Sunday, November 29, 2020
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा API से जुड़े हैं CAA पर उकसाने वाले हर्ष मंदर: इतालवी सरकार के लिए...

API से जुड़े हैं CAA पर उकसाने वाले हर्ष मंदर: इतालवी सरकार के लिए काम करता है यह संगठन

इस संगठन को इटली के राष्ट्रपति का वरदहस्त प्राप्त है। इटली के प्रधानमंत्री तथा विदेश मंत्री कार्यालयों का सहयोग मिला हुआ है। इससे पता चलता है कि एपीआई इटली सरकार का एक अहम कार्यालय है जो उसके हितों की पूर्ति के लिए कार्य करता है।

ऑपइंडिया हमेशा से विदेशों से फंड प्राप्त करने वाले एनजीओ और उनके काम करने के तौर-तरीकों, उनकी मंशा पर विस्तार से विमर्श और रिपोर्टिंग करता रहा है। हम बताते रहे हैं कि कैसे हर्ष मंदर जैसे लोगों की मदद से विदेश से फंड हासिल करने वाले एनजीओ देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने के लिए न्यायपालिका का दुरुपयोग करने की कोशिश करते रहते हैं। सिविल सोसायटी के नाम पर विदेशी फंड प्राप्त करने वाले एनजीओ द्वारा भारत की सम्प्रभुता और आंतरिक सुरक्षा को खतरा पहुँचाने के लिए देसी संगठनों के साथ सॉंठगॉंठ पर भी हम लगातार विस्तार से रिपोर्ट करते रहे हैं।

इन सबके साथ जिस एक व्यक्ति पर हमारा फोकस रहा है, वह सेंटर फॉर इक्विटी स्टडीज से जुड़े हर्ष मंदर हैं। उनका जॉर्ज सोरोस से संबध रहा है। मनमोहन सरकार के जमाने में सोनिया गाँधी के नेतृत्व वाली नेशनल एडवायजरी काउंसिल के भी वे सदस्य रहे हैं। इसी काउंसिल ने हिन्दू विरोधी सांप्रदायिक हिंसा बिल का ड्राफ्ट तैयार किया था। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में भी मंदर सक्रिय रहे हैं। उनके हाल में विडियो भी सामने आए हैं जिसमें वे प्रदर्शनकारियों को उकसाते नजर आए हैं।

हर्ष मंदर के बारे में जाँच पड़ताल करने पर हमें एक बेहद अज्ञात से संगठन Ara Pacis Initiative (API), के बारे में पता चला। मंदर इसके वरिष्ठ सदस्य हैं। वे एपीआई की ‘कॉउन्सिल फॉर डिग्निटी, फॉरगिवनेस, जस्टिस एंड रिकन्शीलिएशन’ के सदस्य हैं।

इस संगठन के बारे में और गहराई से जानकारी जुटाने पर हमें कुछ ऐसे तथ्य मिले जिससे मंदर के खतरनाक मंसूबों का पता चलता है। एपीआई की स्थापना एक अज्ञात इटालियन एक्ट्रेस ने की थी जो शायद वहाँ के शक्ति केंद्रों से काफी नजदीकी रखती है। इसके अलावा इसके फॉउन्डिग मेंबरों में से एक नोबल पुरस्कार विजेता का नाम भी शामिल है। लेकिन इन तथ्यों के अलावा कुछ और तथ्य भी मिले जो इसके इटली सरकार के एक अंग के रूप में काम करने की तरफ इशारा करते हैं।

इस संगठन की वेबसाइट पर साफ़ तौर पर लिखा है कि इसका उद्घाटन 21 अप्रैल 2010 को रोम के मेयर द्वारा किया गया। इसको इटली के राष्ट्रपति का वरदहस्त प्राप्त है। इटली के प्रधानमंत्री तथा विदेश मंत्री कार्यालयों का सहयोग मिला हुआ है। इससे पता चलता है कि एपीआई इटली सरकार का एक अहम कार्यालय है जो उसके हितों की पूर्ति के लिए कार्य करता है।

एपीआई की वेबसाइट से

हमारे संदेह को और पुख्ता किया इस संगठन की प्रेसीडेंट रह चुकी Gaida के लिंक्डइन प्रोफाइल ने। इसमें एपीआई को ‘ग्लोबल नॉट फॉर प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन डेडिकेटेड टू ह्यूमन डायमेंशन ऑफ़ पीस’ कहा गया है। इसमें ‘गैर सरकारी’ शब्द का प्रयोग नहीं हुआ।

इसके अलावा हमें रायटर्स की एक रिपोर्ट भी हाथ लगी जिसमें एपीआई को इतालवी सरकार द्वारा समर्थित एक संगठन बताया गया है जो “कनफ्लिक्ट प्रिवेंशन एंड रेसोलुशन के लिए समर्पित” है। रायटर्स की इस रिपोर्ट के बाद अब इस बात पर कोई शक ही नहीं रह गया कि हर्ष मंदर जिस संगठन के लिए काम करता है वो इतालवी हितों के लिए सक्रिय है।

Gaida की लिंक्ड इन प्रोफाइल से

इस संगठन के लीबिया इनिशिएटिव से संबंधित दूसरी रिपोर्ट्स से भी यह पता चलता है कि हर्ष मंदर इतालवी सरकार और उसकी सीक्रेट सर्विसेज से जुड़े उस संगठन का सदस्य है जो लीबिया से इटली में होने वाले माइग्रेशन पर रोक लगाने की दिशा में काम कर रहा है। यही हर्ष मंदर हैं, जो भारत में घुसपैठियों के खिलाफ किसी कार्यवाही को रोकने के लिए अति उत्सुक दिखाई पड़ते हैं।

मंदर का यह दोहरा चरित्र अभी हाल के नए नागरिकता कानून के विरोध में होते हिंसक प्रदर्शनों के दौरान स्पष्ट तौर से देखा जा सकता है। मंदर और उनका एनजीओ कारवाँ-ए-मोहब्बत इन प्रोटेस्ट्स में काफी सक्रिय भूमिका निभाता देखा गया है। कारवाँ-ए-मोहब्बत ने लोगों से शाहीन बाग़ विरोध-प्रदर्शन में शामिल होने को भी कहा था।

बीजेपी नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने को कोर्ट पहुँचे मंदर का एक वीडियो भी वायरल हुआ है जिसमें वो प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहते हैं, “ये लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में नहीं जीती जाएगी, क्योंकि हमने सुप्रीम कोर्ट को देखा है- एनआरसी के मामले में, कश्मीर के मामले में, अयोध्या के मामले में। उन्होंने (सुप्रीम कोर्ट) इंसानियत, समानता और सेक्युलरिज्म की रक्षा नहीं की है।” वे आगे कहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट में हम कोशिश जरूर करेंगे। लेकिन इसका फैसला न संसद में होगा, न सुप्रीम कोर्ट में होगा, बल्कि ये फैसला सड़कों पर होगा। इस वायरल विडियो को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उनसे सफाई भी माँगी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

K Bhattacharjee
Black Coffee Enthusiast. Post Graduate in Psychology. Bengali.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, कहा- पहले हाईवे खाली कर तय मैदान में जाएँ

“मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूँ कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने उन्हें 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है। सरकार किसानों की हर समस्या और माँग पर विचार करने के लिए तैयार है।”

ओवैसी के गढ़ में रोड शो कर CM योगी आदित्‍यनाथ ने दी चुनौती, गूँजा- आया आया शेर आया… देखें वीडियो

सीएम योगी के रोड शो के में- ‘आया आया शेर आया.... राम लक्ष्मण जानकी, जय बोलो हनुमान की’, योगी-योगी, जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम के भी गगनभेदी नारे लगाए गए।

प्रदर्शन करने वाले किसानों को $1 मिलियन का ऑफर, खालिस्तान के समर्थन में खुलेआम नारेबाजी: क्या है SFJ का मास्टरप्लान

किसान आंदोलन पर खालिस्तान समर्थक ताकतों ने कब्ज़ा कर लिया है। SFJ पहले ही इस बात का ऐलान कर चुका है कि वह खालिस्तान का समर्थन करने वाले पंजाब और हरियाणा के किसानों को 10 लाख रूपए की आर्थिक मदद करेगा।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

कैसे बन रही कोरोना वैक्सीन? अहमदाबाद और हैदराबाद में PM मोदी ने लिया जायजा, पुणे भी जाएँगे

कोरोना महामारी संकट के बीच शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। इसके तहत पीएम मोदी देश के तीन शहरों के दौरे पर हैं।

प्रचलित ख़बरें

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

भोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल ही में हुआ था पुलिस पर पथराव

साल 2017 के एक आदेश में अदालत ने इस ज़मीन को सरकारी बताया था लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद ईरानी यहाँ से कब्ज़ा नहीं हटा रहे थे।

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

प्रदर्शनकारी किसानों से बातचीत के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने संभाला मोर्चा, कहा- पहले हाईवे खाली कर तय मैदान में जाएँ

“मैं प्रदर्शनकारी किसानों से अपील करता हूँ कि भारत सरकार बातचीत करने के लिए तैयार है। कृषि मंत्री ने उन्हें 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आमंत्रित किया है। सरकार किसानों की हर समस्या और माँग पर विचार करने के लिए तैयार है।”

खालिस्तानियों के बाद कट्टरपंथी PFI भी उतरा ‘किसान विरोध’ के समर्थन में, अलापा संविधान बचाने का पुराना राग

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ओएमए सलाम ने भी घोषणा किया कि उनका इस्लामी संगठन ‘दिल्ली चलो’ मार्च का समर्थन करेगा। वह किसानों की माँगों के साथ खड़े हैं।

ओवैसी के गढ़ में रोड शो कर CM योगी आदित्‍यनाथ ने दी चुनौती, गूँजा- आया आया शेर आया… देखें वीडियो

सीएम योगी के रोड शो के में- ‘आया आया शेर आया.... राम लक्ष्मण जानकी, जय बोलो हनुमान की’, योगी-योगी, जय श्री राम, भारत माता की जय और वंदे मातरम के भी गगनभेदी नारे लगाए गए।

भोपाल स्टेशन के सालों पुराने ‘ईरानी डेरे’ पर चला शिवराज सरकार का बुलडोजर, हाल ही में हुआ था पुलिस पर पथराव

साल 2017 के एक आदेश में अदालत ने इस ज़मीन को सरकारी बताया था लेकिन अदालत के आदेश के बावजूद ईरानी यहाँ से कब्ज़ा नहीं हटा रहे थे।

मुंबई मेयर के ‘दो टके के लोग’ वाले बयान पर कंगना रनौत ने किया पलटवार, महाराष्ट्र सरकार पर कसा तंज

“जितने लीगल केस, गालियाँ और बेइज्जती मुझे महाराष्ट्र सरकार से मिली है, उसे देखते हुए तो अब मुझे ये बॉलीवुड माफिया और ऋतिक-आदित्य जैसे एक्टर भी भले लोग लगने लगे हैं।”

प्रदर्शन करने वाले किसानों को $1 मिलियन का ऑफर, खालिस्तान के समर्थन में खुलेआम नारेबाजी: क्या है SFJ का मास्टरप्लान

किसान आंदोलन पर खालिस्तान समर्थक ताकतों ने कब्ज़ा कर लिया है। SFJ पहले ही इस बात का ऐलान कर चुका है कि वह खालिस्तान का समर्थन करने वाले पंजाब और हरियाणा के किसानों को 10 लाख रूपए की आर्थिक मदद करेगा।

SEBI ने NDTV के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और विक्रम चंद्रा समेत 2 अन्य को किया ट्रेडिंग से प्रतिबंधित, जानिए क्या है मामला

भारत के पूँजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने विवादास्पद मीडिया नेटवर्क NDTV के प्रवर्तकों प्रणय रॉय और राधिका रॉय को इनसाइडर ट्रेडिंग से अनुचित लाभ उठाने का दोषी पाया है।

शादी में पैसा, फ्री कार, मस्जिद-दरगाहों का विकास: तेलंगाना में ‘अल्पसंख्यकों’ पर 6 साल में ₹5600 करोड़ खर्च

तेलंगाना में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के लिए सरकारी खजाने का नायाब उपयोग सामने आया है। तेलंगाना सरकार ने पिछले 6 वर्षों में राज्य में अल्पसंख्यक केंद्रित योजनाओं पर 5,639.44 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

ना MSP ख़त्म होगी, न APMC पर कोई फर्क पड़ेगा: जानिए मोदी सरकार के कृषि कानूनों को लेकर फैलाई जा रही अफवाहों का सच

MSP हट जाएगा? APMC की शक्तियाँ ख़त्म हो जाएँगी? किसानों को फसल का नुकसान होगा? व्यापारियों की चाँदी होगी? कॉन्ट्रैक्ट कर के किसान फँस जाएँगे? जानिए सारी सच्चाई।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,443FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe