Tuesday, April 13, 2021
Home देश-समाज फाँसी के फँदे तक पहुँचा सलीम-शबनम का प्यार, 12 साल पहले कुल्हाड़ी से काटा...

फाँसी के फँदे तक पहुँचा सलीम-शबनम का प्यार, 12 साल पहले कुल्हाड़ी से काटा था पूरे परिवार का गला

चीफ जस्टिस ने कहा कि हम समाज के लिए न्याय करते हैं। हम ऐसे अपराधी, जिसको दोषी ठहराया जा चुका है, उसे इसलिए माफ नहीं कर सकते क्योंकि दूसरे अपराधियों के साथ उसका व्यवहार अच्छा है।

उत्तर प्रदेश के अमरोहा में अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर अपने पूरे परिवार का सिर कलम करने वाली शबनम की खूनी दास्तां अब अंत के कगार पर है। निचली अदालत द्वारा फाँसी की सजा पाने के बाद शबनम और सलीम ने सुप्रीम कोर्ट में फाँसी माफी के लिए पुनर्विचार याचिका दायर की थी। इस पर चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस संजीव खन्ना की पीठ ने गुरुवार (23 जनवरी) को सुनवाई पूरी करके अपना फैसले को सुरक्षित रख लिया

जानकारी के मुताबिक, सुनवाई के दौरान शबनम की वकील ने उसके अपराध को जस्टिफाई करने का पूरा प्रयास किया। उन्होंने जजों के आगे दलील रखी कि उसका जेल में बर्ताव अच्छा है। वह जेल के स्कूल के बच्चों को पढ़ाती है, साथ ही जेल के कई सामाजिक कार्यक्रमों में शामिल होती है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने उनसे कहा कि आप कह रही हैं कि 10 महीने के बच्चे को मारने के बाद उसके व्यवहार में बदलाव आया है? चीफ जस्टिस ने कहा कि हम समाज के लिए न्याय करते हैं। हम ऐसे अपराधी, जिसको दोषी ठहराया जा चुका है, उसे इसलिए माफ नहीं कर सकते क्योंकि दूसरे अपराधियों के साथ उसका व्यवहार अच्छा है। बता दें सुप्रीम कोर्ट ने इस दौरान याचिकाकर्ता की वकील को हड़काते हुए ये भी कहा कि वे सुप्रीम कोर्ट का कोई फैसला दिखाएँ, जिसमें जेल के अच्छे आचरण के कारण फाँसी की सज़ा को कम किया गया हो।

सलीम-शबनम के प्रेम की खूनी दास्तां

साल 2018 में 14-15 अप्रैल को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के अमरोहा में एक सनसनीखेज मामला सामने आया था। यहाँ जिले के बावनखेड़ी गाँव के मास्टर शौकत अली की बेटी शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर अपने ही परिवार के 7 सदस्यों को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया था। एमए पास शबनम उस समय गाँव के स्कूल में शिक्षा मित्र थीं। मास्टर शौकत उसकी शादी किसी पढे़-लिखे लड़के से करना चाहते थे। लेकिन, शबनम का दिल अपने गाँव के 8वीं पास सलीम पर आ चुका था। दोनों का प्यार इतना परवान चढ़ा कि शबनम ने अपने घरवालों को नशे की दवाई देकर सलीम को हर रात घर पर बुलाना शुरू कर दिया। कुछ दिनों में दोनों ने परिवार को बाधा मानकर उन्हें खत्म करने की साजिश रची और फिर एक रात इस खौफनाक वारदात को अंजाम दे दिया।

14 अप्रैल, 2008 की रात को शबनम ने प्रेमी सलीम को घर बुलाया। इससे पहले उसने परिवार के सदस्यों को खाने में नींद की गोली खिलाकर सुला दिया था। उस दिन शबनम की फुफेरी बहन राबिया भी उनके घर आई हुई थी। रात में शबनम व सलीम ने मिलकर नशे की हालत में सो रहे पिता शौकत, माँ हाशमी, भाई अनीस, राशिद, भाभी अंजुम, फुफेरी बहन राबिया व दस माह के भतीजे अर्श का गला काट कर सबको मौत की नींद सुला दिया था।

इस घटना को अंजाम देने के बाद सलीम वहाँ से फरार हो गया, लेकिन शबनम पूरी रात लाशों के बीच रही। सुबह होते ही उसने शोर मचा दिया कि उनके घर में बदमाश आ गए। जब हल्ला सुनकर गाँव वाले उसके घर पहुँचे तो सबके पैरों तले जमीन खिसक गई। 10 महीने के बच्चे के शव के साथ शौकत अली और उनका पूरा परिवार कटे सिर के साथ जमीन पर पड़ा था। दिन निकलने तक ये मामला गाँव बावनखेड़ी देशभर में छा गया। तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती भी गाँव पहुँची थीं। मामले की जाँच में घटना के हालात देखते हुए शबनम पर ही शक की सुई गई।

इसके बाद घटना के चौथे दिन पुलिस ने शबनम व सलीम को हिरासत में लिया और उनसे पूछताछ की। उनकी मोबाइल की कॉल डिटेल से सारा मामला साफ हो गया। दोनों ने बाद में कबूल किया कि हत्या की इस खौफनाक वारदात को उन्होंने ही अंजाम दिया था। हत्या में इस्तेमाल की गई कुल्हाड़ी भी गाँव के तालाब से बरामद कर ली गई थी। इसके बाद सभी सबूतों के आधार पर स्थानीय अदालत ने दोनों को फाँसी की सजा सुनाई थी।

गौरतलब है कि सलीम और शबनम के चुपके-चुपके मिलने के दौरान कई बार उनके बीच शारीरिक संबंध बन चुके थे। जिस दिन दोनों ने इस वीभत्स घटना को अंजाम दिया उस समय शबनम दो माह की गर्भवती थी। बाद में शबनम ने जेल में ही बेटे को जन्म दिया। उसका नाम मुहम्मद ताज रखा गया। आज उस बच्चे की देखभाल शबनम का एक दोस्त कर रहा है। बच्चे को उसकी माँ से मिलाने के लिए अक्सर उसे जेल लाया जाता है।

शबनम-सलीम की वो प्रेम कहानी जिसने एक ही परिवार के 7 लोगों की जान ले ली

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मरकज से कुम्भ की तुलना पर CM तीरथ सिंह ने दिया ‘लिबरलों’ को करारा जवाब, कहा- एक हॉल और 16 घाट, इनकी तुलना कैसे?

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की तुलना तबलीगी जमात के मरकज से करने वालों को मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने करारा जवाब दिया है।

यूपी पंचायत चुनाव लड़ रहे एक प्रत्याशी के घर से भारी मात्रा समोसे-जलेबी की जब्ती, दक्षिण भारत में छिड़ा घमासान

क्या ज़माना आ गया है। चुनाव के मौसम में छापे मारने पर समोसे और जलेबियाँ बरामद हो रही हैं! जब ज़माना अच्छा था और सब ख़ुशी से जीवनयापन करते थे तब चुनावी मौसम में पड़ने वाले छापे में शराब जैसे चुनावी पेय पदार्थ बरामद होते थे।

100 करोड़ की वसूली के मामले में अनिल देशमुख को CBI का समन, 14 अप्रैल को होगी ‘गहन पूछताछ’

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को 100 करोड़ रुपए की वसूली मामले में पूछताछ के लिए समन जारी किया है। उन्हें 14 अप्रैल को जाँच एजेंसी के सामने पेश होना पड़ेगा।

आंध्र या कर्नाटक… कहाँ पैदा हुए रामभक्त हनुमान? जन्म स्थान को लेकर जानें क्यों छिड़ा है नया विवाद

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) द्वारा गठित एक विशेषज्ञ पैनल 21 अप्रैल को इस मामले पर अपनी रिपोर्ट सौंप सकता है। पैनल में वैदिक विद्वानों, पुरातत्वविदों और एक इसरो वैज्ञानिक भी शामिल हैं।

‘गुस्ताख-ए-नबी की इक सजा, सर तन से जुदा’: यति नरसिंहानंद के खिलाफ मुस्लिम बच्चों ने लगाए नारे, वीडियो वायरल

डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद के खिलाफ सोमवार को मुस्लिम बच्चों ने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाए। पिछले हफ्ते आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान ने अपने ट्विटर अकाउंट पर महंत की गर्दन काट देने की बात की थी।

कुम्भ और तबलीगी जमात के बीच ओछी समानता दिखाने की लिबरलों ने की जी-तोड़ कोशिश, जानें क्यों ‘बकवास’ है ऐसी तुलना

हरिद्वार में चल रहे कुंभ की दुर्भावनापूर्ण इरादे के साथ सोशल मीडिया पर सेक्युलरों ने कुंभ तुलना निजामुद्दीन मरकज़ के तबलीगी जमात से की है। जबकि दोनों ही घटनाओं में मूलभूत अंतर है।

प्रचलित ख़बरें

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

जुमे की नमाज के बाद हिफाजत-ए-इस्लाम के कट्टरपंथियों ने हिंसा के लिए उकसाया: हमले में 12 घायल

मस्जिद के इमाम ने बताया कि उग्र लोगों ने जुमे की नमाज के बाद उनसे माइक छीना और नमाजियों को बाहर जाकर हिंसा का समर्थन करने को कहने लगे। इसी बीच नमाजियों ने उन्हें रोका तो सभी हमलावरों ने हमला बोल दिया।

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

बालाघाट में यति नरसिंहानंद के पोस्टर लगाए, अपशब्दों का इस्तेमाल: 4 की गिरफ्तारी पर भड़की ओवैसी की AIMIM

बालाघाट पुलिस ने यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ पोस्टर लगाने के आरोप में मतीन अजहरी, कासिम खान, सोहेब खान और रजा खान को गिरफ्तार किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,167FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe