झूठी खबरों पर इसी तरह सैलरी काट लें। मुफ्त में मौज ही मौज।”

बता दें कि इंडिया टुडे के वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई को आज इंडिया समूह के प्रबंधन ने दो हफ्ते तक के लिए ऑफ एयर कर दिया। इसके अलावा उनकी एक माह की सैलरी भी काटे जाने का निर्णय लिया गया। सरदेसाई पर यह कार्रवाई सोशल मीडिया पर उनके कुछ पोस्ट्स को लेकर की गई। इसके बाद उनके इस्तीफे देने की बात सामने आई और लिबरल गिरोह सोशल मीडिया पर उनके लिए बिलबिलाता दिखा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सागर धनखड़ मर्डर केस में सुशील कुमार मुख्य आरोपित: दिल्ली पुलिस ने 20 लोगों के खिलाफ फाइल की 170 पेज की चार्जशीट

दिल्ली पुलिस ने छत्रसाल स्टेडियम में पहलवान सागर धनखड़ हत्याकांड में चार्जशीट दाखिल की है। सुशील कुमार को मुख्य आरोपित बनाया गया है।

यूपी में मुहर्रम सर्कुलर की भाषा पर घमासान: भड़के शिया मौलाना कल्बे जव्वाद ने बहिष्कार का जारी किया फरमान

मौलाना कल्बे जव्वाद ने आरोप लगाया है कि सर्कुलर में गौहत्या, यौन संबंधी कई घटनाओं का भी जिक्र किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,651FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe