Wednesday, July 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनो-बॉल की रट लगा रहे शोएब अख्तर को भारतीय फैंस ने लताड़ा, अंपायरों को...

नो-बॉल की रट लगा रहे शोएब अख्तर को भारतीय फैंस ने लताड़ा, अंपायरों को कर रहे थे बदनाम: लोगों ने ग्राफिक दिखा-दिखा कर समझाया

इस नो-बॉल की फोटो पोस्ट करते हुए अख्तर ने लिखा, "अंपायर भाइयों, आज रात सोच-विचार करने के लिए आपके लिए खाना।"

भारत-पाक‍िस्‍तान के बीच क्रिकेट मैच हो और कोई विवाद न हो, इसकी उम्‍मीद कम ही होती है। अगर वर्ल्‍ड कप जैसा बडा आयोजन हो तो, दोनों देशों की धडकनें थम सी जाती है। पाकिस्‍तान का वर्ल्‍ड कप में भारत से हारने का सिलसिला बहुत पुराना रहा है। रविवार को शानदार मैच में विराट कोहली ने कर‍िश्‍माई बैटिंग से टीम इंडिया को जीत दिला दी थी। पाक‍िस्‍तान हर बार हार के बाद नया बहाना बनाता है। इस बार यह कमान संभाली है पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्‍तर ने। अख्‍तर ने टवीट कर अंपायर के फैसले पर ही सवाल खड़ा कर दिया है।

दरअसल आखिरी ओवर में अंपायर ने मोहम्मद नवाज की गेंद को नो-बॉल करार दिया। गेंद विराट के कमर से ऊपर थी। उस गेंद पर कोहली ने छक्का लगाया और भारत को फिर फ्री हिट भी मिला। इस नो-बॉल की फोटो पोस्ट करते हुए अख्तर ने लिखा, “अंपायर भाइयों, आज रात सोच-विचार करने के लिए आपके लिए खाना।”

वहीं एक यूजर समीर ठकरान ने शोएब अख्तर को आईना दिखाते हुए कहा, ”गेंद का प्रभाव बिंदु कमर रेखा से ऊपर है। इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन अगर थोड़ा भी संदेह था तो आपको पता होना चाहिए कि संदेह का लाभ बैटर को जाता है। लोगों को हार के लिए फॉल मैन खोजने के बजाय अंपायरों का सम्मान करना सीखना चाहिए!”

एक और यूजर ने शोएब को जवाब देते हुए ग्राफिक शेयर करते हुए कहा, सर, सर,सर यह स्‍पष्‍ट रूप से कमर के उपर है। क्‍यों इसपर इतनी बात हो रही है, यह समझ से परे है।

160 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी। कप्तान रोहित शर्मा (4) समेत केएल राहुल (4), सूर्यकुमार यादव (15) और अक्षर पटेल (2) सस्ते में पवेलियन लौट गए थे। भारत ने एक समय पर 31 रन पर चार विकेट गंवा दिए थे। फिर चला विराट और हार्दिक पटेल का जादू । दोनों बल्लेबाजों ने शतकीय साझेदारी कर टीम को जीत दिलाई। कोहली 53 गेंदों पर 6 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 82 रन बनाकर नाबाद रहे ।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘गवाहों के हस्ताक्षर नहीं, खुद ही गढ़ दिया नम्बी नारायणन का भी बयान’: CBI की चार्जशीट में खुलासा – केरल पुलिस और IB को...

CBI की चार्जशीट में कहा गया है कि केरल पुलिस और IB अधिकारियों को ये पूरी तरह पता था कि जासूसी के सबूत नहीं हैं, फिर भी गिरफ़्तारी की गई।

मुस्लिम आबादी में विस्फोट से लेकर ‘अल्पसंख्यक मोर्चा’ तक पर भाजपाई मुखर: सुवेंदु बोले- जो हमारे साथ हम उसके साथ, असम के CM ने...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि उनके राज्य में 1951 में 12% मुस्लिम थे जबकि उनकी संख्या अब बढ़ कर 40% हो चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -