Wednesday, June 23, 2021
Home रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा लद्दाख में 43 साल बंद रहा एयरस्ट्रिप, 2008 में वायुसेना ने खोला तो UPA...

लद्दाख में 43 साल बंद रहा एयरस्ट्रिप, 2008 में वायुसेना ने खोला तो UPA सरकार ने पूछा- क्यों किया ऐसा?

दौलत बेग ओल्डी एयरस्ट्रिप। चीन के साथ हालिया तनाव के बीच सामरिक रूप से बेहद अहम। लेकिन, यह 43 साल बंद रहा। 5 बार इसे शुरू करने की अनुमति नहीं दी गई। फिर वायुसेना ने सरकार बिना बताए इसे शुरू करने का फैसला लिया।

आपने दौलत बेग ओल्डी एयरस्ट्रिप का नाम सुना है? यह लद्दाख में है। चीन के साथ हालिया तनाव के बीच इसी स्ट्रिप का इस्तेमाल कर इलाके में सैनिकों की तैनाती की गई थी। सेना को लॉजिस्टिक्स सपोर्ट समय से पहुॅंचाने के लिहाज से यह बेहद महत्वपूर्ण एयरस्ट्रिप है।

लेकिन, आपको यह जानकर हैरानी होगी यह एयरस्ट्रिप 43 साल तक बंद रही थी। 2008 में वायुसेना ने इसे दोबारा शुरू किया। तत्कालीन सरकार को जानकारी दिए बिना। सरकार को तब बताया गया, जब यह काम पूरा हो गया। इसके बाद सरकार ने पूछा कि ऐसा क्यों किया? 2008 में मनमोहन सिंह की अगुवाई में केंद्र में UPA की सरकार हुआ करती थी।

बता दें कि लद्दाख का दौलत बाग ओल्डी (DBO) दुनिया की सबसे ऊँची एयरस्ट्रिप है। यह 16,614 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। इसे एडवांस लैंडिंग ग्राउंड भी कहा जाता है। यह एयरस्ट्रिप 1965 से 2008 के बीच नॉन-ऑपरेशनल रहा था। 

मई 2008 में वायु सेना के तत्कालीन वाइस चीफ एयर मार्शल (retd) प्रणब कुमार बारबोरा ने इस एयरस्ट्रिप को फिर से शुरू किया। उन्होंने यहाँ पर AN-32 विमान की लैंडिंग करवाई। पीके बारबोरा उस समय पश्चिमी वायु कमांड के कमांडर इन चीफ थे। यह मिशन पूरी तरह से गुप्त था। कोई लिखित आदेश नहीं था और यहाँ तक कि तत्कालीन रक्षा मंत्री एके एंटनी को भी अँधेरे में रखा गया था। उन्हें भी मिशन पूरा होने के बाद ही पता चला था।

पीके बारबोरा ने इकोनॉमिक टाइम्स को दिए इंटरव्यू में इसका खुलासा किया कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया। जब उनसे 43 साल बाद एयरस्ट्रिप को फिर से चालू करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि सबसे पहली बात कि यह दुनिया का सबसे ऊँचा लैंडिंग ग्राउंड है। दूसरा, यह काराकोरम दर्रे से कुछ ही किलोमीटर दूर है। एयरस्ट्रिप का निर्माण 1962 में चीनियों की गतिवियों की जाँच साथ ही ग्लेशियर की तरफ से पाकिस्तान से किसी भी तरह की घुसपैठ को रोकने के लिए किया गया था। लेकिन लैंडिंग ग्राउंड को 1965 में छोड़ना पड़ा। हालाँकि वहाँ सामग्री भेजने के लिए हेलिकॉप्टरों को भेजना जारी रखा गया था।

यह पूछे जाने पर कि 1965 में इस एयरस्ट्रिप को क्यों छोड़ना पड़ा, तो उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा कि 1962 के युद्ध के बाद, सेना के इंजीनियरों ने इस लैंडिंग ग्राउंड को बनाने में एक शानदार काम किया, लेकिन उस ऊँचाई पर किसी भी दो इंजन वाले विमान को नहीं उतारने का निर्णय लिया गया। क्योंकि टेक-ऑफ के दौरान, यदि एक इंजन विफल हो जाता है, तो सभी मारे जाते।

उस समय, Packet एकमात्र विमान था जो दौलत बेग ओल्डी के लिए उपयुक्त पाया गया था, चूँकि दो इंजन वाले विमानों में एक और छोटे इंजन को जोड़कर संशोधित किया गया था, तो व्यावहारिक रूप से यह तीन इंजनों वाला विमान था। लेकिन 1965 में Packet का लाइफ साइकल पूरा होते ही एयरस्ट्रिप का इस्तेमाल भी बंद हो गया। उन्होंने बताया कि इलाका अभी भी शत्रुतापूर्ण बना हुआ है। वहाँ ऑक्सीजन कम है, कोई वनस्पति नहीं है। चौकी तक पहुँचने के लिए कर्मियों को कई दिनों तक पैदल चलना पड़ता था।

इंटरव्यू के दौरान उनसे पूछा गया कि ऐसे में जब चीन की तरफ से लगातार धमकियाँ मिल रही हैं, तो फिर 43 साल में दौलत बेग ओल्डी को फिर से सक्रिय करने के लिए कोई प्रयास क्यों नहीं किया गया? उन्होंने इसका जवाब देते हुए कहा कि इस बीच कम से कम पाँच बार प्रयास किए गए थे।

वो कहते हैं, “जब मैंने एयरस्ट्रिप को फिर से खोलना चाहा, तो मैंने पाँच फाइलें देखीं। उन फाइलों को देखने के बाद मुझे एहसास हुआ कि अगर मैंने एक और फ़ाइल बनाई और लिखित रूप में अपना अनुरोध रखा, तो मुझे भी आने नहीं बढ़ने दिया जाएगा।। पहले की सभी फाइलें विभिन्न कारणों से ’नहीं’ के साथ बंद कर दी गईं थीं। इसलिए, मैंने बिना किसी लिखित अनुमति के दौलत बेग ओल्डी एयरस्ट्रिप को फिर से खोलने का फैसला किया।”

पीके बारबोरा आगे कहते हैं, “मैंने फैसला किया कि कोई फाइल नहीं बनने दूँगा, कुछ भी लिखित में नहीं होने दूँगा। क्योंकि यदि आप अनुमति माँगते हैं, तो सभी पुरानी फाइलें खँगाली जाएँगी आखिकार जवाब एक और ‘नहीं’ होगा। इसके बजाय, मैंने सेना में अपने समकक्षों से बात की और वायु सेना के अधिकारियों का चयन करके एयरस्ट्रिप और अन्य तैयारियों की स्थिति पर त्वरित अध्ययन किया।”

उन्होंने बताया कि इसके लिए उन्हें कुछ खास बातों का भी ध्यान रखना था। जैसे कि AN-32 को 14,000 फीट से ऊपर नहीं जाना चाहिए। इस तरह लैंडिंग से ज्यादा समस्या टेकऑफ की थी। उन्होंने अपनी सुरक्षा मानदंडों को बढ़ाने के लिए गुपचुप तरीके से विशेष प्रशिक्षण भी लिया। जैसे कि इंजन बंद हो जाए तो क्या करना होगा? बिना इंजन बंद किए टायर को बदलने की आवश्यकता पड़ी तो क्या करना होगा?

पीके बारबोरा कहते हैं, “आखिरकार वह तारीख करीब आ गई। मैंने 31 मई 2008 को वायु सेना के तत्कालीन प्रमुख (एयर चीफ मार्शल फली होमी मेजर) और दिल्ली के वायु सेना के गोल्फ कोर्स में सेना प्रमुख (जनरल दीपक कपूर) से बात की और उनकी मौखिक अनुमति ली। मैंने एयर स्टाफ के तत्कालीन उपाध्यक्ष प्रदीप नाइक को भी जानकारी दी। मगर रक्षा मंत्री (एके एंटनी) को तब ही पता चला था जब हमने मिशन पूरा कर लिया था।”

क्या हुआ था उस दिन?

पीके बारबोरा ने ET को बताया, “विमान में हम पाँच लोग थे – दो वायु सेना के पायलट, एक नेविगेटर, एक गनर और मैं। हमने चंडीगढ़ से AN -32 को उड़ाया। हम सुबह नौ बजे से पहले दौलत बेग ओल्डी पर उतरे। हमने पूरे ऑपरेशन को गुप्त रखा। मेरी पत्नी को किसी तरह भनक लग गई था, लेकिन अन्य चालक दल की पत्नी को मिशन के बारे में कुछ भी पता नहीं था।”

वो आगे कहते हैं, “हमने कुछ समय शीर्ष पर बिताया। लौटते समय सेना के एक बड़े अधिकारी हमारे साथ थे। जब हमने दौलत बेग ओल्डी से उड़ान भरी, तो यह एक ऊँचे मैदान पर ऊँट की सवारी की तरह था। लेकिन हमने विमान को सफलतापूर्वक उतार दिया। हमारे विमान की निगरानी के लिए एक अतिरिक्त विमान था। हम तुरंत दिल्ली पहुँचे। हाँ, हमने दौलत बेग ओल्डी को फिर से शुरू कर दिया था।”

अंत में वो कहते हैं, “हमने साबित किया कि हम सक्षम थे। हमने चीनियों को चौंका दिया। बाद में, 2013 में, एक चार इंजन वाला विमान C-130 हरक्यूलिस वहाँ उतरा। यह अब 2020 है, 1962 नहीं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत ने कोरोना संकटकाल में कैसे किया चुनौतियों का सामना, किन सुधारों पर दिया जोर: पढ़िए PM मोदी का ब्लॉग

भारतीय सार्वजनिक वित्त में सुधार के लिए हल्का धक्का देने वाली कहानी है। इस कहानी के मायने यह हैं कि राज्यों को अतिरिक्त धन प्राप्त करने के लिए प्रगतिशील नीतियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

पल्स पोलियो से टीके को पिटवा दिया अब कॉन्ग्रेस के कोयला स्कैम से पिटेगी मोदी की ईमानदारी: रवीश कुमार

ये व्यक्ति एक ऐसा फूफा है जो किसी और के विवाह में स्वादिष्ट भोजन खाकर यह कहने में जरा भी नहीं हिचकेगा कि; भोजन तो बड़ा स्वादिष्ट था लेकिन अगर नमक अधिक हो जाता तो खराब हो जाता। हाँ, अगर विवाह राहुल गाँधी का हुआ तो...

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘भारत ने किया कश्मीर पर कब्जा, इस्लाम ने दिखाई सही राह’: TISS में प्रकाशित हुए कई विवादित पेपर, फण्ड रोकने की माँग

पेपर में लिखा गया, "...अल्लाह के शरण में जाना मेरे मन को शांत करता है और साथ ही मुझे एक समझ देता है कि चीजों के होने का उद्देश्य क्या था जो मुझे कहीं और से नहीं पता चलता।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"

मॉरीशस के थे तुलसी, कहते थे सब रामायण गुरु: नहीं रहे भारत के ‘सांस्कृतिक दूत’ राजेंद्र अरुण

1973 में 'विश्व पत्रकारिता सम्मेलन' में वो मॉरीशस गए और वहाँ के तत्कालीन राष्ट्रपति शिवसागर रामगुलाम हिंदी भाषा को लेकर उनके प्रेम से खासे प्रभावित हुए। वहाँ की सरकार ने उनसे वहीं रहने का अनुरोध किया।

प्रचलित ख़बरें

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

‘तुम्हारे शरीर के छेद में कैसे प्लग लगाना है, मुझे पता है’: पूर्व महिला प्रोफेसर का यौन शोषण, OpIndia की खबर पर एक्शन में...

कॉलेज के सेक्रेटरी अल्बर्ट विलियम्स ने उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया। जोसेफिन के खिलाफ 60 आरोप लगा कर इसकी प्रति कॉलेज में बँटवाई गई। एंटोनी राजराजन के खिलाफ कार्रवाई की बजाए उन्हें बचाने में लगा रहा कॉलेज प्रबंधन।

वो ब्राह्मण राजा, जिनका सिर कलम कर दिया गया: जिन मुस्लिमों को शरण दी, उन्होंने ही अरब से युद्ध में दिया धोखा

राजा दाहिर ने जब कई दिनों तक शरण देने की एवज में खलीफा के उन दुश्मनों से मदद माँगी, तो उन्होंने कहा, "हम आपके आभारी हैं, लेकिन हम इस्लाम की फौज के खिलाफ तलवार नहीं उठा सकते। हम जा रहे हैं।"

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,519FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe