Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाहम पाकिस्तानी हैं, पाकिस्तान हमारा है: भारत में रहने वाले अलगाववादी नेता का Video...

हम पाकिस्तानी हैं, पाकिस्तान हमारा है: भारत में रहने वाले अलगाववादी नेता का Video Viral

“इस्लाम के मोहब्बत से, इस्लाम के ताल्लुक से हम पाकिस्तानी हैं, पाकिस्तान हमारा है।” यह नारेबाजी काफी देर तक चलती रहती है।

जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी हुर्रियत नेता सैयद अली शाह गिलानी का एक वीडियो इन दिनों वायरल हो रहा है। जिसमें वो ‘हम पाकिस्तानी हैं, पाकिस्तान हमारा है’ कहते सुने जा रहे हैं। बता दें कि यह वीडियो सैयद अली गिलानी के नाम से ही मौजूद एक गैर-वेरिफायड ट्विटर अकाउंट से 23 मई को शेयर किया गया था।

इस वीडियो में गिलानी एक रैली में भड़काऊ भाषण देते हुए सुने जा रहे हैं। वीडियो की शुरुआत में वो इंशाल्लाह, इंशाल्लाह का नारा लगाते हैं और लोगों से भी लगवाते हैं। फिर आगे वो कहते हैं, “इस्लाम के मोहब्बत से, इस्लाम के ताल्लुक से हम पाकिस्तानी हैं, पाकिस्तान हमारा है।” यह नारेबाजी काफी देर तक चलती रहती है। हालाँकि, अभी यह नहीं पता चल पाया है कि यह रैली कश्मीर के किस हिस्से में कब और कहाँ आयोजित की गई थी। इस वीडियो को देखकर रैली के आयोजन के वक्त और स्थान के बारे में बता पाना काफी मुश्किल है।

गौरतलब है कि हाल ही में जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा था कि हुर्रियत नेता केंद्र सरकार से बातचीत को तैयार हैं। मलिक ने कहा था, “पहले हुर्रियत कॉन्फ्रेंस बातचीत के लिए तैयार नहीं थी। रामविलास पासवान (2016 में) उनके दरवाजे पर खड़े थे, लेकिन वे बातचीत के लिए तैयार नहीं थे। अब वे बातचीत को तैयार हैं और वार्ता करना चाहता हैं। सबमें बदलाव आया है।”

सत्यपाल मलिक के बयान के बाद जम्मू- कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती भी काफी एक्टिव नज़र आईं। उन्होंने हुर्रियत नेताओं की पैरवी करते हुए कहा था कि यदि वो (हुर्रियत) बातचीत के लिए तैयार हैं, तो भारत सरकार को उनके साथ बातचीत करनी चाहिए। महबूबा मुफ्ती पहले भी हुर्रियत के साथ बातचीत की पैरवी कर चुकी हैं।

वीडियो वायरल होने के बाद इस पर लोगों की तीखी प्रतिक्रियाएँ आ रही हैं। लोगों का कहना है कि जब वह खुद यह कह रहे हैं कि वह पाकिस्तानी हैं तो उन्हें भारत में रहने का अधिकार नहीं, उन्हें पाकिस्तान भेज दिया जाए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe