Wednesday, May 25, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाआसिम का मकान, 2.2 किलो तबाही का सामान: रोबोट ने उठाया IED-200 घर खाली...

आसिम का मकान, 2.2 किलो तबाही का सामान: रोबोट ने उठाया IED-200 घर खाली कराने पड़े, गाजीपुर से जुड़े हैं तार

रिपोर्ट के अनुसा दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 3-4 संदिग्ध युवकों की पहचान की है। उनकी तस्वीरें भी हाथ लगी है। वे कहाँ के रहने वाले इसकी भी जानकारी मिल गई है। शक है कि संदिग्ध किसी आतंकी संगठन के स्लीपर सेल से हो सकते हैं।

14 जनवरी 2022: दिल्ली के गाजीपुर की फूल मंडी, इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED) बरामद किया गया जो 24 बम की खेप का हिस्सा था।

17 फरवरी 2022: दिल्ली की घनी आबादी वाले सीमापुरी का एक मकान, 2.2 किलो विस्फोटक बरामद। इस मकान में IED होने की भनक गाजीपुर मामले की जाँच के दौरान ही दिल्ली पुलिस को मिली।

देश की राजधानी में विस्फोटकों की दो बड़ी खेप की बरामदगी हैरान करने वाली है। दोनों के आपस में तार जुड़े दिखते हैं। गाजीपुर में मिले IED की तरह ही सीमापुर में भी एक ABCD स्विच और एक प्रोग्राम किया टाइमर लगा था। के हाथ होने की तरफ इशारा करता है। ये सब पाकिस्तान की कुख्यात खुफिया एजेंसी ISI और उसके शह पर पल रहे आतंकी संगठनों की बड़ी साजिश की ओर इशारा करते हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक गाजीपुर मामले की जाँच करने के दौरान ही स्पेशल सेल को सीमापुरी वाले ठिकानें के बारे में जानकारी मिली थी। इसके बाद सेल की टीम ने गुरुवार (17 फरवरी 2022) शाम घर पर छापा मारा और 2.2 किलो आईडी बरामद किया। लेकिन संदिग्ध मौके से फरार हो गए। 

मामले में स्पेशल सेल ने 3-4 संदिग्ध युवकों की पहचान की है। उनकी तस्वीरें भी हाथ लगी है। वे कहाँ के रहने वाले इसकी भी जानकारी मिल गई है। सेल को शक है कि संदिग्ध किसी आतंकी संगठन के स्लीपर सेल से हो सकते हैं। इन संदिग्धों ने उस घर को कुछ समय पहले ही किराए पर लिया था। मकान मालिक आसिम ठेकेदार बताया जा रहा है। 

रिपोर्ट के मुताबिक स्पेशल सेल को गुरुवार सुबह ओल्ड सीमापुरी में कुछ संदिग्ध लोगों की मौजूदगी की सूचना मिली थी। मुखबिर ने बताया था कि संदिग्धों का संबंध गाजीपुर में मिले आईईडी से हो सकता है। इसके बाद पुलिस ने कई दर्जन संदिग्ध फोन कॉल इंटरसेप्ट किए और इस घर का पता लगाया। फिर डीसीपी प्रमोद कुशवाहा और एसीपी ललित मोहन नेगी और हृदय भूषण के नेतृत्व में टीम मौके पर पहुँची। घर की दूसरी मंजिल का फ्लैट खाली था, लेकिन अंदर एक संदिग्ध बैग पड़ा हुआ था।

दोपहर करीब 2.15 बजे बम निरोधक दल और दमकल विभाग को बुलाया गया। जैसे ही पुलिस को शक हुआ कि कि बैग में विस्फोटक हो सकते हैं, उन्होंने बड़े पैमाने पर घरों को खाली कराने का काम शुरू किया। आसपास के करीब 200 घर खाली कराए गए। राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) के बम निरोधक दस्ते को भी मौके पर बुलाया गया। स्पेशल रोबोट की मदद से संदिग्ध बैग उठाया है। जाँच में बैग में विस्फोटक होने की पुष्टि के बाद उसे निष्क्रिय कर दिया गया।

बम मिलने के बाद दिल्ली में सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी की गई है। खासतौर पर यमुनापार इलाके में विशेष सतर्कता देखी गई। सभी बॉर्डर पर पुलिस कर्मी आने-जाने वाले वाहनों की निगरानी करते दिखाई दिए। संदिग्ध वाहनों को रोक कर उनकी जाँच की गई। आनंद विहार रेलवे स्टेशन, शाहदरा रेलवे स्टेशन और आनंद विहार बस अड्डा परिसर में चेकिंग अभियान चलाया गया, यात्रियों के सामान की तलाशी ली गई। लोगों से अपील की गई कि वह किसी लावारिस वस्तु, बैग को हाथ न लगाएँ। ऐसी वस्तु दिखने पर पुलिस को सूचना दें।

14 जनवरी को फूलमंडी में मिला था आरडीएक्स

14 जनवरी को गाजीपुर फूलमंडी में स्कूटी से सामान लेने के लिए आया एक व्यक्ति अपनी स्कूटी और बैग रखकर चला गया। बाद में सूचना मिलने पर पहुँची पुलिस ने जाँच की तो आरडीएक्स बरामद हुआ। इसके बाद एनएसजी की टीम ने उसे डिफ्यूज किया। जाँच में ये पता चला था कि यह आईडी 24 बम की खेप का हिस्सा था, जिसे सीमा पार से या तो जमीन के जरिए या समुद्री मार्ग से पाकिस्तान द्वारा स्थानीय आतंकवादियों को भेजा गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिक्षा का गुजरात मॉडल: सूरत के सरकारी स्कूलों में एडमिशन की होड़, लगातार तीसरे साल प्राइवेट स्कूल पीछे

दिल्ली के तथकथित शिक्षा मॉडल का आपने खूब प्रचार सुना होगा। इससे इतर गुजरात के सूरत के सरकारी स्कूलों में एडमिशन के लिए भारी भीड़ दिख रही है।

अब्दुल की दाढ़ी जैसा ही फेक निकला इमरान से पैसे की लूट: 20 मामले जब ‘जय श्रीराम’ के नाम पर फैलाया झूठ

महाराष्ट्र के औरंगाबाद के इमरान खान को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसने जानने वाले लोगों से खुद को पिटवाया और उनसे जय श्रीराम के नारे लगाने को कहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,731FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe