Saturday, July 20, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'अल्लाह-हु अकबर, क़यामत आने वाली है': सऊदी अरब में हैलोवीन पार्टियों से गुस्सा हुए...

‘अल्लाह-हु अकबर, क़यामत आने वाली है’: सऊदी अरब में हैलोवीन पार्टियों से गुस्सा हुए मुस्लिम, शैतान के वेश में मजे में घूमते दिखे शेख

मोहम्मद बिन सलमान के क्राउन प्रिंस बनने के बाद से ही सऊदी अरब अपनी मान्यताओं को लेकर काफी नरम हुआ है। ये बात और है कि कुछ साल पहले तक सऊदी अरब में ऐसे उत्सवों के बारे में सोचना भी किसी बड़े गुनाह से कम नहीं था।

कभी अपने कट्टर फैसलों और इस्लामी कानून के लिए दुनिया भर के मुस्लिमों का चहेता सऊदी अरब आज अपने ही कौम के लोगों की आँखों में खटकने लगा है । वजह भी कुछ ऐसी है जिससे मुसलमानों का चौकना स्वभाविक है । अपने रूढ़िवादी स्टैंड के लिए पहचाने जाने वाले इस देश में पश्चिमी देशों के वीभत्स त्यौहार हैलोवीन मनाया जा रहा है । दुनिया भर के मुस्लिम एक तरफ आश्चर्य और गुस्से में है, इसीलिए मुस्लिम समाज में सऊदी के इस कदम की चौतरफा आलोचना भी शुरू हो गई है।

दरअसल, मोहम्मद बिन सलमान के क्राउन प्रिंस बनने के बाद से ही सऊदी अरब अपनी मान्यताओं को लेकर काफी नरम हुआ है। ये बात और है कि कुछ साल पहले तक सऊदी अरब में ऐसे उत्सवों के बारे में सोचना भी किसी बड़े गुनाह से कम नहीं था।

वन इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, सऊदी अरब वही देश है जहाँ 2018 में एक पार्टी में पुलिस ने छापा मार कर हैलोवीन मना रहे कई लोगों को गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन आश्चर्य है कि वहाँ सार्वजनिक रूप से हैलोवीन मनाया जा रहा है। सऊदी सरकार ने इसकी अनुमति भी दी है। राजधानी रियाद के कई इलाकों में यह फेस्टिवल मनाया गया। इस दौरान सड़कों पर दूर-दूर तक शैतान के रूप में घूम रहे लोग नजर आए । हालाँकि लोगों को सऊदी सरकार का यह फैसला पसंद नहीं आ रहा है।

एक ट्विटर यूजर तैय्यब ने हैलोवीन पार्टी का वीडियो का शेयर करते हुए लिखा, ”रियाद (नजद) सऊदी अरब में हैलोवीन। अल्लाह हू अकबर । निश्चित ही कयामत के दिन आने वाले हैं।”

एक यूजर रमजान आइजोल ने ट्वीट कर कहा, “ये तस्वीरें रियाद में ली गई हैं। क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने ‘सुधारवाद’ के नाम पर सऊदी अरब में हैलोवीन समारोह की अनुमति देना शुरू कर दिया है। यह सुधारवाद या नवाचार नहीं, बल्कि अपमान और पतन है। हम इसे स्वीकार नहीं करते हैं।”

एक यूजर डालिया जियादा ने कहा, “SaudiArabia और Egypt की ओर से हैलोवीन की शुभकामनाएँ। यह देखना वाकई दिलचस्प है कि इस तरह का विशुद्ध अमेरिकी हॉलिडे मध्य पूर्व के देशों से यहाँ आ गया और मनाया जा रहा है! संयुक्त राज्य अमेरिका अभी तक मध्य पूर्व से वापस नहीं आया है!”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -