Sunday, June 26, 2022
Homeरिपोर्टमीडिया'द वायर' की आरफा खानम ने अमरोहा मामले में फैलाया फेक न्यूज, यूपी पुलिस...

‘द वायर’ की आरफा खानम ने अमरोहा मामले में फैलाया फेक न्यूज, यूपी पुलिस ने दिया आवश्यक कार्रवाई का निर्देश

'द वायर' की आरफा के ट्वीट के एक घंटे के भीतर, अमरोहा पुलिस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट ने जवाब दिया। उन्होंने अफवाहों को बढ़ावा देना अपराध का मकसद बताया। अमरोहा पुलिस स्पष्टीकरण जारी करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया और साथ ही उन्होंने फेक न्यूज़ फैलाने को लेकर कार्रवाई के साथ यह जानकारी दी कि........

‘द वायर’ की पत्रकार आरफा खनम शेरवानी को एक बार फिर से फर्जी खबर शेयर करते हुए पाया गया। अमरोहा पुलिस ने आरफा खानम शेरवानी द्वारा फैलाए जा रहे झूठ का खुलासा किया और साथ ही उन्होंने पत्रकार के खिलाफ आगे की आवश्यक कार्यवाही के लिए साईबर सेल को अवगत कराया, ताकि वो इस पर उपयुक्त कार्रवाई कर सकें।

बता दें कि आरफा ने एक ट्वीट के हवाले से कहा था कि एक दलित लड़के को इसलिए मार दिया गया, क्योंकि उसने मंदिर में प्रार्थना की थी। साथ ही उन्होंने यह भी लिखा था कि दुनिया में कोई भी समुदाय ऐसा नहीं है, जिसे दलित की तुलना में अधिक सताया और उत्पीड़ित किया जाता हो। यह अत्याचार कब खत्म होगा? उन्होंने यह ट्वीट #DalitLivesMatter हैशटैग के साथ किया था।

हालाँकि, आरफा के ट्वीट के एक घंटे के भीतर, अमरोहा पुलिस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट ने जवाब दिया। उन्होंने अफवाहों को बढ़ावा देना अपराध का मकसद बताया। अमरोहा पुलिस स्पष्टीकरण जारी करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया और साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि यह विवाद 5000 रुपए को लेकर दोनों पक्षों के बीच जमीनी विवाद की लड़ाई थी।

अमरोहा पुलिस, थाना हसनपुर क्षेत्रान्तर्गत ग्राम डोमखेड़ा में नाबालिग युवक की हत्या करने के सम्बन्ध में सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) विपिन ताडा ने कहा कि इस घटना में युवक की जाति और मंदिर में प्रवेश का कोई प्रसंग था ही नहीं। मामले में कार्रवाई करते हुए 3 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि पीड़ित पक्ष की आर्थिक व अन्य सहायता हेतु कार्यवाही की जा रही है।

सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस विपिन ताडा ने बताया, “मृतक के भाई और अभियुक्त पक्ष के बीच आम के बगीचे के ठेकों का और मधुमक्खी पालन की साझेदारी थी, जिसमें कि इनके 5 हज़ार रुपए मृतक के भाई पर शेष थे। इसी बात के तकादे को लेकर मृतक और अभियुक्त पक्ष का झगड़ा हुआ, जिसके बाद अभियुक्त गाँव छोड़कर भाग गया। फिर बदला लेने के उद्देश्य से अचानक गाँव में आया और इस युवक को गोली मारकर फरार हो गया। 3 की गिरफ्तारी हो गई है, इनसे पूछताछ करके बाकियों की गिरफ्तारी भी होगी।”

हालाँकि, पुलिस द्वारा स्पष्टीकरण जारी करने से पहले काफी लोगों ने इस फर्जी खबर को काफी लोगों ने शेयर किया था, जिसमें मेनस्ट्रीम मीडिया के हिंदुस्तान टाइम्स, टेलीग्राफ, इंडिया टुडे आदि शामिल थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल...

एनडीटीवी ने झूठ बोलकर पाठकों को भ्रमित करने का काम अभी बंद नहीं किया है। हाल में इस चैनल ने भाजपा नेता पीयूष गोयल के बयान को तोड़-मरोड़ के पेश किया।

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe