Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाभारतीय सेना की सूचना Pak को... गोधरा का अनस भेजता था पैसे, पूर्व सैनिक...

भारतीय सेना की सूचना Pak को… गोधरा का अनस भेजता था पैसे, पूर्व सैनिक करता था जासूसी: एक्शन में यूपी ATS

पूर्व सैनिक ने स्वीकार किया है कि वह पैसों के लालच में सेना की गोपनीय सूचनाएँ समय-समय पर पाकिस्तान की एक महिला खुफिया अधिकारी को भेजता था। बैंक एकाउंट में विदेश से काफी रकम आने के बाद...

उत्तर प्रदेश एटीएस ने शुक्रवार (जनवरी 08, 2021) को हापुड़ में छापा मारकर पाकिस्तान के लिए जासूसी करने वाले भारतीय सेना के एक पूर्व सैनिक सौरभ शर्मा और उसके सहयोगी अनस गितौली को गुजरात के गोधरा से गिरफ्तार किया। इनके पास से एटीएस को टेरर फंडिंग का सबूत भी मिला है। 

अब यूपी एटीएस ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को किस तरह की सूचनाएँ भेजी गई हैं। सूचनाओं की संवेदनशीलता के बारे में जानने के लिए दोनों के मोबाइल फोन की फोरेंसिक जाँच भी कराई जा रही है। बता दें कि सौरभ से पूछताछ में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी करने के बदले उसे रकम भेजने वाले गोधरा निवासी अनस गितौली की भूमिका सामने आई। 

जिसके बाद गुजरात एटीएस की मदद से अनस को गिरफ्तार कर लिया गया। अनस का बड़ा भाई इमरान गितौली भी आईएसआईएस के लिए काम करता था, वो भी फिलहाल जाँच एजेंसी (एनआईए) की गिरफ्त में है। 

एडीजी लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि सौरभ शर्मा के खिलाफ लखनऊ में केस दर्ज किया गया है। सौरभ 2013 में भारतीय सेना में भर्ती हुआ था। इसके बाद उसने मेडिकल कारणों से मई, 2020 में सेना छोड़ दिया था। इस दौरान उसके बैंक एकाउंट में विदेश से काफी रकम आई।

प्रशांत कुमार ने बताया कि अभी एटीएस की टीमें कई राज्यों में कार्रवाई कर रही हैं। हर संदिग्ध से पूछताछ के साथ ही हर जगह पर छापेमारी जारी रहेगी। सौरभ हापुड़ के बहादुर गढ़ थाना क्षेत्र के बिहुनी गाँव का रहने वाला है। उसने पैसों के लिए सेना से जुड़ी गोपनीय जानकारियाँ पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई को भेजी थीं। लखनऊ के एटीएस थाने में सौरभ शर्मा और अनस गितौली के खिलाफ ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कर इनको गिरफ्तार किया गया है।

सौरभ ने एटीएस के सामने स्वीकार किया है कि वह पैसों के लालच में सेना की गोपनीय सूचनाएँ समय-समय पर व्हाट्सअप के माध्यम से पाकिस्तान की एक महिला खुफिया अधिकारी को भेजता था। सौरभ शर्मा की 2014 में फेसबुक के माध्यम से एक लड़की से दोस्ती हुई थी। लड़की से उसकी काफी दिनों तक बातचीत होती रही।

लड़की ने खुद को सेना की रिपोर्टिंग करने वाली पत्रकार बताया था। वह लड़की के झाँसे में आ गया और लड़की ने सौरभ से सेना की कई गोपनीय जानकारियाँ उससे माँगी और वो देता रहा। कुछ ही दिनों बाद सौरभ पाकिस्तान का जासूस बनकर काम करने लगा। इसके बदले में उसे पैसे भी मिलते रहे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe