Sunday, July 21, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षादिल्ली के सीमापुरी में मिला 3 किलो IED, NSG ने किया बम को निष्क्रिय:...

दिल्ली के सीमापुरी में मिला 3 किलो IED, NSG ने किया बम को निष्क्रिय: मकान मालिक हिरासत में, जानें सब कुछ

इस बीच पुलिस ने घर के मालिक को हिरासत में ले लिया है। उसके घर में उसकी माँ, पत्नी और चार बच्चे हैं। आरोप है कि उसने किराएदारों का पुलिस वेरिफिकेशन कराए बिना ही उसे किराए पर कमरा दे दिया था।

देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) के सीमापुरी इलाके में एक घर से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने तीन किलो आईईडी विस्फोटक बरामद किया है। एक महीने के अंदर लगातार दूसरी बार ऐसा हुआ है कि जब यमुनापार इलाके में बम मिला है। बम मिलने के तुरंत बाद राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) की टीम को बुलाया गया। इसके बाद NSG उसे अपने साथ ले गई।

इस बीच बम बरामद किए जाने के साथ ही इलाके में सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद कर दिया गया है। पुरानी सीमापुरी स्थित जिस मकान में आईईडी मिला था उसके पीछे वाली गली में भी कुछ मकानों को खाली करा दिया गया है। हालात की गंभीरता के चलते दमकल विभाग की गाड़ियों को भी बुला लिया गया था। इसके साथ ही घटनास्थल के छानबीन करने के लिए फॉरेंसिक विभाग की भी टीम को बुलाया गया था।

इस बीच पुलिस ने घर के मालिक को हिरासत में ले लिया है। उसके घर में उसकी माँ, पत्नी और चार बच्चे हैं। आरोप है कि उसने किराएदारों का पुलिस वेरिफिकेशन कराए बिना ही उसे किराए पर कमरा दे दिया था। दरअसल, घर के मालिक का सीमापुरी में दो घर है। एक में वो खुद अपने परिवार के साथ रहता है, जबकि दूसरे को किराए पर उठा रखा है। इस घटना के बाद स्थानीय लोगों का कहना है कि वो घर में रहने वाले किसी को भी नहीं जानते थे। क्योंकि किराए पर रहने वाले अपने कमरे से कम ही बाहर निकलते थे।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल गाजीपुर आरडीएक्स के मामले की जाँच कर रही थी, उसी दौरान उसे सीमापुरी इलाके में एक मकान को लेकर जानकारी मिली। इसके बाद जब टीम उस घर में गई तो वो बंद था, लेकिन उसे वहाँ पर संदिग्ध हालत में एक बैग मिला, जिसमें से आईईडी बरामद किया गया।

14 जनवरी को फूलमंडी में मिला था आरडीएक्स

गौरतलब है कि 14 जनवरी को गाजीपुर फूलमंडी में स्कूटी से सामान लेने के लिए आया एक व्यक्ति अपनी स्कूटी और बैग रखकर चला गया। बाद में सूचना मिलने पर पहुँची पुलिस ने जाँच की तो आरडीएक्स बरामद हुआ। इसके बाद एनएसजी की टीम ने उसे डीफ्यूज किया। बाद में पता चला कि यह बम पाकिस्तान की आईएसआई और उसकी जिहादी सेल इसमें शामिल है। जाँच में ये पता चला था कि यह आईडी 24 बम की खेप का हिस्सा था, जिसे सीमा पार से या तो जमीन के जरिए या समुद्री मार्ग से पाकिस्तान द्वारा स्थानीय आतंकवादियों को भेजा गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -