Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाअमेरिका ने आतंकी इब्राहिम जुबेर को भेजा भारत, NDTV के हिसाब से वो था...

अमेरिका ने आतंकी इब्राहिम जुबेर को भेजा भारत, NDTV के हिसाब से वो था ‘इंडियन इंजीनियर’

मोहम्मद इब्राहिम जुबेर को साल 2018 में अमेरिका के ओहायो राज्य में अलकायदा के शीर्ष आतंकी को धन मुहैया कराने का दोषी पाया गया था। NDTV समेत कई मीडिया पोर्टल्स ने जुबेर की पहचान एक भारतीय इंजीनियर के रूप में बताई थी। हेडलाइन में भी उसके आतंकी होने के बावजूद Indian Engineer शब्द का प्रयोग किया था।

अमेरिका ने अल-कायदा आतंकवादी मोहम्मद इब्राहिम जुबेर को भारत को सौंप दिया है।सौंपें जाने के बाद उसे 19 मई को विशेष विमान से भारत लाया गया। इस बात की जानकारी आज (मई 21, 2020) मीडिया में आई।

फिलहाल, इब्राहिम जुबेर को पंजाब के अमृतसर स्थित एक क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया है। वहाँ भारतीय सुरक्षा अधिकारी उससे लगातार पूछताछ कर रहे हैं।

40 वर्षीय हैदराबाद निवासी जुबेर पर अल-कायदा की फाइनेंसिंग का काम देखने का आरोप है। उसे अमेरिकी अदालत में आतंकवादी घटनाओं में दोषी पाया गया था। इसके बाद अमेरिका में उसे सजा दी गई। सजा पूरी होने के बाद अमेरिका ने उसे भारत को सौंप दिया।

जानकारी के मुताबिक जुबेर ने हैदराबाद से ही पढ़ाई की। बाद में वह साल 2001 से 2005 तक इलिनॉयस अर्बन-शैंपेन (Illinois Urbana-Champaign) में इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। इसके बाद वह ओहायो चला गया। साल 2006 में उसने एक अमेरिकी लड़की से शादी कर वहाँ की नागरिकता भी हासिल कर ली।

बाद में वह आतंकी संगठन अल-कायदा में शामिल हुआ और संगठन के खूंखार आतंकवादी अल अवलाकी का सहायक बन गया। अवलाकी के बारे में मौजूद जानकारी के अनुसार उसका पूरा नाम अनवर नसीर अल अवलाकी था, जो यमन मूल का अमेरिकी नागरिक था।

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक अवलाकी अल-कायदा में आतंकवादियों की भर्ती की जिम्मेदारी सँभालता था। वह आतंकवादी हमलों की योजना बनाने में माहिर था। इसके कारण साल 2011 में यूएस ड्रोन से उसे मार गिराया गया था।

NDTV के हिसाब से जुबेर था Indian Engineer

मोहम्मद इब्राहिम जुबेर को साल 2018 में अमेरिका के ओहायो राज्य में अलकायदा के शीर्ष आतंकी को धन मुहैया कराने का दोषी पाया गया था। इसके बाद भारत में सेकुलर मीडिया के जाने-माने नाम एनडीटीवी समेत कई वामपंथी मीडिया पोर्टलों ने मोहम्मद जुबेर के नाम पर भारत को बदनाम करने की कोशिश की थी।

NDTV समेत कई मीडिया पोर्टल्स ने इस खबर को कवर करते हुए जुबेर की पहचान एक भारतीय इंजीनियर के रूप में बताई थी और हेडलाइन में भी उसके आतंकी होने के बावजूद Indian Engineer शब्द का प्रयोग किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,137FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe