Monday, March 8, 2021
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा 'राफेल उड़ा रहे होते अभिनंदन तो नतीजा अलग होता, लेकिन फैसला लेने में 10...

‘राफेल उड़ा रहे होते अभिनंदन तो नतीजा अलग होता, लेकिन फैसला लेने में 10 साल लगा दिए’

पूर्ववर्ती कॉन्ग्रेस नीत यूपीए सरकार का नाम लिए बगैर धनोआ ने कहा, ''100 प्रतिशत यह (परिणाम) अलग होता। वह (अभिनंदन) राफ़ेल क्यों नहीं उड़ा रहे थे? क्योंकि आपने यह फैसला करने में 10 साल लगाया कि कौन-सा विमान ख़रीदा जाए। इसलिए यह (विलंब) आपको प्रभावित करता है।"

राफ़ेल लड़ाकू विमान ख़रीद सौदे को लेकर हुए विवाद का ज़िक्र करते हुए पूर्व वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने शनिवार (4 जनवरी) को कहा कि इस तरह के विवाद रक्षा ख़रीदों को धीमा कर देते हैं। इससे सशस्त्र बलों की क्षमताओं पर असर पड़ता है। पूर्व एयर चीफ़ मार्शल ने आईआईटी बंबई द्वारा आयोजित ‘टेकफेस्ट कार्यक्रम’ में राफ़ेल विवाद का ज़िक्र किया और कहा,

“अगर अभिनंदन मिग-21 की जगह राफ़ेल उड़ा रहे होते, तो उस हवाई युद्ध (बालाकोट हवाई हमले के बाद भारत-पाकिस्तान गतिरोध के दौरान) का परिणाम अलग होता। वो राफ़ेल क्यों नहीं उड़ा रहे थे, क्योंकि आपको यह तय करने में दस साल लग गए कि आप कौन-सा विमान ख़रीदना चाहते हैं।” 

पूर्व वायुसेना प्रमुख ने इस बात का भी ज़िक्र किया कि बोफोर्स सौदा भी विवाद में रहा था, जबकि बोफोर्स तोप ‘अच्छे’ रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में ऐसी कई एजेंसियाँ हैं जो शिक़ायतें प्राप्त होने पर सौदों की जाँच करती है। उन्होंने कहा कि लोगों को विमानों की कीमतों के बारे में पूछने का अधिकार है, क्योंकि उसमें करदाताओं का पैसा लगा होता है।

पिछले साल सितंबर में सेवानिवृत्त हुए धनोआ ने कहा, “विवाद पैदा होने के चलते रक्षा (साजो सामान) के आधुनिकीकरण के धीमा पड़ने का बाद में आप पर असर पड़ता है।” उन्होंने कहा, “जैसा प्रधानमंत्री ने एक बयान दिया था। लोग इसे राजनीतिक (बयान) कह रहे हैं लेकिन सच्चाई यह है कि जो बयान उन्होंने दिया वह सही है। उन्होंने कहा, ”यदि हमारे पास राफ़ेल होता तो स्थिति पूरी तरह से अलग होती।”

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे (नरेंद्र मोदी सरकार को क्लिन चिट देने) पर एक उत्कृष्ट फ़ैसला दिया। उन्होंने कहा, “मैंने हमेशा ही व्यक्तिगत रूप से यह कहा है… जब राफ़ेल जैसा मुद्दा उछाला जाएगा, यदि आप रक्षा ख़रीद प्रणाली को राजनीतिक रंग देंगे तब पूरी प्रणाली पीछे छूट जाएगी। फिर अन्य सभी फाइलें भी धीमी गति से आगे बढ़ेंगी इससे बहुत से लोग सचेत होना शुरू हो जाएँगे।”

पीएम मोदी ने पिछले साल मार्च में कहा था कि पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक के दौरान यदि भारत के पास राफ़ेल लड़ाकू विमान होते तो परिणाम अलग होता। धनोआ ने पूर्ववर्ती कॉन्ग्रेस नीत यूपीए सरकार का नाम लिए बगैर कहा,

”100 प्रतिशत यह (परिणाम) अलग होता। वह (अभिनंदन) राफ़ेल क्यों नहीं उड़ा रहे थे? क्योंकि आपने यह फैसला करने में 10 साल लगाया कि कौन-सा विमान ख़रीदा जाए। इसलिए यह (विलंब) आपको प्रभावित करता है।”

अभिनंदन ने हवाई झड़प के दौरान एक पाकिस्तानी विमान को मार गिराया था, लेकिन अपने मिग-21 विमान के गिरने के बाद वह पकड़ लिए गए थे। हालाँकि बाद में पाकिस्तान ने उन्हें भारत भेज दिया। पूर्व वायुसेना प्रमुख ने यह भी दोहराया कि 26/11 मुंबई आतंकी हमले और इससे पहले 2001 में संसद पर हुए हमले के बाद तत्कालीन सरकारों ने पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों पर हमला करने के वायुसेना के प्रस्ताव को ख़ारिज कर दिया था।

उन्होंने कहा, ”लेकिन फ़ैसला, जैसा कि मैं कहता रहा हूँ, राजनीतिक फ़ैसले होते हैं। यह (प्रस्ताव) उस वक्त स्वीकार नहीं किया गया। इसलिए इसने आतंकवाद को समर्थन देने वाले देश के अंदर यह विश्वास जगाया कि भारत, आतंकवादी हमले का जवाब नहीं देगा।” धनोआ ने कहा कि पाकिस्तानी वायु सेना (पीएएफ) को बालाकोट में भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक की भनक तक नहीं थी।

पूर्व वायु सेना प्रमुख ने कहा कि 1971 के (बांग्लादेश) युद्ध और 1999 के करगिल युद्ध के समय भी पाकिस्तानी थल सेना और पाकिस्तानी वायु सेना (पीएएफ) के बीच समन्वय का अभाव था। उन्होंने कहा, ”जब बालाकोट हुआ, पीएएफ को कोई जानकारी (भारतीय वायुसेना के हमले के बारे में) नहीं थी। बालाकोट में कोई टर्मिनल हथियार नहीं थे। यहाँ तक हम भी आश्चर्यचकित हैं।”

ख़बर के अनुसार, धनोआ ने यह भी कहा कि पठानकोट, उरी और पुलवामा में हुए आतंकी हमले ये संकेत देते हैं कि भारत के परंपरागत प्रतिरोध दुश्मन को भारतीय सरज़मीं पर आतंकी गतिविधियाँ करने से नहीं रोक पा रहे हैं। हालाँकि, यह (भारत के परंपरागत प्रतिरोध) अपने दुश्मन से कहीं बेहतर हैं। उन्होंने कहा, ”इस तरह, बालाकोट एयर स्ट्राइक को सरकार ने पाकिस्तान को यह संदेश देने के लिए मंज़ूरी दी कि आगे से इस तरह की हरक़तों की भारी क़ीमत चुकानी पड़ेगी।”

अपनी बात को जारी रखते हुए उन्होंने कहा, ”इस तरह के रणनीतिक आश्चर्य की एक वजह यह रही कि उन्होंने (पाकिस्तान ने) हमेशा ही हमारे नेतृत्व को कमतर आँका है। उन्होंने कभी उम्मीद नहीं की थी कि हमारा नेतृत्व बालाकोट एयर स्ट्राइक जैसी गतिविधि का आगे बढ़ कर जवाब देगा।”

राफेल पर IAF के बयान को विपक्ष ने बताया था राजनैतिक, लेकिन आज हम सही साबित हुए: पूर्व एयर मार्शल

हम 44 साल पुराने मिग-21 उड़ा रहे, इतनी पुरानी तो कोई कार भी नहीं चलाता: IAF चीफ

PM मोदी ने किया चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ पद का ऐलान, कारगिल युद्ध के दौरान उठी थी माँग

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान: FIR दर्ज कराने गई थी महिला, सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही 3 दिन तक किया रेप

एक महिला खड़ेली थाना में अपने पति के खिलाफ FIR लिखवाने गई थी। वहाँ तैनात सब-इंस्पेक्टर ने थाना परिसर में ही उसके साथ रेप किया।

सबसे आगे उत्तर प्रदेश: 20 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज लगाने वाला पहला राज्य बना

उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहाँ 20 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ मिला है।

रेल इंजनों पर देश की महिला वीरांगनाओं के नाम: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भारतीय रेलवे ने दिया सम्मान

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, इंदौर की रानी अहिल्याबाई और रामगढ़ की रानी अवंतीबाई इनमें प्रमुख हैं। ऐसे ही दक्षिण भारत में कित्तूर की रानी चिन्नम्मा, शिवगंगा की रानी वेलु नचियार को सम्मान दिया गया।

बुर्का बैन करने के लिए स्विट्जरलैंड तैयार, 51% से अधिक वोटरों का समर्थन: एमनेस्टी और इस्लामी संगठनों ने बताया खतरनाक

स्विट्जरलैंड में हुए रेफेरेंडम में 51% वोटरों ने सार्वजनिक जगहों पर बुर्का और हिजाब पहनने पर प्रतिबंध के पक्ष में वोट दिया है।

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,966FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe