Wednesday, July 24, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाधीरज साहू पर कॉन्ग्रेस को राजदीप सरदेसाई ने दी क्लीनचिट: कहा- उन्हें टिकट नहीं...

धीरज साहू पर कॉन्ग्रेस को राजदीप सरदेसाई ने दी क्लीनचिट: कहा- उन्हें टिकट नहीं देना चाहती थी पार्टी, जिन्होंने दिलवाई वे मर गए या या BJP में हैं

कॉन्ग्रेस और वामदलों के हिमायती पत्रकार राजदीप सरदेसाई सांसद धीरज साहू के घर से बरामद सैकड़ों करोड़ रुपए की नकदी के मामले में उनकी पार्टी के बचाव में उतर आए हैं। धीरज साहू के घर से इनकम टैक्स (आईटी) विभाग ने रेड डालकर 353 करोड़ रुपए से अधिक की नकदी बरामद की है।

कॉन्ग्रेस और वामदलों के हिमायती पत्रकार राजदीप सरदेसाई सांसद धीरज साहू के घर से बरामद सैकड़ों करोड़ रुपए की नकदी के मामले में उनकी पार्टी के बचाव में उतर आए हैं। आयकर (आईटी) विभाग ने कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद धीरज साहू के ठिकानों पर रेड डालकर 353 करोड़ रुपए से अधिक की भारी नकदी बरामद की है।

नकदी बरामद होने के बाद कुछ दिनों बाद ही राजदीप सरदेसाई कॉन्ग्रेस की ढाल बनते दिख रहे हैं। दरअसल, शुक्रवार (16 दिसंबर 2023) को अपने यूट्यूब चैनल पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में सरदेसाई ने दावा किया कि घोटाले के इस दागी नेता के सांसद बनने की कोई उम्मीद नहीं थी।

उन्होंने एक काल्पनिक सोर्स का हवाला देते हुए आरोप लगाया कि कॉन्ग्रेस 2018 में साहू को राज्यसभा का टिकट नहीं देना चाहती थी। विवादास्पद पत्रकार सरदेसाई ने दावा किया कि कॉन्ग्रेस पार्टी उन नेताओं की पैरवी के बाद साहू को टिकट देने को तैयार हुई थी, जो अब बीजेपी में शामिल हो गए हैं।

राजदीप सरदेसाई ने मर चुके एक कॉन्ग्रेस नेता का हवाला देते हुए अंदाजा लगाया कि शायद उन्होंने ने ही धीरज प्रसाद साहू को राज्यसभा भेजने के लिए कॉन्ग्रेस पार्टी पर दबाव डाला था। इस तरह सरदेसाई कॉन्ग्रेस आलाकमान को क्लीन चिट देने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं।

वीडियो में वे कह रहे हैं, “झारखंड के एक वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता ने दावा किया है कि साहू को 2018 में टिकट नहीं दिया जाना था, लेकिन वह दिल्ली में साहू के लिए लॉबिंग करता रहा। कॉन्ग्रेस के रसूखदार लोगों की मदद से आखिरी वक्त में वह साहू को राज्यसभा का टिकट दिलाने में कामयाब रहा।”

सरदेसाई बेशर्मी से कहते हैं, “उनको (धीरज साहू) फायदा पहुँचाने वालों में एक ऐसा शख्स भी था, जो अब जिंदा नहीं है। उसने बहुत लंबे वक्त तक कॉन्ग्रेस की कमान संभाली थी। दिलचस्प बात यह है कि जिन अन्य लोगों ने भी उनकी मदद की थी, उनमें से कुछ अब बीजेपी में शामिल हो गए हैं।”

धीरज प्रसाद साहू से जुड़ा विवाद

धीरज प्रसाद साहू झारखंड से कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद हैं। उनका परिवार आजादी के बाद से ही कॉन्ग्रेस पार्टी से जुड़ा हुआ है। वह 2009 के उपचुनाव में पहली बार राज्यसभा सांसद बने थे। इसके बाद साल 2010 में उन्हें दूसरी बार राज्यसभा सांसद के रूप में चुना गया था। उन्हें तीसरी बार कॉन्ग्रेस ने 2018 में राज्यसभा के लिए चुना।

धीरज साहू संसदीय कार्यवाही में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं। इतना ही नहीं, वह राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा का हिस्सा भी रहे थे। अब जबकि उनके यहाँ बेहिसाब नकदी बरामद हुई तो कॉन्ग्रेस खुद को धीरज साहू से अलग कर रही है। इसके लिए राजदीप सरदेसाई जैसे पत्रकार भरपूर माहौल बना रहे हैं।

दरअसल, ओडिशा में धीरज प्रसाद साहू की भागीदारी वाली बौध डिस्टिलरी प्राइवेट लिमिटेड में हालिया छापेमारी में आयकर विभाग ने 353 रुपए करोड़ की नकदी बरामद की है। इससे भी दिलचस्प बात यह है कि आईटी छापे में अपने सांसद धीरज साहू के पास से करोड़ों रुपए की नकदी जब्त होने के बाद अब पार्टी ने क्राउडफंडिंग अभियान का ऐलान कर डाला है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -