Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टमीडियातुम कंट्रोवर्सी चाहते हो, देश का सवाल है, ऐसा मत करो: सद्गुरु ने राहुल...

तुम कंट्रोवर्सी चाहते हो, देश का सवाल है, ऐसा मत करो: सद्गुरु ने राहुल कँवल की ली क्लास

सद्गुरु ने राहुल कँवल से पूछा कि क्या आपने सीएए पढ़ा है? कँवल ने हाँ में जवाब दिया तो सद्गुरु ने सवाल दागा कि क्या ये किसी एक भी भारतीय नागरिक के ख़िलाफ़ है? सद्गुरु का सवाल सुनते ही कँवल बगले झाँकने लगे और उन्होंने कुछ-कुछ बोलना शुरू कर दिया लेकिन जवाब नहीं दिया।

सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने जब से नागरिकता संशोधन क़ानून (CAA) को लेकर लोगों का भ्रम दूर करने की कोशिश की है तब से पूरा वामपंथी इकोसिस्टम उनके पीछे पड़ा हुआ है। जग्गी वासुदेव ने जितने सरल तरीके से लोगों को सीएए के बारे में बताया, उनका वीडियो सोशल मीडिया पर चहुँओर वायरल हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी यह वीडियो शेयर किया। इसके बाद से ही वामपंथी सद्गुरु से नाराज़ हैं। वामपंथियों ने ‘अब एक साधु बताएगा कि सीएए क्या है’ जैसी बातें कर उनके योगदान को नीचा दिखाना चाहा। उन पर लगातार हमले किए गए।

अब सद्गुरु ने टीवी कैमरा के सामने आकर पत्रकारों को लताड़ लगाई है। राहुल कँवल को दिए गए इंटरव्यू में सद्गुरु ने पूरे प्रोपेगंडा को ध्वस्त करते हुए मीडिया को भी सबक सिखाया। सद्गुरु ने सीएए के बारे में समझाते हुए कहा कि ये क़ानून उनके लिए है जो दिसंबर 2014 तक प्रताड़ना से तंग आकर भारत आ गए है, इसमें नए लोगों को नहीं बुलाया जा रहा है। सद्गुरु ने समझाया कि इससे जनसंख्या पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा, क्योंकि जो दिसंबर 2014 के बाद आए या फिर आगे आएँगे, उन्हें तो सीएए के तहत नागरिकता नहीं मिल रही है।

सद्गुरु ने राहुल कँवल से पूछा कि क्या आपने सीएए पढ़ा है? कँवल ने हाँ में जवाब दिया तो सद्गुरु ने सवाल दागा कि क्या ये किसी एक भी भारतीय नागरिक के ख़िलाफ़ है? सद्गुरु का सवाल सुनते ही कँवल बगले झाँकने लगे और उन्होंने कुछ-कुछ बोलना शुरू कर दिया लेकिन जवाब नहीं दिया। सद्गुरु ने कहा कि कँवल सीएए को ग़लत तरीके से देख रहे हैं। सद्गुरु ने ‘इंडिया टुडे’ के पत्रकार राहुल कँवल से कहा:

“मुझे एक ही बात पता चल रही है और वो ये कि तुम अभी सिर्फ़ अपने कैमरे के सामने कंट्रोवर्सी चाहते हो। ऐसा मत करो। ये हमारे देश का सवाल है। ये सिर्फ़ ‘माइनॉरिटी प्रॉसिक्यूशन’ नहीं बल्कि ‘रिलीजियस माइनॉरिटी प्रॉसिक्यूशन’ के लिए है। ये समझने की आवश्यकता है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफ़ग़ानिस्तान इस्लामिक मुल्क़ हैं, वो आधिकारिक रूप से सेक्युलर देश नहीं हैं।”

सद्गुरु ने समझाया कि उन सभी लोगों को, जिन्हें धर्म का आधार पर प्रताड़ित किया है और जो भारत में शरण लेकर रह रहे हैं, उन्हें नागरिकता मिल रही है। कँवल बार-बार सवाल पूछते रहे कि भारत सभी को क्यों नहीं बुला रहा, मुस्लिमों को क्यों नहीं बुला रहा? अंत में सद्गुरु ने सवाल किया कि क्या हमारे देश में लोगों की कमी है या जनसंख्या कम है? उन्होंने कहा कि भारत में किसी भी बाहरी व्यक्ति की ज़रूरत नहीं है, चाहे वो कसी भी धर्म का हो। ऐसा इसीलिए, क्योंकि हमारी जनसंख्या पहले से ही काफ़ी ज़्यादा है।

सद्गुरु ने राहुल कँवल से स्पष्ट कहा कि वे कंट्रोवर्सी चाहते हैं और कंट्रोवर्सी पैदा भी करते हैं। सद्गुरु ने कहा कि इसके उलट वे ईमानदारी से अपनी बात रख रहे हैं। उन्होंने दोहराया कि सीएए से किसी भी भारतीय नागरिक पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। सद्गुरु ने एक उदाहरण दिया। मीडिया न्यूज़ एंकर सीएए के विरोध में बच्चों के साथ प्रदर्शन कर रही महिलाओं से पूछते हैं कि वो क्यों धरने पर बैठी हुई हैं तो महिलाएँ कहती हैं कि भारत सरकार उनकी नागरिकता ले रही है, इसलिए।

सद्गुरु की नाराज़गी इस बात से थी कि मीडिया वाले उन प्रदर्शनकारियों को समझा क्यों नहीं रहे कि उनकी नागरिकता कोई नहीं ले रहा और ये सब झूठ फैलाया जा रहा है। उन्होंने राहुल कँवल से पूछा कि तुम मीडिया वाले ऐसा क्यों कर रहे हो?

वामपंथियों की फालतू नारेबाजी, और बर्बाद होता JNU: राहुल कँवल पढ़ें ‘इंडिया टुडे’ की 40 साल पुरानी रिपोर्ट

JNUSU कार्यकर्ता को ABVP का बता डाला… राहुल कंवल ने स्टिंग के नाम पर ऐसे किया गड़बड़झाला

फ़र्ज़ी स्टिंग वाली ‘इंडिया टुडे’ के झूठ का वजन भारी हो गया है, सवालों से कब तक भागते फिरेंगे कँवल?

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -